Top

पाकिस्तान-भारत में हुआ ऐसा, तो जाएगी करोड़ों लोगों की जान

भारत और पाकिस्तान के रिश्ते तो जगजाहिर हैं। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की ओर से सेना पर कई बार हमले किए जाते हैं। यहां तक कि पाक की तरफ से भारत को कई बार परमाणु युद्ध तक की धमकी दी जा चुकी है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 18 March 2020 5:32 AM GMT

पाकिस्तान-भारत में हुआ ऐसा, तो जाएगी करोड़ों लोगों की जान
X
पाकिस्तान-भारत में हुआ ऐसा, तो जाएगी करोड़ों लोगों की जान
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: भारत और पाकिस्तान के रिश्ते तो जगजाहिर हैं। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की ओर से सेना पर कई बार हमले किए जाते हैं। यहां तक कि पाक की तरफ से भारत को कई बार परमाणु युद्ध तक की धमकी दी जा चुकी है। लेकिन क्या आपको पता है कि अगर दोनों देशों के बीच परमाणु युद्ध होता है तो आधुनिक इतिहास (modern history) में वैश्विक स्तर पर अब तक का सबसे बड़ा खाद्यान्न संकट (Global food crisis) पैदा हो सकता है। एक नए अध्ययन में इसका दावा किया गया है।

पैदा हो सकती है वैश्विक शीतलन की स्थिति

PNAS नाम के जर्नल में प्रकाशित अध्ययन (STUDY) में ये पाया गया है कि परमाणु युद्ध से अचानक वैश्विक शीतलन (Global cooling) की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। साथ ही ये भी बताया गया है कि कम बारिश होने की वजह से और धूप न दिखाई देने से लगभग एक दशक तक विश्वभर में खाद्य उत्पादन (food production) और व्यापार बाधा उत्पन्न हो सकती है।

यह भी पढ़ें: हिरासत में लिए गए दिग्विजय सिंह, बागी विधायकों से न मिलने देने पर हुई गर्मागर्मी

वैश्विक फसल विकास के लिए ठंडा होने की संभावनाएं काफी कम

अमेरिका की रटगर्स यूनिवर्सिटी-न्यू ब्रूनस्विक के शोधकर्ताओं (Researchers) के मुताबिक, इसका असर 21वीं सदी के अंत तक मानव निर्मित जलवायु परिवर्तन यानि (Man-made climate change) के प्रभाव से अधिक देखने को मिलेगा। शोधकर्ताओं का मानना है कि हालांकि Agricultural productivity यानि कृषि उत्पादकता पर ग्लोबल वार्मिंग से पड़ने वाले प्रभावों का बड़े पैमाने पर अध्ययन किया गया है, लेकिन वैश्विक फसल विकास (Global crop development) के लिए इसके अचानक ठंडा होने की संभावनाएं काफी कम हैं।

परमाणु हथियारों के इस्तेमाल से होगी खौफनाक स्थिति

अमेरिका की रटगर्स यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और इस स्टडी के सह लेखक एलन रोबॉक ने कहा कि, हमारे परिणाम उन वजहों के बारे में बताते हैं, जो परमाणु हथियारों को खत्म करने की जरूरत पर बल देते हैं। क्योंकि अगर वो मौजूद हैं तो पूरी दुनिया को उनके इस्तेमाल का दुखद परिणाम देखने को मिल सकता है। उनका कहना है कि अगर परमाणु हथियारों का इस्तेमाल हुआ तो वो इतना खौफनाक होगा कि इस वजह से मरने वालों की संख्या अकाल से मरने वालों की संख्या से भी अधिक होगी।

यह भी पढ़ें: ASTRO: कोरोना जैसी हर महामारी का इन मंत्रों से होगा निदान, करें 11 या 21 बार जाप

भुखमरी के चलते मर सकते हैं करोड़ से ज्यादा लोग

एलन रोबॉक ने हाल ही में 'जर्नल साइंस एडवांस' में प्रकाशित एक स्टडी में बतौर सह-लेखक (Co-author) ये कहा था कि, अगर भारत और पाकिस्तान के बीच परमाणु युद्ध होता है तो दुनिया भर में करीब 1 करोड़ से ज्यादा लोग भुखमरी के चलते तुरंत मर सकते हैं।

5 सालों तक बारिश और धूप पर होगा ये असर

नए अध्ययन में शोेधकर्ताओं ने 50 करोड़ टन धुएं के परिदृश्य का इस्तेमाल किया, जो कि 100 परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करने के परिणामस्वरूप बन सकता है। अध्ययन में पाया गया कि इससे पृथ्वी लगभग 1.8 डिग्री सेल्सियस तक ठंडी हो सकती है और कम से कम 5 सालों के लिए बारिश और धूप को 8 प्रतिशत तक कम कर सकता है।

फसलों के उत्पादन में आएगी गिरावट

शोधकर्ताओं ने फसलों पर इसके प्रभावों का आकलन किया, जिसमें पाया गया कि अगर दोनों देशों के बीच परमाणु युद्ध हुआ तो 5 सालो में गेहूं के उत्पादन में 11 फीसदी, चावल के उत्पादन में 3 फीसदी, मकई के उत्पादन में 13 फीसदी, और सोयाबीन में 17 फीसदी तक की गिरावट हो सकती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि पहले साल खाद्यान्न में करीब 12 फीसदी कमी दर्ज की जाएगी। जो इतिहास में अब तक की आई कमी से चार गुना ज्यादा होगी। इसके चलते भयानक सूखा (drought) और ज्वालामुखी विस्फोट (volcanic eruptions) जैसी घटनाएं भी सामने आएंगी।

यह भी पढ़ें: आर्मी तक पहुंचा कोरोना का कहर: कोलकाता में मिला पहला केस, आकंड़ा हुआ 139

पहले साल खाद्य उत्पादन के नुकसान को रोक सकते हैं, लेकिन..

शोधकर्ताओं के मुताबिक, पहले साल में तो घरेलू भंडार और वैश्विक व्यापार बड़े पैमाने पर खाद्य उत्पादन के नुकसान को रोक सकते हैं। लेकिन इसके बाद घरेलू खाद्य उपलब्धता घटती जाएगी और लोगों को खाना मिलना बेहद मुश्किल हो जाएगा, जिससे स्थिति काफी भयानक हो जाएगा।

शोधकर्ताओं ने अनुमान जताया है कि अगर भारत-पाकिस्तान के बीच परमाणु युद्ध छिड़ता है तो इससे 160 करोड़ टन धुआं उठ सकता है क्योंकि दोनों ही देशों के पास बड़े-बड़े हथियार हैं। जिसका सीधे तौर पर मतलब है कि इसका प्रभाव तीन गुना बड़ा हो सकता है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तानी सैनिकों की मौत: आर्मी ने किया ऐसा हमला, सीमा पार मचा मातम

Shreya

Shreya

Next Story