भारतीय रेलवे की पहली ‘प्राइवेट’ ट्रेन होगी तेजस एक्सप्रेस, मिलेंगी ये लग्जरी सुविधाएं

देश में निजी कंपनियों द्वारा संचालित पहली ट्रेन तेजस एक्सप्रेस लखनऊ और दिल्ली के बीच चलाई जाएगी। रेलवे बोर्ड ऐसे दूसरे मार्ग पर भी विचार कर रहा है और वह भी 500 किलोमीटर के क्षेत्र में होगा। मुसाफिरों को आधुनिक सुविधाएं देने के लिए भारतीय रेल ने ट्रायल बेसिस पर यह ट्रेन आईआरसीटीसी को देने का फैसला किया है।

नई दिल्ली: देश में निजी कंपनियों द्वारा संचालित पहली ट्रेन तेजस एक्सप्रेस लखनऊ और दिल्ली के बीच चलाई जाएगी। रेलवे बोर्ड ऐसे दूसरे मार्ग पर भी विचार कर रहा है और वह भी 500 किलोमीटर के क्षेत्र में होगा। मुसाफिरों को आधुनिक सुविधाएं देने के लिए भारतीय रेल ने ट्रायल बेसिस पर यह ट्रेन आईआरसीटीसी को देने का फैसला किया है।

लखनऊ से नई दिल्ली से बीच ये ट्रेन इस रूट पर चलने वाली स्वर्ण शताब्दी के मुकाबले अलग समय पर चलेगी। ट्रेन में मिलने वाली सुविधाओं की बात करें तो इसमें आधुनिक आरामदायक सीटें, एलईडी लाइटें, बॉयो टॉयलेट, सेंसर वाले टैप, सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरे और मेट्रो ट्रेनों की तरह ऑटोमेटिक दरवाजे दिए जाएंगे। इस ट्रेन में प्लेन जैसी लग्जरी सुविधाएं होगी।

यह भी पढ़ें…पीएम मोदी ने बीजेपी नेताओं की लगाई क्लास, कहा- परीक्षा के लिए रहे तैयार

-IRCTC 100 दिनों के भीतर इस ट्रेन का संचालन शुरू करना चाहता है। दूसरे रूट के बारे में भी जल्द फैसला लिया जा सकता है।

-यह ट्रेन उत्तर प्रदेश के आनंद नगर रेलवे स्टेशन में पार्क है। बोली प्रक्रिया पूरी होने के बाद इस ट्रेन को प्राइवेट कंपनी के हाथों में सौंप दी जाएगी।

-एयरप्लेन की तरह तेजस एक्सप्रेस की हर सीट पर LCD स्क्रीन लगा है। हर सीट पर अटेंडेंट बटन लगा है जिससे दबा कर आप अपनी सहायता के लिए अटेंडेंट को बुला सकते हैं।

यह भी पढ़ें…क्या सच में चीन ने लद्दाख में की थी घुसपैठ? सेना प्रमुख ने दिया ये जवाब

-इस ट्रेन में LED लाइट लगी हुई हैं। सिगरेट स्मोकिंग को डिटेक्ट करने के लिए ऑटो डिटेक्टर लगे हुए हैं। इस ट्रेन में सीसीटीवी कैमरा लगा हुआ है। हर सीट पर चार्जिंग और यूएसबी केवल लगे हुए हैं।

-ट्रेनों को इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) को सौंपा जाएगा। वह लीज शुल्क समेत इसके लिए वित्तीय कंपनी आईआरएफसी को भुगतान करेगी।

-मीडिया में आई खबरों के मुताबिक 12585 तेजस एक्सप्रेस ट्रेन सुबह 6:50 पर लखनऊ से निकलेगी और दोपहर 1:35 पर नई दिल्ली पहुंचेगी। जबकि वापसी में यह ट्रेन (12586) दोपहर बाद 3:35 पर नई दिल्ली से निकलकर 10:05 पर लखनऊ पहुंचेगी।

यह भी पढ़ें…मायावती ने अब कानून व्यवस्था पर दिया बड़ा बयान, कहा कि……

-हालांकि सुबह 4:55 पर लखनऊ से आनंद विहार के बीच डबल डेकर ट्रेन पहले से ही चल रही है, लेकिन यह बरेली मुरादाबाद होते हुए दिल्ली आती है। इसलिए रेलवे को उम्मीद है कि कम समय लेने की वजह से तेजस एक्सप्रेस ट्रेन में भी मुसाफिर रूचि लेंगे।

हवाई जहाज जैसी सुविधाओं से लैस होगी यह ट्रेन

आधुनिक सुविधाओं से लैस इस ट्रेन में आधुनिक आरामदायक सीटें, एलईडी लाइटें, बॉयो टॉयलेट और सेंसर वाले टैप। ट्रेन के अंदर कहीं से भी नहीं आएगी धूल। अटेंडेंट को बुलाने के लिए बटन, सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरे और मेट्रो ट्रेनों की तरह ऑटोमेटिक दरवाजे।

यह भी पढ़ें…यूपी में बारिश बनी आफत की समुंदर, बहा ले गई 133 इमारतें

शताब्दी से अधिक हो सकता है किराया

इन तमाम सुविधाओं के लिए मुसाफिरों को अतिरिक्त किराया देना पड़ सकता है। फिलहाल तेजस एक्सप्रेस का किराया शताब्दी एक्सप्रेस के किराये से करीब 20 फीसदी ज़्यादा है। माना जा रहा है कि irctc जल्द ही किराये, खान-पान, रेलवे को चुकाने वाले हॉलेज चार्ज वगैरह के बीच संतुलन बनाते हुए इसका टेंडर जारी करेगा। जिस भी प्राइवेट पार्टी को ये ट्रेन सौंपी जाएगी वो रेलवे के रिजर्वेशन सिस्टम पर टिकट बुक करवा सकेगा। ट्रेन में ड्राइवर और गार्ड भारतीय रेल का होगा जबकि टीटीई की जगह ट्रेन सुपरवाइजर मौजूद होगा जो कि प्राइवेट पार्टी का होगा।