united nations

संयुक्त राष्ट्र ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा में तबाही मचाने वाले चक्रवात तूफान अम्फान को 2009 में आए चक्रवात 'ऐला' से कई गुना ज्यादा विनाशकारी बताया।

कोरोना वायरस के संकट के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के ड्राइवर पर गोलियों से हमला करते हुए उसकी हत्या कर दी। मामला सामने आने के बाद हड़कंप मच गया। बता दें कि WHO में कार्यरत ड्राइवर कोरोना वायरस के संदिग्ध का सैम्पल लेने जा रहा था।

कोरोना वायरस संकट के चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था में इस साल मंदी दिखाई देगी और वैश्विक आय में कई ट्रिलियन डॉलर का नुकसान होने का अंदेशा है। ऐसे हालात में विकासशील देशों को बड़ी समस्या का सामना करना पड़ेगा, लेकिन चीन और भारत जैसे देश इसमें अपवाद साबित होंगे।

वैश्विक स्तर पर भारत ने अपनी स्थिति को संयुक्त राष्ट्र के सामने और प्रबल बना दिया है। भारत ने ऐसा काम किया है जिसके बाद संयुक्त राष्ट्र भी तारीफ़ कर रहा है।

पाकिस्तान में क्या हालात है किसी से छिपा नहीं है। आतंकवाद, भूखमरी, अशिक्षा पाकिस्तान में किस तरह व्याप्त है। पाकिस्तान में आम आदमी तो बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है, बात यह है कि मानवाधिकार की दुहाई देने वाले पाकिस्तान में पत्रकारों की जिंदगी भी सुरक्षित नहीं है।

UN ने मंगलवार को कहा कि घाटी के लोग अधिकारों से वंचित हैं और हमने भारतीय अधिकारियों से मांग की है कि कश्मीर में नागरिकों के सभी अधिकार बहाल हों। इसके साथ ही UN ने यह भी कहा कि कश्मीर में सुधार के लिए भारत ने कई कदम उठाए हैं।

15 अक्टूबर को 1931 को  डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म हुआ था और उनकी जयंती के मौके पर ही संयुक्त राष्ट्र हर साल विश्व छात्र दिवस के तौर पर मनाता है। इस दिन स्कूलों में तरह-तरह के कार्यक्रमों का आयोजन होता है। छात्रों के लिए निबंध और भाषण प्रतियोगिताओं का आयोजन होता है।

सूडान में सैन्य कार्रवाई में 100 से अधिक प्रदर्शनकारियों के मारे जाने की घटना के मद्देनजर संयुक्त राष्ट्र वहां से अपने कुछ कर्मियों को हटा रहा है।

यूएनओ की संस्था यूएनएसडीजी (यूनाइटेड नेशन सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल) ने दुनियाभर के उन लोगों को सम्मानित किया है जिन्होंने स्वास्थ्य के क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

संयुक्त राष्ट्र में दुनिया के सभी देशों का प्रतिनिधित्व है और एक महत्वपूर्ण बोर्ड में भारत के प्रतिनिधि का दूसरी बार सदस्य चुना जाना एक खास अहमियत रखता है क्योंकि इस विशाल मंच पर किसी भी अहम मुद्दे पर विवाद की स्थिति में जब अपने देश के लिए समर्थन जुटाने का मौका आता है तो बेहतर प्रतिनिधित्व वाला देश हमेशा एक बेहतर स्थिति में होता है।