आंध्र प्रदेश में जहरीली गैस लीक, ऐसा भयानक मंजर, सड़क पर ही गिरने लगे लोग

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एक फार्मा कंपनी में गैस लीक हो गई है जिसके बाद हाहाकार मच गया है। गैस लीक होने से एक बच्चा समेत तीन लोगों की मौत हो गई है। इसके बाद पूरे शहर में अफरा तफरी मच गई है और अभी भी हालत नियंत्रण में नहीं है।

नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एक फार्मा कंपनी में गैस लीक हो गई है जिसके बाद हाहाकार मच गया है। गैस लीक होने से एक बच्चा समेत 8 लोगों की मौत हो गई है, तो वहीं 5000 लोग बीमार हैं। इसके बाद पूरे शहर में अफरा तफरी मच गई है और अभी भी हालत नियंत्रण में नहीं है। स्थानीय प्रशासन और भारतीय नौसेना ने फैक्ट्री के पास के गांवों को खाली करा लिया है।

गैस रिसाव के चलते प्लांट के 3 किमी के दायरे तक लोगों में दहशत फैली गई है। कई लोग सड़क पर ही बेहोश पड़े हुए हैं जबकि कइयों को सांस लेने में तकलीफ हो रही है। लोगों ने आंखों में जलन और स्किन में रैशेज की शिकायत भी की।

यह भी पढ़ें…महाराष्ट्र में और बिगड़े हालात, मुंबई के मैदानों के बारे में सरकार का बड़ा फैसला

यह मामला आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में के आरएस वेंकटपुरम का है। यहां पर एलजी पॉलिमर उद्योग में एक फार्मा कंपनी में रासायनिक गैस लीकेज हुआ है। मिली जानकारी के मुताबिक आरआर वेंकटपुरम में स्थित विशाखा एलजी पॉलिमर कंपनी से खतरनाक जहरीली गैस का रिसाव हो गया है। यह घटना गुरुवार सुबह हुई। इस जहरीली गैस की वजह से फैक्ट्री के तीन किलोमीटर के इलाके प्रभावित हैं।

फिलहाल पांच गांवों को खाली करा लिया गया है। सैकड़ों लोग सिर दर्द, उल्टी और सांस लेने में तकलीफ हो रही है इसके बाद लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है। लेकिन गैस लीकेज की असली वजह का अभी पता नहीं चल पाया है।

यह भी पढ़ें…बड़ा खुलासाः इन्हें पता ही नहीं कहां कितने मजदूर फंसे हैं, लॉकडाउन का असर

मौके पर विशाखापट्टनम के जिलाधिकारी वी विनय चंद पहुंच चुके हैं और हालात पर नजर रखे हैं। उनका कहना है कि दो घंटे के अंदर हालात को नियंत्रण में कर लिया गया। कुछ लोगों को सांस लेने में परेशानी हो रही है, उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट दिया जा रहा है। सरकारी अस्पताल में तीन लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 20 से ज्यादा लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। इसमें अधिकतर बुजुर्ग और बच्चे हैं।

मिली जनाकारी के मुताबिक सरकारी अस्पताल में 150-170 लोग भर्ती कराए गए हैं। इसके अलावा कई लोगों को गोपालपुरम के प्राइवेट अस्पताल में भी भर्ती किया गया है। 1500-2000 बेड की व्यवस्था कर ली गई है।

यह भी पढ़ें…जहरीली गैस से हाहाकार: 3 लोगों की मौत के बाद पांच गांव खाली, 1000 लोग बीमार

इस जहरीली गैस के कारण फैक्ट्री के तीन किलोमीटर के इलाके प्रभावित हैं। सैकड़ों लोग सिर दर्द, उल्टी और सांस लेने में तकलीफ के साथ अस्पताल पहुंच रहे हैं। सैकड़ों लोग सिर दर्द, उल्टी और सांस लेने में तकलीफ हो रही है।

मौके पर एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें तैनात कर दी गई हैं और गांवों से लोगों को बाहर निकाला जा रहा है। पुलिस अधिकारी लोगों से घर से बाहर निकलने की अपील कर रहे हैं और सुरक्षित जगह जाने को कह रहे हैं। अधिकारी साथ ही लोगों से प्रभावित इलाकों में न जाने की अपील कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें…जल्द हो सकता है पब्लिक ट्रांसपोर्ट का संचालन, सरकार ने दिये ये संकेत

एलजी पॉलिमर्स इंडस्ट्री की स्थापना 1961 में हिंदुस्तान पॉलिमर्स के नाम से हुई थी। कंपनी पॉलिस्टाइरेने और इसके को-पॉलिमर्स बनाती है। 1978 में यूबी ग्रुप के मैकडॉवल एंड कंपनी लिमिटेड में हिंदुस्तान पॉलिमर्स का विलय हो गया गया था और फिर यह एलजी पॉलिमर्स इंडस्ट्री हो गई।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App