Top

सॉफ्ट हिंदुत्व का केजरीवाल को फायदा, दिल्ली चुनाव बाद AAP से जुड़े 16 लाख लोग

अरविंद केजरीवाल और उनकी टीम देश की राजनीति बदलने के लिए राजनीति में आई थी, लेकिन अब वह बीजेपी के कट्टर हिंदुत्व का मुकाबला करने के लिए सॉफ्ट हिंदुत्व की राह पर चल पड़े हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 22 Feb 2020 4:39 PM GMT

सॉफ्ट हिंदुत्व का केजरीवाल को फायदा, दिल्ली चुनाव बाद AAP से जुड़े 16 लाख लोग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: अरविंद केजरीवाल और उनकी टीम देश की राजनीति बदलने के लिए राजनीति में आई थी, लेकिन अब वह बीजेपी के कट्टर हिंदुत्व का मुकाबला करने के लिए सॉफ्ट हिंदुत्व की राह पर चल पड़े हैं। अरविंद केजरीवाल और उनकी पार्टी को सॉफ्ट हिंदुत्व का फायदा होता भी दिख रहा है, क्योंकि दिल्ली चुनाव के बाद आम आदमी पार्टी(आप) से 16 लाख लोग जुड़े हैं।

पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपाल राय ने बताया कि दिल्ली चुनाव के बाद 16 लाख लोग पार्टी से जुड़े हैं। बता दें दिल्ली चुनाव परिणाम आने बाद 'आप' ने देशभर में पार्टी के विस्तार के लिए 'राष्ट्रीय निर्माण' अभियान शुरू किया था। चुनाव परिणाम के बाद 11 फरवरी को आम आदमी पार्टी ने इस अभियान की शुरुआत की। इसके अभियान के अंतर्गत पार्टी ने एक फोन नंबर जारी किया, जिसपर मिस कॉल करके कोई भी पार्टी का सदस्य बन सकता है।

केजरीवाल भ्रष्टाचार मुक्त और विकास के एजेंडे के दम पर भले ही शीला दीक्षित के नेतृत्व वाली कांग्रेस को मात दे दिया हो, लेकिन जब उनका सामना कट्टर हिंदुत्व वाली पार्टी बीजेपी से हुआ तो उन्होंने अपने एजेंडे में सॉफ्ट हिंदुत्व को शामिल कर लिया और हनुमान भक्त बन गए।

यह भी पढ़ें...मनमोहन सिंह का कड़ा प्रहार, कहा-देश को बर्बाद कर रही मोदी सरकार

दिल्ली चुनाव के समय केजरीवाल अपनी सभाओं में हनुमान चालीसा का पाठ करते नजर आए। दिल्ली के विधानसभा चुनाव में केजरीवाल की पार्टी आप को सॉफ्ट हिंदुत्व का राजनीतिक फायदा भी हुआ। आप ने दिल्ली की कुल 70 में 62 सीटें जीतकर हैट्रिक बना दी। दिल्ली के अब आप की नजर पूरे देश पर है, केजरीवाल हनुमान भक्त बने रहने के मूड में हैं। तभी तो आप नेताओं ने दिल्ली में सुंदरकांड का पाठ करवाना शुरू कर दिया है।

दिल्ली के ग्रेटर कैलाश से आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने ट्विटर पर लिखकर कहा था कि हर महीने के पहले मंगलवार को सुंदर कांड का पाठ अलग-अलग इलाकों में किया जाएगा।

यह भी पढ़ें...यूपी चुनाव पर बड़ा ऐलान: क्या बसपा के इस फैसले से सपा को होगा नुकसान

दरअसल दिल्ली के डिप्टी सीएम और आप के वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया ने कहा था कि मैं शाहीन बाग के साथ हूं। उनके इस बयान के बाद आप नेताओं को अलग लाइन पकड़नी पड़ी थी। केजरीवाल ने शाहीन बाग पर बोलने से नेताओं को मना कर दिया था और पूरे चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने मुस्लिम इलाकों से दूर रहे।

केजरीवाल के इस दांव की वजह से ही बीजेपी की काफी कोशिशों के बावजूद भी हिंदू वोटों का ध्रुवीकरण नहीं हो पाया और केजरीवाल सत्ता की हैट्रिक लगाने में सफल हो गए। अगर हिंदू वोटो का ध्रुवीकरण हुआ होता तो आप की राह मुश्किल हो सकती थी।

यह भी पढ़ें...शाहीन बाग में ड्रामा! प्रदर्शनकारियों के एक गुट ने खोला रास्ता, दूसरे ने किया बंद

दिल्ली विधानसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल ने हनुमान की एंट्री खुद कराई थी। उन्होंने एक इंटरव्यू में क्या हनुमान चालीसा आती है सिर्फ ये सवाल सुनते ही केजरीवाल हनुमान भक्त बन गए और हनुमान चालीसा गाने लगे। बजरंगबली के मंदिर जाने लगे और दिल्ली चुनाव की जीत के बाद भगवान हनुमान को धन्यबाद भी बोला। केजरीवाल शपथ ग्रहण माथे पर तिलक लगा कर पहुंचे थे। अब साफ है कि आप सॉफ्ट हिंदुत्व की ही राह चलेगी।

यह भी पढ़ें...अभी-अभी आई बड़ी खबर: ट्रंप के साथ योगी भी जाएंगे ताजमहल देखने

गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली में 1,72,269 और यूपी में 1,81,212 समेत 16 लाख लोग फोन नंबर द्वारा पार्टी से जुड़े हैं। आम आदमी पार्टी रविवार को 20 अन्य राज्यों में यह अभियान शुरू करने जा रही है। राय ने बताया कि आम आदमी पार्टी देश भर में 'काम की राजनीति करेगी। इसके लिए, 23 फरवरी से पार्टी 20 राज्यों में राष्ट्र निर्माण अभियान में शामिल होने के लिए एक अभियान शुरू करेगी। इस अभियान के तहत 20 राज्यों में पोस्टर लगाए जाएंगे, पोस्टर पर मिस्ड कॉल नंबर भी दिया जाएगा।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story