rbi

आरबीआई के मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक का रिजल्ट आ चूका है। इस बैठक में रेपो रेट में 35 बेसिस प्‍वाइंट की कटौती की गई है। जिस वजह से अब रेपो रेट 5.75 फीसदी से कम हो कर 5.40 फीसदी हो गया है।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक में आम जनता को बड़ी राहत दी गई है। इस बैठक के बाद 35 बेसिस प्‍वाइंट(रेपो रेट) की कटौती की घोषणा की गई है। इस कटौती के बाद रेपो रेट 5.40 फीसदी पर आ गया है। इससे पहले रेपो रेट की दर 5.75 फीसदी थी।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के सर्वे के अनुसार, भुवनेश्वर में घर खरीदना जितना आसान है, वो मुंबई में उतना ही मुश्किल है। बता दें कि  RBI ने आवासीय संपत्ति मूल्य निगरानी सर्वे (आरएपीएमएस) किया है।

उल्लेखनीय है कि फरवरी में पेश 2019-20 को पेश अंतरिम बजट अनुमान की तुलना में शुक्रवार 5 जुलाई को पेश पूर्ण बजट में 6,000 करोड़ रुपये अधिक राजस्व की प्राप्ति का अनुमान लगाया गया है।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने फैसला किया है कि 1 जुलाई से आरटीजीएस और एनईएफटी ट्रांजैक्शन पर अब किसी तरह का शुल्क नहीं लगाया जाएगा। इसके लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बैंकों को आरटीजीएस और एनईएफटी पर लगने वाले चार्जेज हटाने का आदेश दिया है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अपने सेवानिवृत्ति से करीब छह माह पहले इस्तीफा दे दिया है। विरल आचार्य का यह कदम तमाम सवाल खड़े कर गया है। ऐसे में विरल आचार्य का 2018 का यह कथन काफी सटीक बैठता है कि सरकार के फैसले टी20 मैच की तरह होते हैं। शायद इसी बात से व्यथित हो विरल ने यह विराट कदम उठाया।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को एक बड़ा झटका लगा है। दरअसल, केंद्रीय बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया है। यह करीब 7 महीने के भीतर दूसरी बार है जब आरबीआई के किसी उच्‍च अधिकारी ने कार्यकाल पूरा होने से पहले ही अपने पद को छोड़ दिया है।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने गुरुवार को आम जनता के हित को लेकर कई बड़ी घोषणाएं की हैं। आरबीआई ने RTGS-NEFT से पैसा ट्रांसफर करने पर चार्ज हटाने का फैसला लिया है, तो वहीं एटीएम से पैसे निकालने पर लगने वाले चार्ज को लेकर भी कुछ संकेत दिए हैं।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने देश की जनता को एक बार फिर तोहफा दिया है। आरबीआई ने मौद्रिक नीति समिति की समीक्षा बैठक में रेपो रेट में 0.25 प्वाइंट की कमी का ऐलान किया। इस कमी के बाद रेपो रेट घटकर 5.75 फीसदी रह गया है।

आज 1 जून 2019 से आपकी जिन्दगी से जुड़ी इन खास चीज़ों में बड़ा बदलाव हो गया है। सरकार की तरफ से इन चीज़ों में किए गए बड़े बदलाव का सीधा असर आप की जेब और बैंक अकाउंट पर पड़ सकता है।