हुआ बड़ा ऐलान: लड़कियों की शादी की उम्र में परिवर्तन, सरकार लेगी फैसला

पीएम नरेंद्र मोदी ने लड़कियों की शादी को लेकर जरूरी संकेत दिए हैं। इसमे इस बात के संकेत दिए हैं कि आने वाले दिनों में लड़कियों की शादी करने की न्यूनतम आयु बढ़ाई जा सकती है।

GIRLS MARRIAGE

हुआ बड़ा ऐलान: लड़कियों की शादी की उम्र में परिवर्तन, सरकार लेगी फैसला

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी ने लड़कियों की शादी को लेकर जरूरी संकेत दिए हैं। इसमे इस बात के संकेत दिए हैं कि आने वाले दिनों में लड़कियों की शादी करने की न्यूनतम आयु बढ़ाई जा सकती है। ऐसे में 74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले से देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि सरकार ने इसको लेकर एक कमेटी बनाई है और उनके सुझावों को ध्यान में रखते हुए सरकार जल्द ही फैसला ले सकती है।

ये भी पढ़ें… हिल गई धरती: भूकंप के ताबड़तोड़ झटकों से कांपा देश, दहशत में आए लोग

बेटियों की शादी के लिए न्यूनतम आयु

आपको बता दें कि भारत में इस समय लड़कियों के लिए शादी की न्यूनतम उम्र 18 साल है, लेकिन आज के पीएम मोदी के संबोधन से ऐसे संकेत मिल रहे हैं इसे बढ़ा कर 21 साल किया जा सकता है।

देश को लाल किले से संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘हमने अपनी बेटियों की शादी के लिए न्यूनतम आयु पर पुनर्विचार करने के लिए कमेटी का गठन किया है। इस कमेटी की तरफ से रिपोर्ट दिए जाने के बाद हम इस पर उचित फैसला लेंगे। कमेटी उन प्रयासों को भी देखेगी जो लड़कियों में कुपोषण को कम करने के लिए उठाए जा सकते हैं।

pm-modi

ये भी पढ़ें… गुफा में बंद परिवार: सालों बाद भी इन्हें नहीं मिली आजादी, यहां बीता रहे जीवन

शादी की न्यूनतम आयु 18 साल

जानकारी देते हुए बता दें कि सन् 1978 से भारत में लड़कियों की शादी की न्यूनतम आयु 18 साल है। इस साल जून में भारत सरकार ने इसकी समीक्षा के लिए एक कमेटी का गठन किया था।

सरकार का इसके पीछे का उद्देश्य मातृत्व मृत्युदर में कमी लाना है। साथ ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस साल अपने बजट भाषण में कहा था कि महिला के मां बनने की सही उम्र के बारे में सलाह देने के लिए एक टास्क फोर्स बनाई जाएगी।

PREGNANCY

ये भी पढ़ें…पाकिस्तान-चीन पर बवाल: सड़क पर आए लाखों लोग, आग के साथ आए सभी

बाल विवाह को पूरी तरह से अवैध

के्ंद्र सरकार के इस संकेत के पीछ सुप्रीम कोर्ट का एक फैसला भी है। अक्टूबर 2017 में कोर्ट ने कहा था कि वैवाहिक बलात्कार से लड़की को बचाने के लिए बाल विवाह को पूरी तरह से अवैध माना जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने विवाह के लिए न्यूनतम उम्र के बारे में फैसला लेने का काम सरकार पर छोड़ दिया था।

वहीं यूनिसेफ के आंकड़ों के अनुसार, भारत में 27 प्रतिशत लड़कियों की शादी 18 साल की आयु से पहले और 7 प्रतिशत लड़कियों की शादी 15 साल की उम्र से पहले हो जाती है। जिसके चलते इसके बदलाव लेने का संकेत मिल रहा है।

ये भी पढ़ें…विधायक का बड़ा हादसा: अचानक सड़क पर पलट गई कार, तुरंत बचाने पहुंचे लोग

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App