गोंडा सदर विधायक प्रतीक भूषण सिंहः प्रचारक से कम उम्र में मुकाम

भाजपा को पहली आंतरिक लोकतंत्र वाली पार्टी बताते हुए प्रतीक भूषण ने कहा कि बीजेपी इकलौती पार्टी है, जिसमें अदने से कार्यकर्ता को भी अपनी बात रखने का अवसर मिलता है। जबकि अन्य सभी पार्टियां परिवार वाद की पोषक हैं और वहां परिवार के खिलाफ आवाज उठाने वाले को बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है।

प्रधानमंत्री के साथ विधायक प्रतीक भूषण सिंह एक रैली में (फोटो-सोशल मीडिया)

तेज प्रताप सिंह

गोंडा। किसी भी इंजीनियर और मैनेजमेंट के छात्र के लिए नामी गिरामी कम्पनियों में कैरियर को ऊंचाई देना सबसे बड़ा सपना होता है। लेकिन ऐसे उच्च शिक्षित युवा चेहरे जोश और उत्साह के साथ जब सियासत में उतरते हैं तो पूरे युवा वर्ग को राजनीति में आने के लिए प्रेरित करते हैं। ऐसे ही युवा राजनीतिक चेहरों में से एक प्रतीक भूषण सिंह हैं।

कम उम्र में विस सदस्य

समाजसेवा में इतिहास रच कर महज 27 साल की आयु में विधान सभा की सदस्यता हासिल कर ली।

आस्ट्रेलिया में पढ़े गोंडा सदर से भाजपा विधायक राजनीति में न आते तो संघ का स्वयं सेवक बनकर सेवा के माध्यम से राष्ट्र निर्माण में संलग्न होते।

2017 में भाजपा के बैनर तले चुनाव जीतकर गोंडा सदर क्षेत्र से विधानसभा पहुंचे प्रतीक भूषण की बाल्यावस्था से ही समाज सेवा की ललक ने उन्हें राष्ट्रीय सेवक संघ में प्रवेश कराया और अब वे जनप्रतिनिधि के रुप में अपने संकल्प को पूरा करने में जुटे हैं।

MLA Prateek Bhushan Singh in function

संघ के छोटे से कार्यकर्ता से अपनी सामाजिक सेवा शुरु करने वाले प्रतीक भूषण सिंह वादा नहीं संकल्प में विश्वास रखते हैं।

उन्होंने अपनी मेहनत और जनसेवा के माध्यम से न केवल पार्टी में अपना नाम बनाया, बल्कि अपने विधान सभा क्षेत्र में स्वयं को एक योग्य जनसेवक के रुप में स्थापित किया है।

राजनीतिक परिवार से हैं प्रतीक

जिले के तरबगंज तहसील क्षेत्र के विश्नोहरपुर गांव में जन्मे भाजपा विधायक प्रतीक भूषण सिंह के पिता बृज भूषण शरण सिंह कुश्ती के कुशल खिलाड़ी और राजनीति के महारथी हैं।

विधान परिषद सदस्य का चुनाव लड़ने के बाद उन्होंने देश की सबसे बड़ी पंचायत की ओर रुख किया और 1991 में भाजपा के टिकट पर गोंडा लोक सभा क्षेत्र से ताल ठोंक दिया।

पहले चुनाव में ही उन्होंने बाजी जीत ली और लोकसभा पहुंच गए। 1996 में उन्होंने पत्नी केतकी देवी सिंह को चुनाव जिताकर गोंडा लोकसभा सीट पर कब्जा बरकरार रखा।

बृजभूषण का खेलों में भी जलवा

2004 में बलरामपुर से पुनः विजय अभियान शुरु कर 2009 से लगातार कैसरगंज लोक सभा क्षेत्र में भारी बहुमत से विजय हासिल करने वाले बृजभूषण शरण सिंह लगातार तीसरी बार भारतीय राष्ट्रीय कुश्ती संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं।

कुश्ती संघ में सांसद का प्रवेश वर्ष 2004 में कुश्ती संघ के जिलाध्यक्ष के तौर पर हुआ था। 2004 में उन्हें प्रदेश अध्यक्ष का दायित्व मिला। इसके बाद 2011 में राष्ट्रीय अध्यक्ष की बागडोर सौंपी गई और तभी से निरन्तर वे इस पद पर चुने जा रहे हैं। प्रत्येक चार वर्ष के अन्तराल में होने वाले राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव में वर्ष 2015 में भी सांसद ने जीत दर्ज की थी।

