टॉयलेट वाला खाना; खाएंगे तो मजा आ जाएगा, जानें कहां मिलता है ये

आपने ऐसे बहुतों रेस्टोरेंट के बारे में सुना होगा जहां पर अलग-अलग और अजीबो-गरीबो ढंग से खाना सर्व किया जाता है। आज हम आपको एक ऐसे ही रेस्टोरेंट के बारे में बताने जा रहे हैं

Published by Shreya Published: January 24, 2020 | 10:46 am
टॉयलेट वाला खाना; खाएंगे तो मजा आ जाएगा, जानें कहां मिलता है ये

टॉयलेट वाला खाना; खाएंगे तो मजा आ जाएगा, जानें कहां मिलता है ये

लखनऊ: आपने ऐसे बहुतों रेस्टोरेंट के बारे में सुना होगा जहां पर अलग-अलग और अजीबो-गरीबो ढंग से खाना सर्व किया जाता है। आज हम आपको एक ऐसे ही रेस्टोरेंट के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां पर टॉयलेट के थीम पर सब कुछ बना है और यहां पर खाना भी इसी थीम पर सर्व किया जाता है। जी हां, यह दुनिया का अकेला ऐसा रेस्टोरेंट है, जहां पर टॉयलेट थीम पर सब कुछ बना हुआ है। तो चलिए बताते हैं आपको इस अजीबो-गरीबो रेस्टोरेंट के बारे में।

यह भी पढ़ें: स्ट्रीट डांसर 3डी से होगा ‘पंगा’: बॉक्स ऑफिस पर मचेगा धमाल

टॉयलेट सीट में खाना?

आपके साथ भी ऐसा जरुर होता होगा कि टॉयलेट शब्द सुनकर आपका मन अजीब सा हो जाता होगा या यह शब्द सुनते ही कुछ खाने का मन नहीं होता होगा। लेकिन सोचिए अगर कोई आपको ये बोले कि आपको टॉयलेट सीट में ही खाना है तो? आपको सोच कर ही बेकार सा लग रहा होगा लेकिन ये सच है। इंडोनेशिया में एक ऐसा है जो टॉयलेट थीम पर बना हुआ है और खास बात तो यह है कि यह रेस्टोरेंट लोगों को काफी पसंद भी है।

यह भी पढ़ें: मुकेश अंबानी के घर चली गोली: मौत से एंटीलिया में मचा हड़कंप

स्टोरेंट के मालिक ने दिया था थीम का आईडिया

इंडोनेशिया में जमबन कैफे नाम के इस रेस्टोरेंट की थीम का आईडिया रेस्टोरेंट के मालिक ने दिया था। उनको कुछ अलग और हट कर करना था और इसलिए उन्होंने रेस्टोरेंट का थीम टॉयलेट सीट रख दिया। पहले तो वहां के लोगों को भी सीट में खाना बेहद अजीब लगता था, लेकिन वक्त के साथ लोगों को यह रेस्टोरेंट खूब पसंद आने लगा। यहां पर काफी ज्यादा तादाद में लोग आते हैं।

क्या है थीम के पीछे का उद्देश्य

ऐसे टॉयलेट कैफे ताईवान और रशिया में भी हैं, लेकिन इंडोनेशिया का यह टॉयलेट कैफे इस मायने में अलग है। क्योंकि इस कैफे का थीम टॉयलेट रखने के पीछे उद्देश्य लोगों को स्वच्छता के लिए जागरुक करना और टॉयलेट का प्रयोग करने के लिए प्रेरित करना है।

यह भी पढ़ें: WINTER CARE:सर्दियों में नहीं आएगी दवा काम, मां की झपकी-थपकी से होगा इलाज