Top

मिला चुटकी भर सिंदूर का राज: पतियों के लिए बहुत जरुरी है ये जानना, तुरंत देखें

हिंदू धर्म में विवाहित महिलाओं के लिए 'सिंदूर' का काफी महत्व होता है। सिंदूर उनके सुहागन होने का प्रतीक होता है। मान्यता है कि मांग में सिंदूर भरने से पति की उम्र लंबी होती है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 20 Feb 2020 11:11 AM GMT

मिला चुटकी भर सिंदूर का राज: पतियों के लिए बहुत जरुरी है ये जानना, तुरंत देखें
X
मिला चुटकी सिंदूर का राज: पतियों के लिए बहुत जरुरी है ये जानना, तुरंत देखें
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हिंदू धर्म में विवाहित महिलाओं के लिए 'सिंदूर' का काफी महत्व होता है। सिंदूर उनके सुहागन होने का प्रतीक होता है। मान्यता है कि मांग में सिंदूर भरने से पति की उम्र लंबी होती है और महिलाओं के सौभाग्य में भी वृद्धि होती है। लेकिन बहुत से लोग इस बात से बेखबर हैं कि आखिर विवाहित महिलाएं सिंदूर क्यों लगाती हैं? तो चलिए हम आपको बताते हैं कि आखिर विवाहित स्त्रियां मांग में सिंदूर क्यों भरती हैं।

यह भी पढ़ें: ट्रंप का मिनट टू मिनट दौरा: यहां जानें कब-कहां-क्या करेंगे अमेरिका के राष्ट्रपति

ये कहानी है प्रचलित

एक कथा के अनुसार, एक युवती और युवक हुआ करते थे, जिनका नाम धीरा और वीरा था। युवती का नाम धीरा था, जो बेहद खूबसूरत थी और फूलों से कोमल थी और दूसरी ओर युवक वीरा एक वीर पुरुष था। दोनों की जोड़ी साथ में खूब जंचती थी। या यूं कह ले कि दोनों की जोड़ी मनमोहक थी। कोई भी दोनों को साथ देख लेता तो इन्हें अपने दिलों-दिमाग से निकाल ही नहीं पाता था। दोनों एक-दूसरे के लिए उत्तम थे तो उन्होंने एक-दूसरे से शादी कर ली। एक दिन दोनों शिकार पर निकले, जहां पर एक कालिया नामक डाकू की धीरा पर बुरी नजर पड़ी।

यह भी पढ़ें: Vodafone-Idea ने सरकार को क्यों दिया 1000 करोड़, जानिए पूरा मामला

धीरा पर कालिया डाकू की थी बुरी नजर

धीरा की बेमिसाल खूबसूरती देख कालिया डाकू की नीयत बिगड़ गई और उसने धीरा को अपना बनाने के बारे में सोचा। धीरा और वीरा को शिकार करते-करते रात हो गई। जिसके चलते धीरा और वीरा ने जंगल में ही रात बिताने का निर्णय लिया। दोनों एक पहाड़ी पर जाकर बैठ गए। उसी दौरान धीरा को प्यास लग गई। वीरा उसके लिए पानी लेने के लिए पहाड़ी से उतरकर जाने लगा। इस मौका का फायदा उठाते हुए कालिया ने वीरा पर अचानक से हमला कर दिया और इस हमले में वीरा घायल हो गया।

यह भी पढ़ें: काशी महाकाल एक्सप्रेस: पहले ही दिन लगा यात्रियों का जमावड़ा, 94% तक सीटें फुल

धीरा ने किया कालिया डाकू का वध

घायल वीरा दर्द के मारे चिल्लाने लगा तो वहां धीरा ने आकर कालिया पर हमला बोलकर उसे मार डाला। धीरा का यह साहस देख वीरा बहुत खुश हुआ और उस वक्त न जाने उसके मन में क्या आया उसने अपने खून से धीरा की मांग भर दी। कहा जाता है कि तभी से सिंदूर लगाने की प्रथा शुरु हो गई। वैसे हिंदू सभ्यता में सिंदूर को लेकर भगवान हनुमान जी की कहानी ज्यादा प्रचलित है लेकिन बहुत से ऐसे लोग भी हैं, जो धीरा और वीरा की कहानी पर यकीन करते हैं।

दोस्तोंं देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

यह भी पढ़ें: इस जिले में बड़ी संख्या में लोगों ने अपनाया ईसाई धर्म, सामने आई ये बड़ी सच्चाई

Shreya

Shreya

Next Story