delhi police

तबलीगी जमात मामले में दिल्ली पुलिस ने आज यानि मंगलवार को 83 विदेशी जमातियों के खिलाफ 20 चार्जशीट दाखिल कर दी है। दिल्ली पुलिस ने जमात में शामिल हुए 20 देशों के 83 विदेशियों के खिलाफ 14 हजार पन्नों की 20 चार्जशीट दाखिल की है।

राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में स्थित तबलीगी जमात के मुखिया पर शिकंजा कसते हुए क्राइम ब्रांच ने 166 जमातियों के बयान दर्ज किए हैं।

कोरोना से मरने वालों के अंतिम संस्कार के लिए एजेंसियों की नियुक्ति की गई है। हाल ही में राजधानी में इसे लेकर एक बड़ी लापरवाही सामने आई है।

तबलीगी जमात के मुखिया मौलाना साद और जमात की गतिविधियों की जांच करने में जुटी क्राइम ब्रांच की टीम भी कोरोना की शिकार हो गई है। जांच टीम में शामिल पांच पुलिसकर्मी एक-एक कर कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं।

दिल्ली पुलिस ने इंस्टाग्राम पर चैट ग्रुप और हुई अश्लील बातें इस समय देश में चर्चा की विषय बन गई है। इस बीच बुधवार को बॉयज लॉकर रूम के एडमिन को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इससे पहले भी ग्रुप सदस्य को गिरफ्तार किया गया था जो नाबालिग है।

थाना इंचौली पुलिस के अनुसार मृतक का नाम मनोज कुमार(40) है। मेरठ के थाना दौराला क्षेत्र के अजौता गांव निवासी मनोज कुमार दिल्ली स्पेशल सेल में सिपाही था।

तबलीगी मरकज के मुखिया मौलाना साद पर क्राइम ब्रांच का शिकंजा लगातार कसता जा रहा है। क्राइम ब्रांच की टीम मरकज की सारी गतिविधियां और उसके बैंक खातों से हुए आर्थिक लेनदेन की गहराई से पड़ताल करने में जुटी है।

दिल्ली में ओवरस्पीड में गाड़ी चलाने पर अब तक पुलिस ने करीब साढ़े 4 लाख वाहनों के चालान काटे हैं। ये सभी चालान लॉकडाउन के दौरान किए गए हैं, जिसकी कुल कीमत तकरीबन 90 करोड़ रूपये है।

दिल्ली पुलिस ने बताया कि मौलाना साद को चौथी बार नोटिस इसलिए भेजा गया है क्योंकि वह जांच में सहयोग नहीं कर रहा है। बता दें कि अभी हाल में ही तब्लीगी मरकज के प्रमुख मौलाना मुहम्मद साद के अधिवक्ता ने दावा किया था कि मौलाना ने निजी और सरकारी लैब से कोरोना की जांच कराई है।