अमेरिका का बड़ा कदम, अलकायदा के खूंखार आतंकी जुबैर को भारत को सौंपा

अमेरिका ने अलकायदा के खूंखार आतंकी मोहम्मद इब्राहिम जुबैर को भारत के हवाले कर दिया है। आतंकी हमलों की साजिश रचने में माहिर जुबैर को विशेष विमान से अमृतसर लाया गया है। कोरोना की महामारी के कारण उसे फिलहाल क्वारंटाइन किया गया है।

नई दिल्ली: अमेरिका ने अलकायदा के खूंखार आतंकी मोहम्मद इब्राहिम जुबैर को भारत के हवाले कर दिया है। आतंकी हमलों की साजिश रचने में माहिर जुबैर को विशेष विमान से अमृतसर लाया गया है। कोरोना की महामारी के कारण उसे फिलहाल क्वारंटाइन किया गया है।

जुबैेर को हुई थी पांच साल की सजा

हैदराबाद का रहने वाला जुबैर अलकायदा से जुड़ा था और उसका एक भाई याहिया मोहम्मद फारुकी भी आतंकी है। अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने इन दोनों को 2015 में गिरफ्तार किया था। इन दोनों पर टेरर फंडिंग समेत कई संगीन आरोपों के तहत मामला दर्ज किया गया था। बाद में अदालत ने इन दोनों को दोषी पाया था। अदालत याहिया को 27 साल और जुबैर को 5 साल की सजा सुनाई थी। जुबैर को सजा की अवधि पूरी होने के बाद भारत को सौंप दिया गया है।

यह भी पढ़ें…शुरू हो गई ट्रेनिंग: मिशन में आई जबरदस्त तेजी, रूस में की जा रही हैं तैयारियां

जुबैर के पास इंजीनियरिंग की डिग्री

अलकायदा से जुड़े जुबैर ने हैदराबाद की उस्मानिया यूनिवर्सिटी से सिविल इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है। वह काफी शातिर दिमाग का आतंकी है और इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करने के बाद वह भाई के पास अमेरिका चला गया था। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ इलिनॉय से जुबैर ने स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री ली है। जुबैर 2006 में ओहायो शिफ्ट हो गया था। एक अमेरिकी लड़की से शादी करने के बाद 2007 में जुबैर अमेरिका के स्थाई नागरिकता हासिल करने में सफल हो गया था।

आतंकियों की भर्ती करता था जुबैर

अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि जुबैर अलकायदा का खूंखार आतंकी रहा है और वह अलकायदा में आतंकवादियों की भर्ती की जिम्मेदारी संभालता था। आतंकी साजिश रचने के बाद इन्हीं आतंकियों के जरिए बड़ी घटनाओं को अंजाम दिया जाता था।

यह भी पढ़ें…सीमा पर चीन की बड़ी चाल, अमेरिका ने किया आगाह, कहा- हल्के में ना ले भारत

इस आतंकी से प्रभावित थे दोनों भाई

जुबैर और उसका भाई अलकायदा के बड़े आतंकी अनवर अल अवलाकी से काफी प्रभावित थे। अवलाकी का वीडियो देखने के बाद ही दोनों भाइयों ने आतंकवाद के रास्ते पर चलने का फैसला किया था और अलकायदा की सदस्यता ग्रहण की थी। अवलाकी अलकायदा के बड़े आतंकियों में शुमार था और अमेरिकी ड्रोन हमले में 2011 में यमन में उसकी मौत हुई थी।

यह भी पढ़ें…कोरोना संकट में RBI ने किए ये बड़े एलान, लोन-EMI होगी सस्ती

अमेरिका का कहना है कि वह आतंकवाद के खात्मे के लिए प्रतिबद्ध है और इसीलिए अलकायदा के खूंखार आतंकी जुबैर को भारत को सौंप दिया गया है। माना जा रहा है कि क्वारंटीन की अवधि पूरी होने के बाद तेलंगाना पुलिस जुबैर को लेकर हैदराबाद जाएगी।