×

साध्वी प्रज्ञा ने संसद में फिर मांगी माफी, राहुल अपने बयान को नहीं लेंगे वापस

संसद के शीतकालीन सत्र का शुक्रवार को 10वां दिन है। लेकिन संसद में साध्वी प्रज्ञा के गोडसे पर दिए बयान को लेकर संसद में संग्राम मचा हुआ। इस बीच साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने अपने बयान पर लोकसभा में माफी मांग ली है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 29 Nov 2019 7:02 AM GMT

साध्वी प्रज्ञा ने संसद में फिर मांगी माफी, राहुल अपने बयान को नहीं लेंगे वापस
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: भोपाल से बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने तीन घंटे में दूसरी बार संसद में माफी मांगी है। महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने वाले बयान पर विपक्ष ने भारी हंगामा किया था, जिसके बाद शुक्रवार को प्रज्ञा ठाकुर ने माफी मांगी।

लोकसभा में उन्होंने कहा कि मैंने नाथूराम गोडसे को देशभक्त नहीं कहा, फिर भी अगर किसी को ठेस पहुंचती है तो क्षमा चाहती हूं। साध्वी प्रज्ञा ने दोबारा माफी मांगता हुए कहा कि …मैंने 27/11/2019 को SPG बिल पर चर्चा के दौरान नाथूराम गोडसे को देशभक्त नहीं कहा, फिर भी मेरे बयान से किसी को खेद पहुंचा हो तो मैं क्षमा चाहती हूं।

इससे पहले साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने अपने बयान पर सदन में 12 बजे माफी मांग थी। साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि महोदय इस घटनाक्रम में सबसे पहले मेरे बयान से यदि किसी प्रकार से कोई चोट पहुंची हो तो मैं क्षमा चाहती हूं। परन्तु मैं यह भी कहना चाहती हूं कि संसद में मेरे बयानों को तोड़मरोड़कर पेश किया गया। यह निंदनीय है।

यह भी पढ़ें...प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ FIR, बीजेपी ने किया तलब, करेंगी बड़ा ऐलान

उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी द्वारा देश के लिए काम का मैं सम्मान करती हूं। इसी सदन के एक सदस्य द्वारा मुझे सार्वजनिक तौर पर आतंकवादी कहा गया। मेरे खिलाफ अदालत में कोई आरोप सिद्ध नहीं हुआ है।

प्रज्ञा ने कहा कि बिना आरोप साबित हुए मुझे अपमानित किया गया है। एक महिला और साध्वी के सम्मान को ठेस पहुंचाया गया है।

उन्होंने कहा कि मुझे मानसिक और शारीरिक तौर पर प्रताड़ित किया गया है।

यह भी पढ़ें...शिवसेना बोली, मोदी और उद्धव भाई-भाई, राउत ने फडणवीस पर कही ये बड़ी बात

साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि मेरे बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया। उन्होंने कहा कि मैं महात्मा गांधी के विचारों और देश के प्रति उनके योगदान का सम्मान करती हूं।

साध्वी प्रज्ञा के बयान के बाद कांग्रेस के सदस्यों की ओर से हंगामा किया गया। उन्होंने कहा कि अगर इस मसले पर हम राजनीति करेंगे तो फिर पूरे विश्व में सही संदेश नहीं जाएगा।

यह भी पढ़ें...उद्धव के CM बनते ही बुरे फंसे देवेंद्र फडणवीस, कोर्ट ने भेजा समन

साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि बिना आरोप साबित हुए किसी को आतंकी कहना गैर-कानूनी है। प्रज्ञा ठाकुर ने पूर्व की यूपीए सरकार पर भी हमला बोला और कहा कि मुझे बिना वजह प्रताड़ित किया गया। उन्होंने कहा कि मुझे शारीरिक एवं मानसिक यातनाएं दी गईं।

कांग्रेस सदस्यों के हंगामे पर लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने कहा कि अब साध्वी प्रज्ञा ने इस पर माफी मांग ली है और अब इस मसले पर राजनीति नहीं की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि मैंने यह स्पष्ट किया है कि महात्मा गांधी पर कोई भी आपत्तिजनक बात सदन के रिकॉर्ड में नहीं जाएगी।

यह भी पढ़ें...ये सवाल सुनकर आगबबूला हुए CM उद्धव ठाकरे, लिया ये बड़ा फैसला

इस बीच कांग्रेस समेत विपक्ष के तमाम सांसद 'गोडसे डाउन-डाउन' और 'महात्मा गांधी की जय' के नारे लगाए। तो वहीं बीजेपी सांसदों ने कहा कि राहुल गांधी ने एक महिला सांसद को आतंकवादी कहना गैर-कानूनी है और इसके लिए माफी मांगनी चाहिए। बीजेपी सांसदों ने कहा कि राहुल गांधी के इस बयान के खिलाफ विशेषाधिकार प्रस्ताव लाया जाना चाहिए।

तो वहीं कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने साफ कर दिया है कि वह साध्वी प्रज्ञा पर दिए गए बयान को वापस नहीं लेंगे। उन्होंने कहा कि मैंने अपनी स्थिति साफ कर दी है। मैं अपने बयान पर कायम हूं और माफी नहीं मागूंगा।

राहुल ने दिया था ये बयान

बता दें कि राहुल गांधी ने साध्वी प्रज्ञा के गोडसे पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा था कि आतंकी प्रज्ञा ने आतंकी गोडसे को देशभक्त कहा है। भारत के संसदीय इतिहास में यह दुखद दिन है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story