mizoram

देश की धरती एक बार फिर भूकंप से झटकों से कांप उठी है। मिजोरम के चम्फाई में आज यानी शनिवार सुबह भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। इन झटकों की तीव्रता रिएक्टर स्केल पर 3.7 थी। बता दें, नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी ने इसकी जानकारी दी।

पेट्रोल डीजल के उपभोग की सीमा को मिजोरम सरकार ने तय करते हुए एक नई व्यवस्था लागू की है। वाहनों के मुताबिक तय सीमा तक ही ईंधन खरीदने की अनुमति होगी।

दुनियाभर में लगातार आ रहे भूकंप के झटकों ने सभी को हैरान-परेशान करके रख दिया है। ऐसे में मिजोरम में इस महीने कई बार भूकंप के झटके महसूस किए जाने की वजह से लोग सहमे हुए हैं।

भारत के कई बड़े शहर इन दिनों भूकंप की मार झेल रहे हैं। इसी कड़ी में गुरुवार को मिजोरम में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए।  भूकंप का केंद्र यहां का चंपई जिला था। जिले के दक्षिण पश्चिम इलाके में आज दोपहर करीब 2 बजकर 28 मिनट पर 4.2 रिक्टर स्केल का भूकंप दर्ज किया गया।

कच्छ में रिएक्टर स्केल 4.2 की तीव्रता का भूकंप आया। इतना ही नहीं गुजरात में भूकम्प आने के 15 मिनट के बाद मिजोरम में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए।

भारत क्या दुनियाभर में भूकंप के झटकों का सिलसिला लगातार जारी है। ऐसे में शुक्रवार यानी आज मिजोरम में चम्फाई के नजदीक भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं।

बीते दिन सूर्यग्रहण के खत्म होते ही मिजोरम में 12 घंटे में आए दो भूकंपों भारी कहर बरपाया है। यहां आए भूकंपों की तीव्रता इतनी ज्यादा थी, कि पक्के मकानों में बड़ी-बड़ी दरारे आ गई।

12 घंटे के अंदर आए लगातार दो भूंकपों से मिजोरम में हड़कंप मच गया। मिजोरम में सोमवार सुबह भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूंकप की तीव्रता 5.8 मापी गई।

असम, मेघालय, मणिपुर, और मिजोरम में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। जिसकी तीव्रता करीब 5.1 मापी गई है। बताया जा रहा है कि भूकंप का केंद्र मिजोरम के आइजोल जिले में रहा।