गहलोत का नया नाटक: बागी विधायकों से कही ये बात, फिर मचा घमासान

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया कि उनकी सरकार को गिराने के प्रयास को रोका जाए और कहा कि वह सचिन पायलट के नेतृत्व में कांग्रेस के बागियों का स्वागत करने के लिए तैयार हैं।

Published by Vidushi Mishra Published: August 1, 2020 | 5:57 pm

जयपुरः राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया कि उनकी सरकार को गिराने के प्रयास को रोका जाए और कहा कि वह सचिन पायलट के नेतृत्व में कांग्रेस के बागियों का स्वागत करने के लिए तैयार हैं। गहलोत ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि अगर कांग्रेस आलाकमान असंतुष्टों को माफ कर देता है तो वह उन्हें गले लगा लेंगे। उनके और सचिन पायलट के बीच सत्ता संघर्ष के दौरान कांग्रेस के इस दिग्गज ने अपने पूर्व डिप्टी के खिलाफ कठोर शब्दों का इस्तेमाल किया और उन्हें “निकम्मा” या बेकार तक कहा।

ये भी पढ़ें…हजारों सैनिक तैनात: चीन का कब्जा अब इस इलाके में, अलर्ट हुआ भारत

हमारा किसी से कोई झगड़ा नहीं

गहलोत ने कहा कि कांग्रेस का नेतृत्व जो चाहेगा वह करेगा और राजस्थान का मुख्यमंत्री बनने के लिए पार्टी को श्रेय दिया।

जैसलमेर के सूर्यगढ़ रिसॉर्ट में रात भर रहने के बाद मुख्यमंत्री जयपुर वापस आ रहे थे, जहां 14 अगस्त से विधानसभा सत्र से पहले ही निष्ठावान विधायकों को स्थानांतरित कर दिया गया था।

कांग्रेस ने बर्खास्त उप मुख्यमंत्री और 18 अन्य कांग्रेस विधायकों के विद्रोह में भाजपा पर एक बड़ी भूमिका निभाने का आरोप लगाया है। ये विधायक उनकी सरकार को धमकी दे रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने होटल के बाहर कहा, “हमारा किसी से कोई झगड़ा नहीं है। लोकतंत्र में विचारधारा, नीतियों और कार्यक्रमों पर झगड़े होते हैं न कि किसी सरकार को गिराने के लिए। मोदी को राजस्थान में जो कुछ भी हो रहा है उसे रोकना चाहिए।”

ये भी पढ़ें…भीषण सड़क हादसा: हर तरफ बिखर गए लोगों के टुकड़े, 3 लोगों की मौत

विधायकों को लुभाने की कोशिशें बढ़ी

उन्होंने दावा किया कि देश में लोकतंत्र खतरे में है और राज्य में उनकी सरकार के पीछे केंद्रीय गृह मंत्रालय है। उन्होंने दोहराया कि विधानसभा सत्र की घोषणा के बाद विधायकों को लुभाने की कोशिशें बढ़ गयी हैं।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया के जैसलमेर में कांग्रेस विधायकों की शिफ्टिंग के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए गहलोत ने उन्हें एक नया नेता बताया, जो पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की जगह लेना चाहते हैं। उन्होंने टिप्पणी की कि राजे दृश्य से “गायब” हो गई है।

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे
पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे

पूनिया ने कांग्रेस का मज़ाक उड़ाते हुए पूछा था कि क्या गहलोत के वफादार पाकिस्तान में सीमा पार पश्चिम में आगे बढ़ेंगे।

ये भी पढ़ें…हिल गया बॉलीवुड: सुशांत के नौकर ने खोली पोल, बताई पूरी कहानी

जैसलमेर के लिए रवाना नहीं किया गया

कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के विधायक 13 जुलाई से जयपुर में फेयरमोंट होटल तक सीमित रह गए थे, जब तक कि चार्टर्ड उड़ानों से जैसलमेर के लिए रवाना नहीं किया गया था।

उनके पाकिस्तान सीमा के पास तनोट माता मंदिर और उनके जैसलमेर प्रवास के दौरान कुछ अन्य स्थानों पर जाने की संभावना है, यह सिलसिला 14 अगस्त तक जारी रहने की संभावना है।

ये भी पढ़ें…हादसे से दहला भारत: मजदूरों पर गिरा भारी-भरकम क्रेन, 10 की दर्दनाक मौत

वीडियो सम्मेलन बुलाने के लिए कहा जाएगा

गहलोत ने कहा कि उन्होंने नरेंद्र मोदी को पत्र और टेलीफोन बातचीत के माध्यम से राज्य में राजनीतिक स्थिति के बारे में जानकारी दी थी। उन्होंने कहा कि वह मोदी को एक और पत्र लिखेंगे जिसमें उन्हें सीओवीआईडी -19 स्थिति की समीक्षा करने के लिए फिर से सभी मुख्यमंत्रियों का वीडियो सम्मेलन बुलाने के लिए कहा जाएगा।

उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों में कोरोनोवायरस के लिए पर्याप्त परीक्षण नहीं हो रहे हैं, जबकि राजस्थान ने अपनी परीक्षण क्षमता 40,000 प्रतिदिन तक बढ़ा दी है। उन्होंने कहा कि हमने राज्य में उत्कृष्ट कोविद प्रबंधन किया है। रिकवरी दर अच्छी है, मृत्यु दर 1 प्रतिशत से भी कम है।

ये भी पढ़ें… पाकिस्तान बौखला उठा: सुबह शाम ले रहा भारत का नाम, नहीं सो पा रहे इमरान

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App