delhi police

कृषि कानूनों के खिलाफ आक्रोशित किसान अपने जारी आंदोलन के चलते दिल्ली के बॉर्डर तक आ पहुंचे हैं। ऐसे में किसानों के दिल्ली मार्च को देखते हुए अब दिल्ली पुलिस ने राजधानी सरकार को एक पत्र लिखा है।

दिल्ली हिंसा मामले में पहली बार 20 आरोपियों की तस्वीर सामने आई है। दिल्ली पुलिस ने अब इनकी तस्वीर जारी की है, जिनकी क्राइम ब्रांच को कई महीनों से तलाश है।

पुलिस की टीम फौरन वहां के लिए रवाना हो गई। थोड़ी ही देर बाद पूछताछ करने पर आरोपी के घर की पहचान कर ली गई, फिर नितिन नाम के शख्स को हिरासत में ले लिया गया।

पुलिस ने आगे कहा है कि हमलावरों का मकसद सरकार को आतंकित करना और सीएए, एनआरसी वापस लेने के लिए दबाव बनाना साफ तौर पर आतंकी गतिविधि है।

दिल्ली पुलिस ने बताया है कि यह वायरल वीडियो बीते 18 नवंबर का है। 28 साल की युवती का नाम नुसरत है और दिल्ली के जाफराबाद में रहती है। आरोपी महिला मोहसिन की बहन है जो गैंगस्टर नासिर का साथी है।

पुलिस की हेड महिला कांस्टेबल सीमा ढाका ने केवल 75 दिनों में 76 लापता बच्चों को खोज निकाला है। उन्हें कमिश्नर ने ‘Out-of-Turn-promotion’ दिया है।

पुलिस ने बताया है कि आतंकी जम्मू-कश्मीर के बारामुला जिले और कुपवाड़ा जिले के रहने वाले हैं। इनकी पहचान अब्दुल लतीफ और कुपवाड़ा जिले के हट मुल्ला गांव के रहने वाले अशरफ खाताना के रूप में हुई है।

वकील अपनी साली की 17 वर्षीय बेटी के साथ संबंध बनाना चाहता था। विरोध करने पर उसने पत्नी के साथ मिलकर किशोरी की लोहे की रॉड से वारकर हत्या कर दी। बाद में शव को कंबल में लपेट कर बेड में डाल दिया।

पुलिस ने मंदिर प्रशासन की शिकायत पर फैसल खान और उसके दोस्त के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। पुलिस ने फैसल खान को गिरफ्तार कर लिया है। शुरुआती जांच में पुलिस को जानकारी मिली है कि मंदिर में नमाज पढ़ने वाले दिल्ली की खुदाई खिदमतगार संस्था के हैं।