CAA पर बड़ी खबर: अब पास हुआ ये प्रस्ताव, तो सीएम ने किया ऐसा ऐलान

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा कि केरल में धर्मनिरपेक्षता, यूनानियों, रोमन, अरबों का एक लंबा इतिहास है, हर कोई हमारी भूमि पर पहुंच गया। ईसाई और मुसलमान शुरुआत में केरल पहुंचे। हमारी परंपरा समावेशी है।

नई दिल्ली: आखिकार नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर केरल की राज्य सरकार ने पूर्ण रूप से खिलाफत करते हुए विधानसभा में विरोध प्रस्ताव पेश कर दिया है। केरल राज्य के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने मंगलवार को CAA के खिलाफ प्रस्ताव पेश किया जो सदन में पास भी हो गया।

ये भी देखें : सल्लू की बहनिया ही नहीं, इन दिग्गज एक्टर्स के घर भी आईं खुशियां

हमारी परंपरा समावेशी है, केरल में कोई डिटेंशन सेंटर नहीं बनेगा

प्रस्ताव पेश करने के दौरान मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा कि केरल में धर्मनिरपेक्षता, यूनानियों, रोमन, अरबों का एक लंबा इतिहास है, हर कोई हमारी भूमि पर पहुंच गया। ईसाई और मुसलमान शुरुआत में केरल पहुंचे। हमारी परंपरा समावेशी है। मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि केरल में कोई डिटेंशन सेंटर नहीं बनेगा।’ विधानसभा में कांग्रेस, सीपीआई (एम) ने पिनराई द्वारा पेश किये गए प्रस्ताव का समर्थन किया।

सीएए, आर्टिकल 13, 14 और 15 का स्पष्ट उल्लंघन

इस प्रस्ताव के सीपीआईएम के विधायक जेम्स मैथ्यू, कांग्रेस विधाक वीडी सतीशन, सीपीआई के सी दिवाकरन ने समर्थन दिया। कांग्रेस विधायक वीडी सतीशन ने कहा कि एनआरसी और सीएए, एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। सीएए, आर्टिकल 13, 14 और 15 का स्पष्ट उल्लंघन है।’ सीपीआई विधायक दिवाकरन ने कहा कि असेंबली को इस तरह के प्रस्ताव को पेश करने के लिए मजबूर किया जाता है। भारत में बड़े पैमाने पर ऐसा विरोध कभी नहीं देखा गया। यह प्रस्ताव पेश कर दुनिया को संदेश भेजा जा रहा है।’

ये भी देखें : PCS की तैयारी करने वालों के लिए बुरी खबर, आयोग ने उठाया ये बड़ा कदम

बीजेपी विधायक ओ राजगोपाल ने प्रस्ताव का विरोध किया

हालांकि, केरल में बीजेपी विधायक ओ राजगोपाल ने प्रस्ताव का विरोध किया। उन्होंने कहा कि राजनीति की संकीर्ण मानसिकता का प्रतीक है। इससे पहले संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर कई गैर भाजपा शासित राज्यों के विरोध के बीच केंद्र ने सोमवार को कहा कि राज्यों को कानून लागू करना होगा क्योंकि संसद ने इसे मंजूरी दी है ।

ये भी देखें : गजब का संयोग: देश की सुरक्षा की कमान तीन दोस्तों के हाथ

संविधान के तहत राज्यों को इसे (सीएए) लागू करना होगा- अर्जुन राम मेघवाल

संसदीय कार्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने सीएए पर केंद्र के साथ भाजपा के दृष्टिकोण से अवगत कराने के लिए कहा कि संविधान के तहत राज्यों को इसे (सीएए) लागू करना होगा। मंत्री ने यह भी कहा कि राज्यों को राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (एनपीआर) को भी लागू करना होगा, जो कि जनगणना का हिस्सा है। उनके बयान के एक दिन पहले केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन द्वारा विभिन्न राजनतिक दलों और सामाजिक धार्मिक संगठनों की बैठक में विवादास्पद कानून के खिलाफ संयुक्त प्रदर्शन करने का फैसला किया गया था।