भारतीय कुश्ती में उनके सराहनीय योगदान को देखते हुए कुश्ती की वैश्विक संस्था युनाइटेड रेसलिंग वर्ल्ड द्वारा 2015 में उन्हें एशियन वाइस प्रेसिडेंट के पद से नवाजा जा चुका है।

बहन भी खिलाड़ी

राम मंदिर आन्दोलन में भी उन्होंने बढ़चढ़ कर भाग लिया। विधायक प्रतीक भूषण सिंह की मां केतकी सिंह वर्तमान में गोंडा जिला पंचायत की अध्यक्ष तो दिल्ली विश्वविद्यालय की अध्यक्ष रह चुकी बड़ी बहन शालिनी सिंह अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी हैं।

जबकि छोटे भाई राइफल के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी करन भूषण सिंह वर्तमान में कुश्ती संघ के उपाध्यक्ष और सहकारी ग्राम्य विकास बैंक के अध्यक्ष हैं।

मेलबर्न युनिवर्सिटी से मैनेजमेंट स्नातक

दिल्ली के एअर फोर्स स्कूल से हाईस्कूल और इण्टरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद प्रतीक भूषण सिंह ने दुनिया भर में खूबसूरती और विकास के लिए मशहूर देश आस्ट्रेलिया के मेलबर्न विश्वविद्यालय से मैनेजमेंट में स्नातक की डिग्री हासिल किया।

MLA Prateek Bhushan Singh on the way

लेकिन देश सेवा के जुनून में उन्होंने आस्ट्रेलिया को अलविदा कह दिया। हालांकि उनकी शिक्षा का क्रम अभी रुका नहीं है और वर्तमान में वे प्रतिष्ठित राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय से कानून की पढ़ाई कर रहे हैं।

पत्नी राजश्री चिकित्सक

उनकी पत्नी डा. राजश्री सिंह जिले की प्रसिद्ध चिकित्सक हैं। राजनीति हो अथवा समाज सेवा हर काम में उनकी पत्नी का पूरा समर्थन और सहयोग उन्हें मिलता है।

व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन में संघर्ष और स्वाध्याय के लिए दृढ़ संकल्पित विधायक आज युवा पीढ़ी के लिए रोल माडल बन गए हैं।

MLA Prateek Bhushan Singh wife in clinic

संघ में विद्यार्थी विस्तारक

दुनिया के विकसित देशों में शुमार आस्ट्रेलिया की खेल, कला और सांस्कृतिक राजधानी मेलबर्न से स्नातक की डिग्री के साथ समाज और देश सेवा का जज्बा लेकर लौटे प्रतीक भूषण सिंह ने साल 2011 में राष्ट्रीय सेवक संघ की सदस्यता ली।

उनकी सेवाओं से प्रभावित होकर संघ के अधिकारियों ने 2015 से 2017 तक श्रावस्ती जिले में विद्यार्थी विस्तारक का दायित्व सौंपा। जहां उनके ओजस्वी, बौद्धिक उद्बोधनों और आचार विचार से प्रभावित होकर सैकड़ों युवाओं ने संघ की सदस्यता ली।

विकास की ललक

2017 के चुनाव में संघ की अनुशंसा पर भारतीय जनता पार्टी ने भी भरोसा किया और गोंडा सदर विधान सभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतार दिया।

कड़े मुकाबले में उन्होंने पूर्व कैबिनेट मंत्री पंडित सिंह के गढ़ को ध्वस्त करते हुए उनके भतीजे और सपा प्रत्याशी सूरज सिंह को तीसरे स्थान पर पहुंचा दिया।

MLA Prateek Bhushan Singh with Amit Shah

वहीं बसपा प्रत्याशी रहे जलील खां को शिकस्त देते हुए 22 वर्षों से वनवास झेल रही भाजपा के माथे पर तिलक लगाते हुए बड़ी जीत हासिल की और मात्र 27 साल की उम्र में विधायक बन गए।

विधायक प्रतीक भूषण सिंह बताते हैं कि माता-पिता की समाज सेवा देख हमारे मन में समाज सेवा के जरिए गरीब मजलूमों की सहायता और क्षेत्र का विकास करने की ललक थी।

