shani

ज्योतिष शास्त्र में ग्रहों का महत्व बहुत अधिक है। इनका जीवन पर अच्छा व बुरा दोनों प्रभाव पड़ता है। चाहे सौर मंडल का कोई भी भी ग्रह हो अगर जातक की कुडंली में सही जगह पर नहीं है तो ऐसे जातक को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। 

चीन के वुहान से पूरी दुनिया में फैला कोरोना वायरस आज चरम पर है और महामारी का रूप ले चुका है। भारत में भी इसके बहुत से मामले सामने आए हैं, लेकिन लोगों के मन में एक ही सवाल है कि इस वायरस से कब  मुक्‍ति मिलेगी। ज्योतिष विज्ञान की दृष्‍टि से जानिए से कोरोना वायरस क्यों विश्वस्तर पर एक महामारी के रूप में फैलता जा रहा है।

जयपुर: हर ग्रह का एक रत्न होता है। शनि ग्रह का रत्‍न नीलम है, जिसे अंग्रेजी में ‘ब्‍लू सेफायर’ कहते हैं। ज्‍योतिष विज्ञान में इसे कुरूंदम का रत्‍न कहते हैं। इस समूह में लाल रत्‍न को माणिक तथा दूसरे सभी रत्नों को नीलम कहते हैं। इसलिए नीलम सफेद, हरे, बैंगनी, नीले आदि रंगों में प्राप्‍त …

जयपुर:शनि का प्रकोप भगवान शंकर को भी नहीं छोड़ा। कहते हैं कि भगवान शंकर पर भी शनि की महादशा का प्रभाव पड़ा था। पौराणिक कथा के अनुसार, एक समय शनि देव भगवान शंकर के धाम हिमालय पहुंचे। उन्होंने अपने गुरुदेव भगवान शंकर को प्रणाम कर उनसे आग्रह किया,” हे प्रभु! मैं कल आपकी राशि में …

सहारनपुर: विक्रम संवत 2075 का प्रारंभ 18 मार्च ;रविवार से हो रहा है यानी इस दिन ही हिंदू पंचांग के अनुसार नया साल आरंभ होगा। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार इस संवत्सर का नाम विरोधकृत है। इस साल के राजा सूर्य  होंगे और उनके मंत्री शनि महाराज रहेंगे। यानी राजा और मंत्री के विचारों में विरोध बना …

जयपुर:ज्योतिष शास्त्र में शनि को ऐसे ग्रह के तौर पर देखा जाता है जिसकी चाल अन्य सभी ग्रहों से खतरनाक है। शास्त्रों के अनुसार शनि देव को प्रसन्न करने के लिए उनकी स्तुति सर्वश्रेष्ठ है।कर्मफलदाता शनि देव को प्रसन्न करने के लिए शनि मंत्र सबसे अधिक प्रभावशाली माना जाता है। शनि की साढ़ेसाती हो या …

जयपुर: ज्योतिष शास्त्र में कहा जाता है कि शनि की कृपा हो जाए तो लोग रंक से राजा बन जाते है। शनि देव को प्रसन्न करने के लिए लोग कई तरह के उपाय करते है। वहीं रत्न ज्योतिष मे कहा जाता है कि नीलम धारण करने से शनि के प्रभाव से बचा जा सकता है। …

जयपुर: ज्योतिष के अनुसार 8 अंक को शनि का  अंक माना गया है। ऐसे में जिन व्यक्तियों का जन्म 8,17 और 26 को होता है। उनका मूलांक 8 होता है। इस अंक का स्वामी ग्रह शनि होता है। ज्योतिष के अनुसार 8 अंक वाले जातक ऐसे होते हैं। य़ह भी पढ़ें…ये 4 राशियां हो रही …

जयपुर: ज्योतिष शास्त्र में राहु और केतु दो ग्रह हैं जिसका अशुभ प्रभाव शनि से भी अधिक घातक होता है। इन ग्रहों को नीच ग्रह की श्रेणी में रखा गया है। राहु और केतु क्षुद्र ग्रह माने जाते हैं। राहु और केतु जब अपना विनाशकारी प्रभाव दिखाते हैं तो अपराध नहीं भी करते हैं तो …

लखनऊ:  ग्रह-नक्षत्रों के प्रभाव का असर हमारे जीवन पर बहुत पड़ता है। प्रभाव शुभ और अशुभ दोनों होते हैं। इनका असर शरीर और मन दोनों पर पड़ता है। शरीर में ग्रहों से संबंधित सभी तत्व मौजूद रहते हैं। ये ग्रह और नक्षत्र उन्हीं तत्वों को प्रभावित करते हैं और ये तत्व हमारे  भोजन से संबंधित …