प्रमुख स्वास्थ्य सचिव ने बताया- यूपी के 71 जिलों में हैं इतने हजार कोरोना के मरीज

यूपी के प्रमुख सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने बताया है कि प्रदेश के 71 जनपदों में 2130 कोरोना के मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 3099 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं।

लखनऊ: यूपी के प्रमुख सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने बताया है कि प्रदेश के 71 जनपदों में 2130 कोरोना के मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 3099 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। साथ ही कल 5-5 सैम्पल के 772 तथा 10-10 सैम्पल के 65 पूल टेस्ट किये गये। जिसमेें से कुल 178 पूल पाॅजीटिव पाये गये।

ये भी पढ़ें: सरकार ने किया दावा, अब तक इतने लाख प्रवासी मजदूर आए UP

26,512 लोगों को फोन कर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली गयी

प्रमुख सचिव ने गुरुवार को बताया कि आरोग्य सेतु अलर्ट जनरेट होने पर लोगों को कन्ट्रोल रूम से काॅल किया जा रहा है। अब तक कुल 26,512 लोगों को फोन कर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली गयी है। इनमें 401 लोगों को होम क्वारंटीन किया गया है तथा 74 लोग कोविड-19 पाॅजीटिव पाये गये हैं जिनका विभिन्न चिकित्सालयों में उपचार चल रहा है। 42 लोग उपचारित होकर घर चले गये हैं।

ये भी पढ़ें: मनाया गया आतंकवाद विरोधी दिवस, लोगों ने ली ये शपथ, दिया मानवता का संदेश

उन्होंने बताया कि आशा वर्कर्स द्वारा 5,42,543 प्रवासी कामगारों व श्रमिकों के घर पर जाकर सम्पर्क कर 46,142 लोगों का सैम्पल इकट्ठा किया गया, जिनमें 1230 लोग कोविड-19 पाॅजीटिव पाये गये हैं। उन्होंने बताया कि ग्राम एवं मोहल्ला निगरानी समितियों के द्वारा निगरानी का कार्य सक्रियता से किया जा रहा है। अब तक 85,471 निगरानी समिति के माध्यम से 68,72,936 घरों में रह रहे 3,43,80,366 लोगों से सम्पर्क किया गया है।

प्रसाद ने बताया कि उत्तर प्रदेश के पांच जिलों आगरा, मेरठ, कानपुर नगर, गौतमबुद्ध नगर तथा गाजियाबाद के नगरीय क्षेत्र को रेड जोन में वर्गीकृत किया गया हैं। उन्होंने बताया कि रेड जोन में वर्गीकृत जनपदों के जिलाधिकारी कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए अपने विवेकानुसार अतिरिक्त कदम उठाने के लिए अधिकृत होंगे।

ये भी पढ़ें: Youtube पर धमाल मचा रहा ये भोजपुरी गाना, यहां देखें वीडियो

उन्होंने बताया कि जिन जिलों में पिछले 21 दिनों से कोरोना वायरस संक्रमण का कोई भी पुष्ट केस नहीं आया है वे जनपद स्वतः ग्रीन जोन में वर्गीकृत हो जाएंगे। इसके अलावा जो जनपद रेड या ग्रीन जोन में वर्गीकृत नहीं है उन्हें ऑरेंज जोन में माना जाएगा।

रिपोर्ट: मनीष श्रीवास्तव 

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन में हॉस्टल खाली करने पर हंगामा, धरने पर बैठे छात्र