गोंडा टाप-5 में

क्षेत्रीय विकास में निरंतर प्रयत्नशील विधायक सदर प्रतीक भूषण सिंह अथक परिश्रम का ही नतीजा रहा कि देश के सबसे पिछड़े जिले और सबसे गंदे शहर के रुप में गोंडा जिले पर लगा दाग अब धुल गया है।

उनके प्रयास से अब गोंडा शहर देश में 115, प्रदेश में 13 और नगर पालिकाओं में 5वें स्थान पर है। उन्होंने कहा कि यह सब नगर पालिका की अध्यक्ष उजमा राशिद, पालिका के कर्मचारी और जिला प्रशासन के सहयोग और प्रयासों से ही संभव हो सका है।

लेकिन उनके कदम अभी रुके नहीं हैं और वह जिले को देश में सर्वोच्च मुकाम तक पहुंचाने के लिए दिन रात प्रयास कर रहे हैं। उनका प्रयास है कि नगर के नागरिकों को विश्व स्तरीय सुविधाएं मिलें और वीरों की इस धरती का गौरव पुनः वापस हो सके।

समाज सेवा और राष्ट्र निर्माण के लिए समर्पित

राजनीति में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और सूबे के मख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अपना आदर्श मानने वाले भाजपा विधायक प्रतीक भूषण सिंह राजनीति के अलावा शारीरिक तथा बौद्धिक स्वास्थ्य पर वर्कआउट करते रहते हैं।

MLA Prateek Bhushan Singh with CMYogi

शारीरिक स्वास्थ्य के जहां वे निरंतर योग आदि करते हैं तो वहीं बौद्धिक स्तर को ऊंचा उठाने के लिए उनका नियमित रुप से पठन-पाठन चलता रहता है। यही कारण है कि अनेक विषयों के साथ-साथ शासकीय नियम कानूनों की भी जानकारी रहती है।

अलग पहचान

भले ही उन्हें राजनीतिक विरासत का लाभ मिला हो लेकिन ‘कोई चलता पद चिन्हों पर, कोई पद चिन्ह बनाता है‘ को चरितार्थ करते हुए कड़े संघर्ष और समाज सेवा से उन्होंने जिले ही नहीं प्रदेश में अपनी अलग पहचान बना लिया हैं।

जन समस्याएं छोटी हों अथवा बड़ी उसे गंभीरता से लेकर निपटाना उनकी प्राथमिकता होती है। अन्य काम वे पूरी मेहनत, लगन और ईमानदारी निपटाते हैं।

क्षेत्र के विकास लिए योजनाओं की स्वीकृति के लिए वे एक ओर जहां प्रदेश के मुखिया से मिलते हैं तो वहीं मौके पर पहुंचकर विकास कार्यों का निरीक्षण भी स्वयं करते हैं।

उनकी छवि सादगी, सहृदय, जागरुक और विकासशील विधायक के रूप में है और वे क्षेत्रीय जनता के बीच बेहद लोकप्रिय भी हैं। राजनीतिक कामों से फुरसत मिलने पर वे परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताते हैं।

नई शिक्षा नीति से बदलेगा देश का भविष्य

बीते कुछ वर्षों में राजनीतिक क्षेत्र में हुए बदलाव की चर्चा करते हुए विधायक ने कहा कि 2014 में केन्द्र में भाजपा की सरकार और नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद देश और राजनीतिक क्षेत्र में कई बडे़ बदलाव हुए हैं।

इसमें राष्ट्रहितों को सबसे ऊपर रखा गया। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार की 21 वीं सदी की पहली राष्ट्रीय शिक्षा नीति से छात्रों और युवाओं सहित पूरे देश का भविष्य बदलेगा। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का बहुत बड़ा लक्ष्य है।

यह विद्यार्थी, शिक्षक एवं सम्पूर्ण राष्ट्र के लिए सर्वसमावेशी है। इस नीति में तार्किकता, नैतिकता, संवेदनशीलता और जागृति है। रोजगार मूलक होने के साथ-साथ मानवीय मूल्यों से ओतप्रोत है।

