राष्ट्रपति ने कहा, बदलावों से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों को होगा फायदा

73वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में देश के लोगों को शुभकामनाएं दी हैं। राष्ट्रपति ने देश के सभी नागरिकों से अपील की कि राष्ट्र निर्माण और देश को नई ऊंचाई पर ले जाने में सभी अपने स्तर पर प्रयास करें।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बोले- देश के संसाधनों पर सबका बराबर हक,बहुलता सबसे बड़ी ताकत

नई दिल्ली: 73वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में देश के लोगों को शुभकामनाएं दी हैं। राष्ट्रपति ने देश के सभी नागरिकों से अपील की कि राष्ट्र निर्माण और देश को नई ऊंचाई पर ले जाने में सभी अपने स्तर पर प्रयास करें।

अपने संबोधन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म किए जाने का भी जिक्र किया और कहा कि इस कदम से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों को फायदा मिलेगा। उन्होंने कहा कि सरकार लोगों की आशाओं, आकांक्षाओं को पूरा करने की दिशा में काम कर रही है।

यह भी पढ़ें…इस मंदिर में प्रार्थना करने से टल जाती है मौत, पूरी होती है सभी मनोकामना

बदलाव से जम्मू-कश्मीर के लोगों को फायदा

राष्ट्रपतिने कहा, प्यारे देशवासियो, जिस महान पीढ़ी के लोगों ने हमें आजादी दिलाई, उनके लिए स्वाधीनता सिर्फ राजनीतिक सत्ता हासिल करने तक सीमित नहीं थी। उनका उद्देश्य प्रत्येक व्यक्ति के जीवन और समाज की व्यवस्था को बेहतर बनाना भी था। इस संदर्भ में मुझे विश्वास है कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लिए हाल ही में किए गए बदलावों से वहां के निवासी बहुत ही लाभान्वित होंगे।’

अब मिलेंगे सभी अधिकार

राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में आगे कहा कि वे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोग भी अब उन सभी अधिकारों और सुविधाओं का लाभ उठा पाएंगे जो देश के दूसरे हिस्से के लोगों को मिलती हैं। वे भी अब समानता को बढ़ावा देने वाले प्रगतिशील कानूनों और प्रावधानों का उपयोग कर सकेंगे।

शिक्षा का अधिकार कानून लागू होने से सभी बच्चों के लिए शिक्षा सुनिश्चित की जा सकेगी। सूचना का अधिकार मिल जाने से अब वहां के लोग जनहित से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। पारंपरिक रूप से वंचित रहे वर्गों के लोगों को शिक्षा और नौकरी में आरक्षण समेत अन्य सुविधाएं मिल सकेंगी। और तीन तलाक जैसे अभिशाप के समाप्त हो जाने से वहां की हमारी बेटियों को भी न्याय मिलेगा और भयमुक्त जीवन का अवसर मिलेगा।’

यह भी पढ़ें…कांपे पाक पीएम इमरान, पीओके पर मोदी सरकार लेगी ये बड़ा फैसला

आशाओं, आकांक्षाओं को पूरा करने में लगी है सरकार

राष्ट्रपति ने कहा, ‘130 करोड़ भारतवासी अपनी कौशल, प्रतिभा और इनोवेशन के जरिए विकास के और ज्यादा अवसर पैदा कर सकते हैं। सरकार लोगों की आशाओं, आकांक्षाओं को पूरा करने में लोगों का सहयोग कर रही है।’ उन्होंने कहा, ‘सरकार अनेक बुनियादी सुविधाएं प्रदान कर रही है। गरीब से गरीब लोगों के लिए घर बनाकर और हर घर में बिजली, शौचालय और पानी की सुविधा देकर सरकार बुनियादी ढांचे को मजबूत बना रही है। हर देशवासी के घर तक नल के जरिए पेयजल पहुंचाने और हर किसान को सिंचाई का जल पहुंचाने पर विशेष बल दिया जा रहा है। जल सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए केंद्र, राज्य सरकारों के साथ-साथ सभी नागरिकों की अहम भूमिका रहेगी। रेल यात्रा को सुरक्षित बनाया जा रहा है। मेट्रो सेवा का विस्तार किया जा रहा है।’

यह भी पढ़ें…कश्मीर का खौफ: नेता जी भाग रहे थे छोड़कर देश, धरे गए एयरपोर्ट पर

गुरु नानकजी के 550वें जयंती वर्ष पर भी दीं शुभकामनाएं

राष्ट्रपति ने कहा कि इस साल 2 अक्टूबर को गांधीजी की 150वीं जयंती मनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि गांधीजी का मार्गदर्शन आज भी प्रासंगिक हैं। वह मानते थे कि हमें प्रकृति के संसाधनों का इस्तेमाल विवेक से करना चाहिए। वर्तमान में चल रहे हमारे अनेक प्रयास गांधीजी के विचारों को ही यथार्थ रूप देते हैं। अनेक कल्याणकारी कार्यक्रम गांधीजी के सोच के अनुरुप है। इसके अलावा राष्ट्रपति ने गुरु नानकजी के 550वीं जयंती वर्ष पर भी उनके अनुयायियों को शुभकामनाएं दीं।