PM मोदी ने ‘वीर बच्चों’ से स्मृति ईरानी को लेकर किया ये सवाल, लगने लगे ठहाके

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार प्राप्त करने वाले बच्चों से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने बच्चों को संबोधित किया, वहीं उनके संग हंसी ठिठोली भी की।

दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने शुक्रवार को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार (Bal Puraskar winners) प्राप्त करने वाले बच्चों से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने बच्चों को संबोधित किया, वहीं उनके संग हंसी ठिठोली भी की। पीएम मोदी ने बच्चों को जीवन में आगे बढ़ने के तरीके भी बताये। वहीं इस मौके पर उन्होंने मंत्री स्मृति ईरानी का जिक्र किया तो मौजूद बच्चे ठहाके लगाकर हंसने लगे।

राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से सम्मानित बच्चों संग पीएम ने की बात:

शुक्रवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित बच्चों के लिए कार्यक्रम का आयोजन हुआ, जिसमें पीएम मोदी ने 49 बाल विजेताओं के साथ बातचीत की। ये 49 पुरस्कृत बच्चे देश के विभिन्न राज्यों के हैं, जिनमें एक-एक पुरस्कृत बच्चा जम्मू एवं कश्मीर, मणिपुर और अरूणाचल प्रदेश का है। इन बच्चों ने कला एवं संस्कृति, नवाचार, प्रतिभा, समाज सेवा, खेल और बहादूरी जैसे क्षेत्रों में पुरस्कार प्राप्त किया है।

पीएम ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि समाज, राष्ट्र और ड्यूटी के लिए आपको समर्पित देखकर गर्व है। उन्होंने कहा, ‘बच्चों को कभी मेहनत से पीछे नहीं हटना चाहिए। उन्होंने बच्चों से पानी पीने का तरीका पूछ लिया। उन्होंने बच्चों से कहा, ‘पानी हमेशा बैठकर ही पीना चाहिए। उन्होंने कहा कि छोटी चीज है, उसका शास्त्र कोई समझएगा और मैं उसके चक्कर में नहीं पड़ना चाहता हूं।’

ये भी पढ़ें:महाराष्ट्र में घमासान! अब फोन टैपिंग में सरकार परेशान, जानें क्या है मामला

पीएम के सवाल पर बच्चों ने मारे ठहाके:

वहीं बातों बातों में पीएम ने बच्चों से पूछा, ‘कौन सी, सास भी कभी बहु थीं?’ बस इतना सुनकर बच्चों ने ठहाके मार कर हंसना शुरू कर दिया। बता दें कि इस दौरान कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्री स्मृति इरानी भी मौजूद थे। उनके सीरियल के जरिये पीएम ने बच्चों के साथ हंसी ठिठोली की।

ये भी पढ़ें:यूपी दिवस: 70 साल का हुआ प्रदेश, इतना बड़ा कि अकेले बन जाए दुनिया का ‘छठा देश’

सरकार हर साल विभिन्न क्षेत्रों में शानदार प्रदर्शन करने वाले बच्चों को करती है सम्मानित:

गौरतलब है कि भारत सरकार राष्ट्र निर्माण में बच्चों की महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार करती है। उनकी आशाओं और आकांक्षाओं को मान्यता देकर उनकी उपलब्धियों को पुरस्कृत किया जाता है। सभी बच्चे महत्वपूर्ण हैं और उनकी उपलब्धियों की सराहना की जानी चाहिए। विभिन्न क्षेत्रों में बच्चों की शानदार उपलब्धियों के लिए हर वर्ष सरकार उन्हें पुरस्कार प्रदान करती है।

ये भी पढ़ें :अब JIO को पछाडेगी ये कंपनी, 1 रुपये में देगी एक GB डाटा