युगांतकारी दस्तावेज

इस शिक्षा नीति के माध्यम से ऐसी युवा पीढ़ी का निर्माण होगा। जो अपनी संस्कृति से जुड़ी होगी। उन्होंने कहा कि यह शिक्षा नीति बहुविषयक शिक्षा एवं स्किल डेवलपमेंट पर जोर देती है।

MLA Prateek Bhushan Singh on construction site

नई शिक्षा नीति-2020 युगांतकारी परिवर्तन का एक ऐसा दस्तावेज है, जिसका ईमानदारी से क्रियान्वयन देश की शिक्षा व्यवस्था को उच्चतम सोपान तक ले जाने में सक्षम है।

बड़े फैसले

कश्मीर में धारा 370 का खात्मा, मुस्लिम महिलाओं के लिए कष्टकारी बन चुके तीन तलाक और देश में अवैध घुसपैठ को रोने के लिए नागरिकता संशोधन कानून ऐतिहासिक उपलब्धि।

भगवान राम की जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण की आधार शिला रखकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा जो इतिहास रचा गया है।

इसके दूरगामी परिणाम होंगे और देश की सम्प्रभुता और अखण्डता अक्षुण्ण रहेगी। उन्होंने कहा कि जनसंख्या में बेतहासा वृद्धि रोकने के लिए भी कानून बनाने की आवश्यकता है।

विचारधारापरक राजनीति उचित

भाजपा को पहली आंतरिक लोकतंत्र वाली पार्टी बताते हुए प्रतीक भूषण ने कहा कि बीजेपी इकलौती पार्टी है, जिसमें अदने से कार्यकर्ता को भी अपनी बात रखने का अवसर मिलता है। जबकि अन्य सभी पार्टियां परिवार वाद की पोषक हैं और वहां परिवार के खिलाफ आवाज उठाने वाले को बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है।

राजनीति में दलबदल का विरोध करते हुए उन्होंने कहा कि विचाारधारा परक राजनीति ही देश और समाज को दिशा दे सकती है।

चुनाव आयोग को सख्त होना होगा

चुनाव आयोग द्वारा लगातार किए जा रहे सुधार को उचित बताते हुए उन्होंने कहा कि इससे धन और बल के अंधाधुंध प्रयोग पर अंकुश लगा है। लेकिन चुनाव आयोग को अभी और सख्त होना होगा।

MLA Prateek Bhushan Singh in railly

उन्होंने कहा कि ‘वन इंडिया, वन चुनाव‘ की व्यवस्था लागू हो जाय तो फिजूल खर्ची पर रोक लगेगी और देश की राजनीति में आमूलचूल सुधार हो जाएगा। उन्होंने बताया कि बेटे के जन्म पर उन्हें सबसे अधिक खुशी हुई।

निधि कम, नौकरशाही मददगार

विधायक निधि के सवाल पर विधायक प्रतीक भूषण सिंह ने कहा कि विधायक निधि क्षेत्र के विकास में काफी सहायक है और इससे क्षेत्र के लोगों की तमाम छोटी बड़ी समस्याएं निपट जाती हैं।

लेकिन जरुरतों के लिहाज से निधि की धनराशि अत्यंत कम है। इसमें वृद्धि होनी चाहिए ताकि जनता की उचित मांगों को आसानी से पूरा किया जा सके। परफार्मेंस के आधार पर निधि की धनराशि का निर्धारण हो तो और अच्छा रहेगा।

उन्होंने कहा कि आज जो भी विकास कार्य हो रहे हैं वह नौकरशाही के सहयोग से ही संभव हो पा रहा है। इसलिए जन प्रतिनिधि एवं नौकरशाही के बीच आपसी समन्वय होना चाहिए तभी देश, प्रदेश का विकास होगा और जनता खुशहाल होगी।

गोंडा की जनता जागरुक

उनका कहना है कि बेरोजगारी ने जनता की समस्याओं को बढ़ा दिया है, जिसका नतीजा है कि जनप्रतिनिधियों के यहां लोगों की भीड़ जुटती है। जब लोगों के पास काम होगा तो उन्हें किसी नेता के घर जाने की फुरसत कहां होगी।

लेकिन गोंडा विधान सभा क्षेत्र की जनता जागरुक है और क्षेत्र की समस्याओं का निराकरण करना हो अथवा विकास कार्य, जनता का पूरा सहयोग मिलता है।

