भारत को जल्द ये खतरनाक मिसाइल देगा रूस, कांपने लगा पाकिस्तान

अब जल्द ही सबसे अत्याधुनिक एस-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल होगा जिससे भारत की ताकत बढ़ेगी। रूस ने साफ किया कि भारत को एस-400 मिसाइल सिस्टम तय वक्त पर ही उपलब्ध कराया जाएगा।

नई दिल्ली: अब जल्द ही सबसे अत्याधुनिक एस-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल होगा जिससे भारत की ताकत बढ़ेगी। रूस ने साफ किया कि भारत को एस-400 मिसाइल सिस्टम तय वक्त पर ही उपलब्ध कराया जाएगा।

राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने ब्रिक्स समिट के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से वक्त पर एस-400 सिस्टम की डिलीवरी करने का वादा किया है। बता दें कि रूस, चीन और तुर्की के बाद भारत चौथा देश बन जाएगा जिसके पास यह मिसाइल सिस्टम होगा।

यह भी पढ़ें…पाकिस्तान को आया चक्कर! सीमा पर तैनात हुए लाखों की संख्या में सैनिक

पुतिन का बयान इसलिए बेहद अहम है क्योंकि अमेरिका लगातार भारत पर यह दबाव डाल रहा था कि वो इस सौदे को रद्द कर दे। पाकिस्तान ने भी कहा था कि इससे दक्षिण एशिया में हथियारों की दौड़ तेज होगी और क्षेत्रीय असंतुलन बढ़ेगा।

इससे साफ है कि भारत को पांच एस-400 मिसाइल सिस्टम सही समय पर मिल जाएगा। भारत ने इसके लिए रूस को 85 करोड़ डॉलर की राशि का भुगतान किया है। ये पूरी डील करीब 5 अरब डॉलर की है। इस डील की संवेदनशीलता को देखते हुए पूरे सिस्‍टम के विवरण में ज्यादा जानकारी नहीं दी गई।

यह भी पढ़ें…जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को लेकर आई बड़ी खबर

क्यों जरूरी है ये सिस्टम

एस-400 मिसाइल सिस्टम से भारत को रक्षा कवच मिल जाएगा। यह किसी भी मिसाइल हमले को ध्वस्त कर सकता है। इस सिस्टम से भारत पर होने वाले परमाणु हमले का भी जवाब दिया जा सकेगा। अर्थात यह डिफेंस सिस्टम भारत के लिए चीन और पाकिस्तान की न्यूक्लियर सक्षम बैलिस्टिक मिसाइलों से कवच की तरह काम करेगा। यहां तक कि यह सिस्टम पाकिस्तान की सीमा में उड़ रहे विमानों को भी ट्रैक कर सकेगा।

यह भी पढ़ें…राम जन्मभूमि: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर फिर बोले ओवैसी, दिया ये बड़ा बयान

एस-400 की खासियत

एस-400 एक बार में 36 निशाने भेद सकती है और एक साथ 72 मिसाइल छोड़ सकती है। इस एयर डिफेंस सिस्टम को कहीं मूव करना बहुत आसान है, क्योंकि इसे 8X8 के ट्रक पर माउंट किया जा सकता है। एस-400 को नाटो द्वारा एसए-21 Growler लॉन्ग रेंज डिफेंस मिसाइल सिस्टम भी कहा जाता है।

एस-400 50 डिग्री से लेकर-70 डिग्री तक तापमान में काम करने में सक्षम है। इस मिसाइल करना को नष्ट कर पाना दुश्मन के लिए बहुत मुश्किल है, क्योंकि इसकी कोई फिक्स पोजिशन नहीं होने की वजह से आसानी से डिटेक्ट नहीं किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें…राफेल डील: राजनाथ ने कहा, कांग्रेस को माफ नहीं करेगा देश, इसलिए लगाए झूठे आरोप

एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम में चार तरह की मिसाइल होती हैं जिनकी रेंज 40, 100, 200, और 400 किलोमीटर तक होती है। यह सिस्टम 100 से लेकर 40 हजार फीट तक उड़ने वाले हर टारगेट को डिटेक्ट और नष्ट कर सकता है।