उद्धव ठाकरे बोले, बाला साहेब को दिया था वचन, एक दिन बनेगा शिवसेना का मुख्यमंत्री

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने देवेंद्र फडणवीस के आरोपों का जवाब दिया है। शिवसेना भवन में प्रेस कांफ्रेंस कर उन्होंने कहा कि मैं बाला साहेब की तरह सच के साथ खड़ा हूं। वह मुझ पर झूठ बोलने के आरोप लग रहे हैं।

मुंबई: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने देवेंद्र फडणवीस के आरोपों का जवाब दिया है। शिवसेना भवन में प्रेस कांफ्रेंस कर उन्होंने बीजेपी पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि मैं बाला साहेब की तरह सच के साथ खड़ा हूं। वह मुझ पर झूठ बोलने के आरोप लग रहे हैं।

50-50 फाॅर्मूले पर उद्धव ने कहा कि अमित शाह मुझसे बात करने के लिए मुंबई आए थे। मैंने मुख्यमंत्री पद को लेकर अमित शाह से स्पष्ट रूप से बात की थी। सबको पता है झूठ कौन बोल रहा है।

यह भी पढ़ें…SPG: सरकार ने क्यों लिया गांधी परिवार की सुरक्षा में कटौती का फैसला? यहां जानें

उद्धव ठाकरे ने कहा कि पदों और मुख्यमंत्री पद को लेकर हमारे बीच 50-50 पर सहमति बनी थी। उन्होंने कहा कि मुझे इसपर सफाई देने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि शिवसेना का मुख्यमंत्री होने के सपने को पूरा करने के लिए मुझे किसी की मदद की जरूरत नहीं है।

शिवसेना प्रमुख ने कहा कि हमारा काम बीजेपी जैसा नहीं। अमित शाह ने कहा था कि जिनकी ज्यादा सीट उनका सीएम। मैंने कहा कि मैं यह नहीं मानूंगा। ठाकरे ने कहा कि उन्होंने अपने पिता बाला साहेब को वचन दिया था कि एक दिन शिवसेना का मुख्यमंत्री होगा और हम अपना वचन निभाएंगे। उन्होंने कहा कि वचन पूरा करने के लिए हमें न अमित शाह और न बीजेपी के आशीर्वाद की जरूरत है। अगर आपके (बीजेपी) साथ नहीं तो किसी और के साथ मिलकर वचन को पूरा करेंगे।

यह भी पढ़ें…इलाज के लिए विदेश जाएंगे नवाज शरीफ, क्या इमरान और सेना की है कोई नई साजिश

कांफ्रेंस में उद्धव ठाकरे ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस से ऐसे बयान की हमें उम्मीद नहीं थी। उन्होंने कहा कि बीजेपी क्यों भूल गई कि दुष्यंत चौटाल ने उनके लिए क्या-क्या कहा था। उन्होंने कहा कि शिवसेना झूठ बोलने वालों की पार्टी नहीं है। मैंने कभी पीएम मोदी पर आरोप नहीं लगाए।

उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैं बीजेपी वाला नहीं हूं। झूठ नहीं बोलता। मैं झूठ बोलने वालों से बात नहीं करता और मैंने कभी दुष्यंत चौटाला जैसी भाषा का इस्तेमाल नहीं किया।  उद्धव ने कहा कि मैं दुष्यंत चौटाला की तरह बात नहीं करता जैसे उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधा था। गंगा को साफ करते-करते उनका दिमाग गंदा हो गया है।

उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैंने कभी भी अटल-आडवाणीजी की आलोचना नहीं की है। कभी मैंने नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी नहीं की है, जब हमने आलोचना की थी तो पॉलिसी की आलोचना थी, निजी आलोचना कभी नहीं की। मैंने उनका (बीजेपी) का समर्थन सिर्फ इसलिए किया था, क्योंकि देवेंद्र फडणवीस मेरे अच्छे मित्र हैं। क्या फैसला हुआ था इस बारे में मैं शिवसैनिकों से झूठ नहीं बोल सकता हूं। महाराष्ट्र की जनता को शिवसेना पर भरोसा है।

यह भी पढ़ें…SPG: सरकार ने क्यों लिया गांधी परिवार की सुरक्षा में कटौती का फैसला? यहां जानें

उन्होंने कहा कि मैं आरएसएस का सम्मान करता हूं। आरएसएस को फिर से सोचना चाहिए कि कैसा हिन्दुत्व चाहिए। उन्होंने कहा कि हमने देखा है कि बीजेपी ने मणिपुर और गोवा में कैसे सरकार बनाई है। हमने उन्हीं से सीखा है, लेकिन हमने कभी झूठ बोलना नहीं सीखा।

शिवसेना प्रमुख ने कहा कि मुझे अगर बीजेपी झूठा बोलेगी तो बर्दाश्त नहीं करूंगा, एनसीपी और कांग्रेस से बातचीत नहीं हुई। हमने कभी भी चर्चा बंद नहीं की थी, जब मुझे पता चला कि बीजेपी समझौते से पीछे हट रही है, तब हमने बातचीत बंद कर दी। उन्होंने कहा कि हमने हमेशा अपना रुख साफ किया, अब समय आ गया है कि बीजेपी सच बोले।

यह भी पढ़ें…नोटबंदी के तीन साल! सड़क पर कांग्रेसी, राहुल ने कही ये बड़ी बात

बता दें कि इससे पहले देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हमने उद्धव ठाकरे के साथ कई मुद्दों पर काम किया है, हालांकि इस बार मैंने उद्धव ठाकरे को फोन किया तो उन्होंने मुझसे बात नहीं की। शिवसेना और बीजेपी के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर 50-50 पर मेरे सामने कभी कोई फैसला नहीं हुआ।

उन्होंने कहा कि मैंने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह, नितिन गडकरी से भी इस बारे में पूछा, लेकिन उन्होंने भी सीएम पर 50-50 फाॅर्मूले पर किसी भी तरह के फैसले से इंकार किया।