राज ठाकरे के विवादित बोल: तब्लीगियों पर कही ऐसी बात, अब शुरू हुआ विवाद

हमेशा अपने बयानों से सुर्ख़ियों में रहने वाले MNS प्रमुख राज ठाकरे ने तब्लीगियों को लेकर भड़काऊ बयान दिया है। ठाकरे ने तब्लीगियों को गोली मरने की बात कही है।

कोरोना के प्रकोप के बीच देश में जबसे तबलीगी जमात का मामला सामने आया है तबसे देश में लगातार हडकंप मचा है। तबलीगियों ने ऐसे समय में जो किया वो सरासर गलत है। उनकी एक गलती का खामियाजा अब पूरा देश भुगत रहा है। क्योंकि जमात में शामिल हुए लोग अब देश के आग अलग कोनों में हैं। और वो जहां भी हैं उनसे कोरोना का खतरा है। ऐसे में हर कोई उनकी आलोचना कर रहा है। अब ऐसे में हमेशा अपने बयानों से सुर्ख़ियों में रहने वाले MNS प्रमुख राज ठाकरे ने तब्लीगियों को लेकर भड़काऊ बयान दिया है।

तब्लीगियों को पीट कर वीडियो करें वायरल

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि जो लोग इस वक्त मरकज जैसे समारोह में हिस्सा ले रहे हैं उन्हें गोली मार देनी चाहिए। ठाकरे ने मरकज में शामिल होने वाले लोगों के इलाज पर भी सवाल उठाया। मनसे प्रमुख ने कहा कि अगर इस वक्त किसी को लगता है कि इस संकट से बड़ा धर्म है और कोई इस बीमारी को फैलाने की साजिश रच रहा है तो उन्हें पीटा जाना चाहिए और ऐसे वीडियो को वायरल किया जाना चाहिए। ठाकरे का बयान लगातार सुर्ख़ियों में है।

ये भी पढ़ें-  ताड़का का वध करना नहीं चाहते थे ‘श्रीराम’

ठाकरे ने लॉकडाउन को लेकर गंभीरता दिखाने को लोगों से कहा। ठाकरे ने कहा यदि लोगों ने लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं लिया तो ये और बढ़ेगा और उद्योगों पर बुरा असर पड़ेगा, जिससे आर्थिक संकट पैदा होगा।

ये है ठाकरे का पूरा बयान

तबलीगी जमात के मरकज में शामिल होने परआपत्ति जताते हुए मनसे प्रमुख ने कहा, “मरकज जैसे कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोगों को गोली मारी जानी चाहिए। जो इसमें शामिल हो रहे हैं, उनका इलाज क्यों किया जा रहा है। यदि इस समय भी आपको लगता है कि इस संकट से बड़ा धर्म है और यदि कोई षडयंत्र रच रहा है और इसे फैला रहा है। तो उन्हें पीटा जाना चाहिए और वीडियो को वायरल कर दिया जाना चाहिए। तभी ये लोग समझेंगे।

ये भी पढ़ें-  यूपी सरकार के मंत्री ने जमात मामले पर दिया ये बड़ा बयान, कही ये बड़ी बात

 

इन लोगों को समझना चाहिए कि लॉकडाउन कुछ दिनों के लिए है। इसके बाद उन्हें हमसे निपटना पड़ेगा।”
ठाकरे ने मौलवियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि मुल्ला और मौलवी कहां हैं? ये लोग लोगों के दिमाग में संदेह पैदा कर रहे हैं। यदि कल को कोई पार्टी या सरकार कोई स्टैंड लेती है। तो फिर उसे दोष न दें। करेला हमेशा करेला ही रहेगा।

पीएम को नौकरियों के बारे में बोलना चाहिए था

ये भी पढ़ें- जीतें 1 लाख रुपए: सिर्फ कोरोना पर शेयर करें अपने Ideas, मौका कमाने का

मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने पीएम मोदी द्वारा शुक्रवार को जारी किए गए वीडियो सन्देश पर भी सवाल उठाया। ठाकरे ने कहा कि पीएम ने लोगों से कहा कि 5 अप्रैल को दीया जलाएं, यदि लोग ऐसा करना चाहते हैं तो करने दें, ये अंधविश्वास के बारे में नहीं है। लेकिन पीएम को उम्मीद की किरण दिखानी चाहिए थी और ज्यादा भरोसा देना चाहिए था कि आने वाले वक्त में नौकरियों को लेकर क्या होगा, उद्योगों का क्या होगा।

ये भी पढ़ें-  सावधान: दिमाग से जुड़े कोरोना के तार, खतरनाक हैं लक्षण