varanasi news

वाराणसी में प्रदूषण की रोकथाम के लिए शासन स्तर पर बड़ी योजना बनी है। इसमें वायु से लेकर जल प्रदूषण को केंद्रित किया गया है। प्रदूषण के बढ़ते प्रकोप को थामने के लिए सरकार पानी की तरह पैसे बहाने को तैयार है।

जहां बाहुबली विधायक के नाम पर धमकी देना उसके गुर्गे को महंगा पड़ गया। कैंट पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है।

इंसाफ की आस में कुछ लोग जान दे रहे हैं तो कुछ आंदोलन की राह पकड़ ले रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में राजातालाब तहसील में जनसुनवाई के दौरान एक किसान अनूठे अंदाज में विरोध प्रदर्शन करते हुए दिखा।

छात्रों ने विश्वविद्यालय परिसर को पूरी तरह खोलने की मांग को लेकर मुख्यद्वार को बंद कर दिया है। साथ ही अनशन पर बैठ गए हैं। छात्रों के तेवर देख विश्वविद्यालय प्रशासन बैकफुट पर है।

अभी तक आपने सड़कों पर लागू होने वाले ट्रैफिक प्लान को जाना और समझा होगा। लेकिन अब गंगा की लहरों में भी नियम-कायदे का पालन करना होगा। बनारस में तो बकायदा इसका प्लान भी तैयार हो चुका है।

अभी तक अपने वन-डे, टेस्ट और टी-20 क्रिकेट मैच देखा होगा लेकिन वाराणसी के संपूर्णानंद विश्वविद्यालय के मैदान पर एक ऐसा मैच खेला जाता है, जिसे देखने के लिए लोगों को पूरे साल इन्तजार रहता है.

इस ट्रांसजेंडर शौचालय की सारी व्यवस्थाएं ट्रांसजेंडर्स के हाथों में रहेगी। इस सम्बन्ध में लोकार्पण के समय बात करते हुए महापौर मृदुला जायसवाल ने बताया कि आज प्रदेश का पहला ट्रांसजेंडर शौचालय वाराणसी में खोला गया है।

डाक्टरों ने मानवता को शर्मसार करते हुए दिव्यांगों को दूसरी मंजिल पर आने का हुक्म सुना दिया. शिवमूरत अपनी पत्नी के साथ सर्टिफिकेट बनवाने के लिए पहुंचे थे. लेकिन अस्पताल की दुर्व्यवस्था देख दोनों बेहद दुखी हुए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अभ्युदय एक कोचिंग सेंटर मात्र नहीं है, यह जीवन निर्माण की एक नई शुरुआत हैं। ओडीओपी की तर्ज पर अभ्युदय योजना को भी लोकप्रिय बनाएंगे। आगे आने वाले समय में हर प्रतियोगी परीक्षा को इससे जोड़ेंगे।

सरकारी अस्पतालों में दवा-इलाज के समुचित इंतजाम होने का सरकारी दावा हवा-हवाई साबित हो रहा है। ग्रामीणों क्षेत्र के अस्पतालों की कौन कहे, शहर के मण्डलीय अस्पताल कबीरचौरा में भी समय से सिर्फ मरीज पहुंचते है। यहां इलाज कराने के लिये आने वाले रोगियों को लम्बे इंतजार के बाद उपचार मुहैया हो पाता है।