Top

अखिलेश ने भी छोड़ा राहुल का साथ, कांग्रेस को धोखा दे गये ये चार दल

दिल्ली में सोमवार को सीएए को लेकर विपक्षी दलों की बैठक हुई। इस बैठक को विपक्षी दलों की एक जुटता के तौर पर देखा जा रहा था।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 13 Jan 2020 10:23 AM GMT

अखिलेश ने भी छोड़ा राहुल का साथ, कांग्रेस को धोखा दे गये ये चार दल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दिल्ली: सोमवार को सीएए को लेकर विपक्षी दलों की बैठक हुई। इस बैठक को केंद्र सरकार द्वारा लागू नागरिकता कानून के खिलाफ विपक्षी दलों की एक जुटता के तौर पर देखा जा रहा था। लेकिन चार बड़े राजनीतिक दलों ने बैठक में अपनी उपस्थिति दर्ज न करा कर कांग्रेस को करारा झटका दिया है। दरअसल, ये बैठक कांग्रेस ने बुलाई थी।

ये राजनीतिक दल हुए शामिल :

दिल्ली के कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में हुई विपक्षी दलों की बैठक में 14 राजनीतिक दलों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। जिसमें सीपीएम, सीपीआई, आरजेडी, एनसीपी, एआईयूडीएफ, आरएलडी, हम, आईयूएमएल, आरएलएसपी, आरएसपी, जेएमएम, लोकतांत्रिक जनता दल और केरल कांग्रेस शामिल हैं।

ये भी पढ़ें: प्रदर्शनकारी छात्रों से बोलीं जामिया VC- ‘जो आप चाहते हैं वो हम नहीं कर सकते’

चार पार्टियों ने दिया झटका:

वहीं चार राजनीतिक दलों ने सीएए को लेकर हुई इस बैठक में शामिल न होकर विपक्षी दलों की एकजुटता को बड़ा झटका दिया। जो दल बैठक में शामिल नहीं हुए, उसमें अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी, मायावती की बसपा समेत बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की टीएमसी और डीएमके का नाम शामिल है।

ये भी पढ़ें: कौन हैं वो दो IPS, जिनको मिली लखनऊ-नोएडा की कमिश्नरी की कमान

दो दलों को कांग्रेस ने नहीं भेजा बुलावा:

इतना ही नहीं दो बड़े दल भी बैठक में नदारद दिखें। जानकारी के मुताबिक, इन दोनों दलों को कांग्रेस ने बैठक का न्योता दिया ही नहीं था। इसमें दिल्ली की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी और महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे की पार्टी शिवसेना का नाम शामिल है।

ये भी पढ़ें: JNU हिंसा: जानें कैसा है इस नकाब के पीछे का चेहरा, पुलिस ने की पहचान

बैठक में शामिल दलों के शीर्ष नेताओं के अलावा कांग्रेस से सोनिया गांधी समेत राहुल गांधी और पूर्व प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह भी आये। इस बैठक में नेताओं ने सीएए पर केंद्र को घेरने के साथ ही सीएए के विरोध में हुई हिंसा में घायल और जेल गये प्रदर्शनकारियों को लेकर भी चर्चा हुई।

ये भी पढ़ें: महिला करेगी बम धमाका: सुनते ही सरकार की उड़ गयी नींदें, ऐसा मचा हड़कंप

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story