राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष बने नृत्यगोपाल दास, पहली बैठक में हुए ये अहम फैसले

दिल्ली में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बुधवार को पहली बैठक हुई। इस बैठक में महंत नृत्यगोपाल दास को ट्रस्ट का अध्यक्ष चुना गया है, जबकि विश्व हिंदू परिषद(वीएचपी) नेता चंपत राय महामंत्री बनाए गए हैं।

नई दिल्ली: दिल्ली में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बुधवार को पहली बैठक हुई। इस बैठक में महंत नृत्यगोपाल दास को ट्रस्ट का अध्यक्ष चुना गया है, जबकि विश्व हिंदू परिषद(वीएचपी) नेता चंपत राय महामंत्री बनाए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा भवन निर्माण समिति के चेयरमैन नियुक्त किए गए हैं, जबकि कोषाध्यक्ष पद की जिम्मेदारी गोविंद गिरी को दी गई है।

मंदिर निर्माण कब से शुरू होगा इस पर अभी फैसला नहीं हुआ है। अब अगली बैठक अयोध्या में होगी जिसमें मंदिर निर्माण की तारीख को तय किया जा सकता है। बैठक में फैसला लिया गया है कि अयोध्या में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में ट्रस्ट का खाता खोला जाएगा।

ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्यगोपाल दास ने कहा कि राम मंदिर का मॉडल वही रहेगा, लेकिन उसे और ऊंचा और चौड़ा करने के लिए प्रारूप में थोड़ा बदलाव किया जाएगा।

यह भी पढ़ें…रिश्तों की नई इबारत लिखेंगे भारत-अमेरिका, ट्रंप के दौरे का बेसब्री से इंतजार

बैठक के बाद ट्रस्ट के महासचिव नियुक्त हुए वीएपी के उपाध्यक्ष चंपत राय भावुक दिखे। उन्होंने ट्रस्ट की पहली बैठक को सैकड़ों वर्षों के ऐतिहासिक भूल का सुधार करार दिया। राय ने कहा कि 14 ट्रस्टी आज यहां उपस्थित थे। हिंदुस्तान का आज यहां इतिहास लिखा गया। 490 साल के ऐतिहासिक भूल का आज परिमार्जन हुआ।

यह भी पढ़ें…फ्रांस ने मुस्लिमों के खिलाफ उठाया ये कठोर कदम, इन देशों के…

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष स्वामी गोविंद गिरि ने कहा ट्रस्ट की पहली बैठक विजया एकादशी के शुभ दिन हुई है। उन्होंने कहा कि आज छत्रपति शिवाजी महाराज का जन्मदिन है, संघ के दूसरे सरसंघचालक गोलवरलकरजी का भी आज जन्मदिन है।

यह भी पढ़ें…बीजेपी के इस कद्दावर नेता ने मोदी सरकार के फैसले को पागलपन बताया

उन्होंने कहा कि विजय एकादशी के शुभ दिन ट्रस्ट ने पहली बैठक की और महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। नृपेंद्र मिश्र की अध्यक्षता में मंदिर निर्माण समिति बनी है। 15 दिनों के भीतर एक और बैठक होगी, अयोध्या में होगी और तब मंदिर निर्माण की तारीख पर चर्चा होगी।