Top

भारत की संप्रभुता और अखंडता को ट्विटर ने पहुंचाई चोट, मोदी सरकार ने लगाई डांट

माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर का भारत में पहले भी जमकर विरोध हो चुका है। बीते दिनों ही ट्विटर पर जातिवादी होने का आरोप लगा था।उसके खिलाफ हैशटैग भी चलाए गये थे। कई यूजर्स ने ट्विटर का बहिष्कार करने तक की बातें कही थी। जिसके बाद इस पूरे मामले में ट्विटर को आगे आकर अपनी सफाई देनी पड़ी थी। बयान जारी कर कहा था कि नीति से लेकर फीचर तक के नियमों में कंपनी ने कभी पक्षपात नहीं किया है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 22 Oct 2020 8:46 AM GMT

भारत की संप्रभुता और अखंडता को ट्विटर ने पहुंचाई चोट, मोदी सरकार ने लगाई डांट
X
सरकार ने यह भी साफ कहा है कि भारत की संप्रभुता व अखंडता का असम्मान करने का ट्विटर का कोई भी प्रयास पूरी तरह से गैरकानूनी और अस्वीकार्य है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: ट्विटर को देश का गलत मानचित्र दिखाने पर भारत सरकार ने कड़ी चेतावनी दी है। सरकार की तरफ से कहा गया है कि देश की संप्रभुता और अखंडता का असम्मान करने का ट्विटर का हर प्रयास अस्वीकार्य है।

जिसके बाद इस पूरे मसले पर ट्विटर ने अपनी सफाई पेश की है। ट्विटर ने कहा है कि वह भारत की संवेदनाओं का सम्मान करता है और सरकार के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध है। बता दें कि ये पहली बार नहीं है जब ट्विटर को इस तरह की गलती के लिए भारत से डांट खानी पड़ी हो।

भारत सरकार पहले भी समय-समय पर ट्विटर द्वारा उठाये गये गलत कदमों पर कड़ा एतराज जताती आई है। ट्विटर को इसके लिए खेद भी जताना पड़ा है।

Narendra Modi भारत के पीएम नरेंद्र मोदी की फोटो(सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ें… मुलायम के करीबी किरण पाल सिंह अब BJP के साथ, जानें राजनीति में इनकी तगड़ी भूमिका

ट्विटर से भारत ने क्या कहा?

प्राप्त जानकारी के मुताबिक सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) मंत्रालय के सचिव अजय साहनी ने इस बारे में ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी को एक पत्र लिखा है।

जिसमें ये कहा गया है कि इस तरह का कोई भी प्रयास न सिर्फ ट्विटर की प्रतिष्ठा को कम करता है, बल्कि यह एक माध्यम होने के नाते ट्विटर की निष्पक्षता को भी संदिग्ध बनाता है। ये तमाम बातें भारत का गलत मानचित्र दिखाने पर ट्विटर से कही गई हैं।

क्या है विवाद की वजह

ट्विटर ने लेह की भौगोलिक स्थिति बताते हुए उसे पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के जम्मू-कश्मीर का भाग बता दिया था। जिस पर साहनी ने ट्विटर को पत्र लिखकर याद दिलाया है कि लेह केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख का हेड क्वार्टर है।

पत्र में कहा गया है कि लद्दाख और जम्मू-कश्मीर दोनों भारत के अभिन्न व अविभाज्य अंग हैं तथा भारत के संविधान से प्रशासित हैं। ट्विटर को चेतावनी देते हुए भारत सरकार ने कहा है कि उसे भारतीय नागरिकों की संवेदनशीलता का सम्मान करना चाहिए।

सरकार ने यह भी साफ कहा है कि भारत की संप्रभुता व अखंडता का असम्मान करने का ट्विटर का कोई भी प्रयास (जैसा कि मानचित्र के मामले में किया गया है), पूरी तरह से गैरकानूनी और अस्वीकार्य है।

ये भी पढ़ें…पाकिस्तान में भारी उथल-पुथल, किसी भी पल इस बड़े नेता की हो सकती है गिरफ्तारी

Twitter ट्विटर की फोटो(सोशल मीडिया)

ट्विटर ने दी ये सफाई

भारत के कड़े तेवर देखकर ट्विटर ने फौरन इस मामले में अपनी सफाई पेश कर दी है। ट्विटर के प्रवक्ता की तरफ से कहा गया है कि, ट्विटर भारत सरकार के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध है। हम इसमें शामिल संवेदनाओं का सम्मान करते हैं और हमने पत्र को विधिवत स्वीकार किया है।

ये भी पढ़ें…फिल्म इंडस्ट्री को झटका: अब इस एक्टर की मौत, घर में ऐसे हाल में मिली लाश

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App

Newstrack

Newstrack

Next Story