अखिलेश का सरकार पर निशाना, कहा- टीम-11 पर श्वेत पत्र जारी करें योगी

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि यूपी के सीएम की टीम- एलेवन को अपने कामकाज पर एक श्वेत पत्र जारी करना चाहिए।

श्रीधर अग्निहोत्री

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि यूपी के सीएम की टीम- एलेवन को अपने कामकाज पर एक श्वेत पत्र जारी करना चाहिए। अखिलेश ने सवाल किया कि प्रदेश में सबका साथ, सबका विकस और सबका विश्वास कैसे कायम रह सकता है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के निर्णयों का दुष्परिणाम के कारण ही जान के लाले पड़ गये और जहान भी सुरक्षित नहीं है।

ये भी पढ़ें: UP के 55 जिलों में पहुंची ‘ट्रूू-नॉट मशीनें’, अब टीबी के साथ कोरोना की भी होगी जांच

‘न बही जो पीएम कहें वही सही’: अखिलेश यादव

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा राज में खाता न बही जो पीएम कहें वही सही के तर्ज पर राजकाज चल रहा है। प्रधानमंत्री जी के कार्यकाल में प्रस्तुत केन्द्रीय बजट हों या समय-समय पर राहत पैकेजों की घोषणा सब में ब्यौरे गायब रहते हैं। भाजपा सरकार द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ के ‘महा पैकेज‘ में कितना गरीब को मिलेगा, कितना किसान, दिहाड़ी कर्मियों, प्रवासी मजदूर, छोटे और खुदरा व्यापारी, ठेले-पटरी वाले और अन्य मजबूर लोगों में बंटना है, इसका कोई खुलासा नहीं कर रहा है। इसे भी भाजपा की अन्य जुमलेबाजी वाली योजनाओं की गिनती में क्यों न रखा जाए?

काम की आस में मजदूरों की आंखे पथरा रही हैं

अखिलेश यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री अपने नेता के पद चिन्हों पर चलते हुए नित नए आयोगों के गठन में व्यस्त हैं। पूरे प्रदेश में काम की आस में मजदूरों की आंखे पथरा रही हैं लेकिन सरकार को उनकी फिक्र नहीं। अब मुख्यमंत्री जी बताये कि मेहनतकश का पेट रोटी से भरेगा आयोग की बैठकों और उनके जारी प्रेसनोट से नहीं। श्रमिकों के सामने गहरा अंधेरा है। वे कहां जाए? मुख्यमंत्री जी केवल बयानों में रोजगार बांट रहे हैं। हवा में विदेशी कम्पनियों के उत्तर प्रदेश में आने की तुकबंदी कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें: जवानों को किया गया सम्मानित, कोरोना संकट में किए ऐसे काम, करेंगे तारीफ

संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है। कोरोना संक्रमितों की संख्या 10 हजार से ऊपर पहुंच गई है। राजधानी लखनऊ में ही रोज नए केस मिल रहे हैं। भाजपा सरकार लाॅकडाउन उठा रही है। अस्पतालों में इलाज के नाम पर या तो लूट हो रही है या लापरवाही। बच्चों के स्कूल कालेज बंद हैं। लाॅकडाउन में आपूर्ति की पूरी चेन बिगड़ जाने से व्यापारी परेशान है। मुख्यमंत्री जी बताए कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए केन्द्र के 20 लाख करोड़ महा पैकेज से मिले धन को कहां खर्च किया जा रहा है?

लोग भुखमरी के शिकार होकर अपनी जान गंवा रहे हैं

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की गलत नीतियों के फलस्वरूप रोटी-रोजगार से वंचित लोग भुखमरी के शिकार होकर अपनी जान गंवा रहे हैं। किसान सहित समाज के तमाम वर्गो के लोग अवसाद में हैं। कर्ज के बोझ से लदे लोगों को भविष्य में भी अंधेरा दिखाई दे रहा है। बाराबंकी में एक परिवार के 5 लोगों की जिंदगी तमाम परेशानियों की भेंट चढ़ गई। गाजियाबाद एटलस साइकिल कम्पनी बंद हो गई। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के फखरूद्दीन स्थित प्लांट पर भी श्रमिकों को हटा दिया गया है। प्रदेश में भूख से लोगों का मरना रूकना चाहिए।

ये भी पढ़ें: लालू के लाल का कमाल: राजद ऑफिस में खुद करने लगे ये काम, देखकर सभी रह गए हैरान

नोटबंदी को लेकर कही ये बात

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा को अब मान लेना चाहिए कि उसकी गलत नीतियों के चलते देश की अर्थव्यवस्था बहुत बुरे दौर से गुजर रही है। लोगों के पास काम धंधा नहीं रह गया है। नोटबंदी जीएटी ने व्यापार चैपट कर दिया। मंहगाई बढ़ती जा रही है। नौकरियां घटती जा रही हैं। मांग-आपूर्ति में भारी अंतर है, दुनिया की निगाह में भारत की साख गिर रही है।

ये भी पढ़ें: कांग्रेसियों की महा रसोई: प्रदेश अध्यक्ष की रिहाई के लिए हुई शुरू, जाने पूरी जानकारी