स्कूल में इमला बोलकर दी जाती थी आतंकवादी बनने की कोचिंग, 3 शिक्षक अरेस्ट

आईजी कश्मीर विजय कुमार ने श्रीनगर में एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान बताया कि दक्षिण कश्मीर के शोपियां में इमाम साहिब स्थित सिराजुल-उल इमाम साहब नामक स्कूल का प्रतिबंधित जमात-ए-इस्लामी आर्गेनाईजेशन से ताल्लुक है।

Terrorist School

आतंकवादियों की फोटो(सोशल मीडिया)

जम्मू-कश्मीर: शोपियां में चल रही थी आतंक की नर्सरी, धार्मिक स्कूल के तीन शिक्षक पीएसए के तहत गिरफ्तार
जम्मू कश्मीर पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है।

शोपियां इलाके में लम्बे समय से आतंक की नर्सरी संचालित हो रही थी। यहां एक धार्मिक स्कूल के पूर्व छात्रों को आतंकी गतिविधियों में संलग्न पाए जाने के बाद पुलिस ने सोमवार को तीन शिक्षकों को सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम(पीएसए) के अंतर्गत अरेस्ट कर लिया है।

शोपियां से अरेस्ट किये गये शिक्षकों की पहचान मोहम्मद यूसुफ वानी, अब्दुल अहद भट और अब्दुल रऊफ भट के रूप में हुई है।

Terrorist
आतंकवादियों की फोटो(सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ें: PM मोदी ने रूस के राष्ट्रपति से की बात, पुतिन ने भारत पर दिया ये बड़ा बयान

पुलवामा हमले का आरोपी सज्जाद भट और जुबैर नेगरू का भी नाम आया सामने

खास बात ये है कि इसमें पुलवामा हमले का आरोपी सज्जाद भट और जुबैर नेगरू के अलावा 13 पूर्व छात्रों की सूची में हिजबुल मुजाहिदीन का नाजिर नजीम डार और एजाज अहमद भी शामिल हैं।

इस बारें में आईजी कश्मीर विजय कुमार ने श्रीनगर में एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान बताया कि दक्षिण कश्मीर के शोपियां में इमाम साहिब स्थित सिराजुल-उल इमाम साहब नामक स्कूल का प्रतिबंधित जमात-ए-इस्लामी आर्गेनाईजेशन से ताल्लुक है।

इन सभी को आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में अरेस्ट किया गया है।  उन्होंने ये भी बताया कि अभी पांच से छह स्कूल शिक्षक निगरानी में हैं, उनके खिलाफ जांच जारी है।

ये भी पढ़ें: भारत का पहला प्लाज्मा बैंक: यहां शुरू, कोविड 19 से जंग में ऐसे आएगा काम

Books
किताब की फोटो(सोशल मीडिया)

स्कूल के खिलाफ भी होगा एक्शन

पहली बार वह स्कूल सुरक्षा एजेंसियों की नजर में तब आया जब यह पता लगा कि उसके 13 पूर्व छात्र आतंकी गतिविधियों में संलिप्त हैं।

उन्होंने ये भी कहा फिलहाल हम व्यक्तियों के खिलाफ ही अभी कार्रवाई कर रहे हैं लेकिन अगर आवश्यकता पड़ी तो हम स्कूल के खिलाफ भी एक्शन लेने से पीछे नहीं हटेंगे।

गौरतलब है कि पीएसए (सार्वजनिक सुरक्षा अधिनियम) के अंतर्गत पुलिस बिना किसी मुकदमे के दो साल तक किसी भी व्यक्ति को अपनी कस्टडी में पूछताछ के लिए रख सकती है।

ये भी देखें:  पावर ग्रिड किसे कहते हैं, ये कब फेल होता है, इससे कैसे बचा जा सकता है, यहां जानें

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें – Newstrack App

 

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App