GIS मैपिंग रोकेगा कोरोना: BMC का बड़ा कदम, संक्रमण से बचाएंगे ऐसे

रोना के सबसे ज्यादा मामले भारत के महाराष्ट्र से सामने आ रहे है, जिसे रोकने के लिए उद्धव सरकार युद्ध स्तर की तैयारियों में लगी हुई है। इसी कड़ी में अब राज्य में कोरोना मरीजों कोई पहचान के लिए GIS मैपिंग कराने का फैसला लिया गया है।

मुंबई: कोरोना के सबसे ज्यादा मामले भारत के महाराष्ट्र से सामने आ रहे है, जिसे रोकने के लिए उद्धव सरकार युद्ध स्तर की तैयारियों में लगी हुई है। इसी कड़ी में अब राज्य में कोरोना मरीजों कोई पहचान के लिए GIS मैपिंग कराने का फैसला लिया गया है।

क्या होती है GIS मैपिंग:

पहले तो ये जान लें कि जीआईइस मैपिंग होता क्या है। दरअसल GIS यानि Geographic Information System Mapping किसी भी स्थान की ज्योग्राफिक इमेज को सामने लाने का काम करती है, जिसे अपडेटड तस्वीरों के जरिए सजीव बनाया जाता है। इससे उस स्थान की हालिया और ज्योग्राफिक स्थिति को समझने में आसानी होती है।

ये भी पढ़ें: कोरोना: मजदूरों के लिए तेलगांना सरकार ने उठाया ये कदम, अब हो रही तारीफ

 

इसलिए की जायेगी GIS मैपिंग

GIS मैपिंग के तहत कोरोना प्रभावित इलाकों का नक्शा बनाया जाएगा। प्रभावित इलाकों की जानकारी मुंबई महानगर पालिका (BMC) की वेबसाइट पर उपलब्ध होगी। जिसमें इस बात की भी जानकारी दी जाएगी कि किस इलाके में कितने मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इस तकनीक का फायदा ये होगा कि ऐसे इलाकों में आने-जाने से पहले विशेष सावधानी बरती जा सकेगी और कोरोना के बढ़ते मामलों पर रोक लग सकेगी।

ये भी पढ़ें: यहां 300 कोरोना संक्रमित! पूरे इलाके की घेराबंदी, डॉक्टर-WHO की टीम मौजूद

88 इलाकों की GIS मैपिंग का फैसला

बता दें कि बीएमसी ने कोरोना प्रभावित 88 इलाकों की GIS मैपिंग का फैसला किया है। इसको सार्वजनिक किया जाएगा। ऐसे में वहां रहने वाले और उस तरफ जाने वाले लोग सतर्क रहेंगे।

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन में शराब के शौकीन देने लगे जान, अब सरकार ने उठाया यह बड़ा कदम

गौरतलब है कि भारत में साढ़े 12 सौ से ज्यादा कोरोना के मामले हैं तो केवल महाराष्ट्र में 215 कोरोना संक्रमित है, जो अन्य राज्यों की तुलना में सबसे ज्यादा हैं। अभी तक महाराष्ट्र में 10 लोगों की मौत हो चुकी है। हालाँकि 34 कोरोना संक्रमित मरीजों को ठीक भी किया जा चुका हैं। कई लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है ।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।