शहर को किया जगमग

विधायक निधि से लगभग तीन करोड़ की लागत से तीन दर्जन से अधिक सड़कों, सम्पर्क मार्गों का गुणवत्तापरक निर्माण करा चुके हैं विधायक प्रतीक भूषण सिंह। उन्होंने अपने कार्यकाल में कराए गए विकास कार्यों को गिनाया।

श्री सिंह ने कहा कि वर्षों से खराब सड़कों का दंश झेल रहे नगर वासियों का आवागमन सुलभ कराने के लिए एलबीएस चौराहे से बस स्टेशन, बेलसर रोड, उतरौला रोड, अयोध्या रोड, बहराइच रोड की सड़कों का निर्माण करवाया गया।

इसी क्रम में जर्जर हो चुके आइटीआई-कचहरी मार्ग का निर्माण हुआ है। उन्होंने सभी मार्गों पर शहर के बाहर और अंदर विभिन्न चौराहों पर दूधिया रोशनी के लिए लगभग 70 लाख की लागत से 30 फिट ऊंचा ट्यूवलरपोल (हाईमास्ट) की स्थापना कराया है।

विकास से रोशन

इसके अलावा जिले और नगर की सबसे महत्वपूर्ण गोंडा-लखनऊ फोरलेन रोड के डिवाइडर पर लगभग 55 लाख की लागत से पोर्टरगंज से गुरुनानक चौक तक 100 पोल लगवाए गए हैं।

दो नग वाले इन विद्युत पोलों से रात्रि में निकलने वाली दूधिया रोशनी वाली लाइटें जहां सड़क को उजाले से सराबोर करती हैं वहीं तीन रंगों वाली रंगीन लाइटें आगंतुकों, राहगीरों को महानगरों जैसी भव्यता का अहसास कराती हैं।

MLA Prateek Bhushan Singh bike railly

नागरिकों की सुविधा के लिए आरटीओ आफिस, आइटीआई चौराहा स्थित मेवातियान चुंगी नाका के निकट सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराया गया। विधायक ने अधिवक्ताओं को बैठने के लिए मीटिंगहाल निर्माण के लिए निधि से 10 लाख रुपए प्रदान किए हैं।

पूर्वांचल विकास निधि से पौने दो करोड़ की लागत से गोंडा-बहराइच रोड से खटिकनपुरवा होते हुए अंधारी पोखरा तक और जबकि त्वरित विकास योजना में पांच करोड़ की लागत से डेढ़ दर्जन सड़कों का निर्माण कराया गया।

सागर तालाब को दिलाएंगे भव्यता

जनपद की टेढ़ी, विशुही, मनोरमा, पथरी, पार्वती अरगा जैसी दर्जन भर से अधिक सहायक नदियों, झील और वृहद तालाबों के जीर्णोद्धार हेतु शासन का ध्यानाकर्षण करने के लिये गोंडा से लखनऊ तक की साइकिल यात्रा कर चुके हैं।

इसे भी पढ़ें  सिवालखास से विधायक जितेंद्र पाल सिंह उर्फ़ बिल्लूः मेरी एक ही पूंजी – कठोर परिश्रम

विधायक प्रतीक भूषण सिंह ने बताया कि तमाम दशकों से उपेक्षित नगर के मध्य में स्थित सागर ताल और उसके मध्य में स्थित गोर्वधन मंदिर का जीर्णोंद्धार करके पर्यटन स्थल के रुप में विकसित करने के लिए उनके प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री ने स्वीकृति प्रदान करते हुए बजट की 90 लाख रुपए की पहली किश्त जारी किया है।

जिसमें ताल और गोर्वधन पर्वत के सौंदर्यीकरण का कार्य जल्द ही शुरु हो जाएगा। इसे विकास के माडल के रुप में विकसित किया जाएगा, जिससे यह पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बने।

स्वास्थ्य में आत्मनिर्भर गोंडा

क्षेत्र की दर्जनों सड़कों का निर्माण हाटमिक्स से कराया गया है। विद्युत आपूर्ति की व्यवस्था में सुधार के लिए पुरानी लाइनों को बदला जा रहा है और भूमिगत केबल बिछाने की योजना पर भी विचार चल रहा है।

इसे भी पढ़ें सरेनी से भाजपा विधायक धीरेन्द्र बहादुर सिंहः क्षेत्र व जनता का विकास सबसे बड़ी खुशी

बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए प्रदेश सरकार ने मुख्यालय पर मेडिकल कालेज निर्माण की स्वीकृति प्रदान कर बजट भी जारी किया गया।

इसके निर्माण से यह जनपद स्वास्थ्य के मामले में आत्म निर्भर हो जाएगा और यहां से निकले चिकित्सक देश और दुनिया में गोंडा का नाम रोशन करेंगे।

कोरोना महामारी से बचाव के लिए जिला अस्पताल परिसर में 300 बेड के कोविड-19 हास्पिटल का बीते गुरुवार को शुभारंभ कर सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने बड़ी सौगात दी है।

क्षेत्र में बेहतर पुलिसिंग से अपराध में 30 फीसदी तक कमी आई है। शिकायतों के निस्तारण में तहसील और थाने को टाप फाइव में स्थान मिला है।

गांवों को नगर का दर्जा

विधायक प्रतीक भूषण सिंह ने बताया कि गोंडा नगर पालिका से सटे 17 गांवों को पालिका में शामिल कराकर उन्हें शहरी क्षेत्र की सभी सुविधाएं दिलाना तथा गोंडा विकास प्राधिकरण का गठन उनकी प्राथमिकताओं में है।

इसे भी पढ़ें मेरठ दक्षिण के भाजपा विधायक डॉ. सोमेंद्र तोमरः विधायक नहीं, विकास पुरुष

इस विस्तार से यहां के नागरिकों को 24 घंटे बिजली मिलेगी और उनकी 90 फीसदी समस्याएं खत्म होंगी।

इसके साथ ही नगर में उद्योगों की स्थापना के लिए निजी निवेशकों को बेहतर सुविधाएं एवं वातावरण उपलब्ध कराया जाएगा। ताकि शहर का पूरी तरह विकास हो और रोजगार में वृद्धि हो।

बहराइच और बलरामपुर तथा अयोध्या-लखनऊ बाईपास के निर्माण का भी प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। नगर में अवस्थापना सुविधाओं और बेहतर साफ सफाई की व्यवस्था कर इसे देश के टाप फाइव स्वच्छ और सुंदर शहरों में लाया जाएगा।

क्रांति उपवन

नगर की भव्यता देने हेतु 90 लाख की लागत से मंडेनाला के पुल पर क्रान्ति उपवन पार्क बनाया जाएगा, 1857 की क्रान्ति के शूरवीर महाराजा देवी बख्श सिंह समेत आठ वीरों की प्रतिमाएं लगेंगी।

इसे भी पढ़ें गाजीपुर सदर विधायक संगीता बलवंतः राजनीति में न आती तो लेखन कार्य करती

जिसमें  बेहतर स्वासथ्य सुविधाओं के लिए मेडिकल कालेज का निर्माण जल्द ही शुरु कराने, जल भराव की समस्या के स्थाई समाधान के लिए शहर में सीवर लाइन कराया जाएगा।

तालाबों पर अतिक्रमण हटवाकर उनका सौंदर्यीकरण भी कराया जाएगा। विधायक ने बताया कि नगर में गैस पाइप लाइन और वाटर सप्लाई का एक बड़े प्रोजेक्ट की स्थापना उनकी प्राथमिकता में है।

सुधरेगी पार्किंग, बनेंगे फ्लाई ओवर

आगामी योजनाओं पर चर्चा करते हुए युवा विधायक प्रतीक भूषण सिंह ने बताया कि नगर में जाम और पार्किंग की समस्या अहम है। इससे निजात दिलाने के लिए महानगरों की तर्ज पर पार्किंग की योजना तैयार है, जिसमें प्रथम चरण में आरटीओ कार्यालय के निकट और चुंगी गोदाम परिसर में मल्टीलेविल पार्किंग का प्रस्ताव है।

इसे भी पढ़ें सलोन विधायक दल बहादुर कोरीः विधायक न होता तो मजदूरी करता

शहर को जाम से छुटकारा दिलाने और यातायत व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त करने के लिए उतरौला रोड पर सोनी गुमटी तथा केशवपुर पहड़वा गांव में डीजल डिपो और रेल क्रासिंग के निकट फ्लाईओवर का निर्माण कराया जाएगा। बेहतर जन सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए कचहरी और थानों को अपग्रेड कराया जाएगा।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App