Top

चीन के खिलाफ S-400 मिसाइल का इस्तेमाल ना करे भारत, ऐसा क्यों चाहते हैं स्वामी

बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रहमण्यम स्वामी चीन के खिलाफ युद्ध की स्थिति में एस -400 वायु रक्षा मिसाइल सिस्टम की तैनाती के खिलाफ एक बार फिर मुखर हो गए हैं। आखिर क्या वजह है जिसके चलते स्वामी इसका विरोध कर रहे हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 13 Jun 2020 3:43 PM GMT

चीन के खिलाफ S-400 मिसाइल का इस्तेमाल ना करे भारत, ऐसा क्यों चाहते हैं स्वामी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुब्रहमण्यम स्वामी चीन के खिलाफ युद्ध की स्थिति में एस -400 वायु रक्षा मिसाइल सिस्टम की तैनाती के खिलाफ एक बार फिर मुखर हो गए हैं। आखिर क्या वजह है जिसके चलते स्वामी इसका विरोध कर रहे हैं। अक्टूबर 2018 में, नरेंद्र मोदी सरकार ने जब अपने कार्यकाल में सबसे बड़े हथियारों के सौदों में से एक पर हस्ताक्षर किए, तब 5.43 अरब डॉलर के अनुबंध में रूस से पांच एस -400 वायु रक्षा मिसाइल सिस्टम खरीदने का अनुबंध भी शामिल था।

S-400 सिस्टम चीनी इलेक्ट्रॉनिक्स के साथ बना है

स्वामी ने एक ट्वीट कर नरेंद्र मोदी सरकार को चीन के साथ संभावित लड़ाई में S400 का उपयोग नहीं करने की सलाह दी है। और ऐसा करने के पीछे कारण बताते हुए कहा है कि S-400 सिस्टम चीनी इलेक्ट्रॉनिक्स के साथ बनाया गया है और रूस आज चीन का जूनियर पार्टनर है। द वीक में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार S-400 एक एकीकृत वायु रक्षा प्रणाली है जिसमें रडार, कमान और नियंत्रण उपकरण और चार प्रकार की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलें हैं।

यह भी पढ़ें...भारत समेत सभी पड़ोसी कोरोना से बेहाल, मगर इस देश में बेदम हुआ वायरस

S-400 द्वारा उपयोग की जाने वाली चार प्रकार की मिसाइलों की रेंज 40 किमी से 400 किमी तक भिन्न होती है और ये विमान, ड्रोन, क्रूज मिसाइल और बैलिस्टिक मिसाइल को मार गिरा सकती हैं। भारतीय वायु सेना का कहना है कि एस -400 मिसाइल गेम-चेंजर साबित होगी। इसके साथ ही राफेल लड़ाकू विमान भी भारत पहुंचेंगे।

अमेरिका ने भारत को दी बैन की चेतावनी

अत्याधुनिक हथियार प्रणाली के रूप में अपनी क्षमता के अलावा, एस -400 अंतरराष्ट्रीय राजनीति के केंद्र में रहा है। जुलाई 2019 में, डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन ने अंकारा द्वारा एस -400 के लिए एक सौदे को रद्द करने से इनकार करने के बाद तुर्की को एफ -35 स्टील्थ फाइटर के निर्माण और खरीद में भाग लेने से हटा दिया। अगर एस -400 की डिलीवरी ली जाती है तो अमेरिका भी भारत को प्रतिबंधों की चेतावनी दे रहा है।

यह भी पढ़ें...मोदी का मेगा प्लान: कोरोना संकट पर अहम बैठक, मंत्रियों-अफसरों को दिए ये निर्देश

चीन के साथ संघर्ष में एस -400 मिसाइल सिस्टम का इस्तेमाल नहीं करने के लिए शुक्रवार को स्वामी ने नरेंद्र मोदी सरकार को चेतावनी देते हुए ट्वीट किया। स्वामी ने लिखा, "चीन के साथ संभावित लड़ाई में नमो सरकार को S-400 का उपयोग नहीं करना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि S400 चीनी इलेक्ट्रॉनिक्स के साथ बनाया गया है। रूस आज चीन का एक जूनियर भागीदार है"। 2014 में मिसाइल सिस्टम खरीदने और 2018 में पहली इकाइयों की डिलीवरी लेने के लिए चीन एस-400 के लिए पहला निर्यात ग्राहक था।

यह भी पढ़ें...नेपाल की भारतीय शख्स के साथ अमानवीयता, 20 घंटों में कर दिया ऐसा हाल

यह पहली बार नहीं है जब स्वामी ने एस -400 मिसाइल सिस्टम के खिलाफ चेतावनी दी है। दिसंबर 2019 में, स्वामी ने चेतावनी दी कि चीनी इलेक्ट्रॉनिक्स अमेरिकी प्रतिबंधों के जोखिम के अलावा, पाकिस्तान के साथ युद्ध में मिसाइल प्रणाली को लेकर कम्प्रोमाइज करना पड़ेगा। स्वामी ने तब ट्वीट किया था, "रूस से एस -400 की खरीद के कारण अगले साल की शुरुआत में अमेरिका से कड़ा प्रतिबंध लगने की संभावना है। एस -400 एक अच्छा हथियार है, लेकिन पाकिस्तान के साथ युद्ध में यह समझौते को मजबूर कर देगा।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story