महात्मा गांधी की 150वीं जयन्ती! यूपी सरकार कराएगी विभिन्न डिजायनरों का फैशन शो

फैशन-शो में ख्याति प्राप्त फैशन डिजाइनर रितु बेरी, रीना ढाका सहित अन्य डिजाइनरों द्वारा तैयार खादी के विभिन्न परिधानों का प्रदर्शन किया जायेगा। इसके अलावा कार्यक्रम में 1000 सोलर चर्खे, 500 विद्युत चालित कुम्हारी चाक एवं 250 दोना पत्तल मशीनों का वितरण भी कराया जायेगा।

लखनऊ: प्रदेश की योगी सरकार  महात्मा गांधी की 150वीं जयन्ती वर्ष के अवसर खादी महोत्सव एवं फैशन-शो, खादी स्वदेशी ड्राइंग कम्पटीशन तथा पर्यावरण की दृष्टि से कई कार्यक्रमों का आयोजन करने जा रही है। खादी को जन-जन में लोकप्रिय बनाने के उद्देश्य से आगामी तीन अक्टूबर से यहां इंदिरागांधी प्रतिष्ठान में खादी महोत्सव-2019 का आयोजन किया जायेगा।

यह भी पढ़ें. असल मर्द हो या नहीं! ये 10 तरीके देंगे आपके सारे सवालों के सही जवाब

इसमें 10 दिवसीय प्रदर्शनी के साथ-साथ उत्कृष्ट आधुनिक खादी परिधानों का फैशन-शो भी होगा।

फैशन-शो में ख्याति प्राप्त फैशन डिजाइनर रितु बेरी, रीना ढाका सहित अन्य डिजाइनरों द्वारा तैयार खादी के विभिन्न परिधानों का प्रदर्शन किया जायेगा। इसके अलावा कार्यक्रम में 1000 सोलर चर्खे, 500 विद्युत चालित कुम्हारी चाक एवं 250 दोना पत्तल मशीनों का वितरण भी कराया जायेगा।

यह भी पढ़ें.  झुमका गिरा रे…. सुलझेगी कड़ी या बन जायेगी पहेली?

इसके अलावा एकल इस्तेमाल में प्रयुक्त होने वाली प्लास्टिक का उपयोग न करने तथा पर्यावरण संरक्षण के प्रति जन-सामान्य को जागरूक करने के लिए पूरे प्रदेश में 15000 खादी से निर्मित थैले, जिसपर पर्यावरण संरक्षण से संबंधित स्लोगन अंकित होगा का वितरण कराया जायेगा।

महात्मा गांधी जी की 150वीं जयन्ती को यादगार बनाने के लिए खादी स्वदेशी ड्राइंग प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा। कम्पटीशन में श्रेष्ठ 10 कृतियों को पुरस्कृत भी किया जायेगा। विजेताओं को खादी महोत्सव के अवसर पर सम्मानित किया जायेगा।

यह भी पढ़ें. बेस्ट फ्रेंड बनेगी गर्लफ्रेंड! आज ही आजमाइये ये टिप्स

यह भी पढ़ें. लड़की का प्यार! सुधरना है तो लड़के फालो करें ये फार्मूला

इसके अलावा हनी मिशन (मधुमक्खी पालन) उद्योग को बढ़ावा देने के लिए लाभार्थियों को 10 हनी बाक्स किट्स उपलब्ध कराने पर सहमति बनी। साथ ही खादी संस्थाओं के माध्यम सोलर चर्खों के प्रशिक्षण एवं उत्पादन कार्य कराने जाने पर विचार-विमर्श हुआ।

प्रमुख सचिव खादी ने बताया…

प्रमुख सचिव खादी एवं ग्रामोद्योग डा नवनीत सहगल ने बताया कि प्रदेश में बंद पड़े 08 शासकीय कम्बल कारखानों में से सात को फिर से चलाया जा चुका है। इन कम्बल कारखानां में इस वर्ष एक लाख कम्बल बनाने का लक्ष्य रखा गया है।

यह भी पढ़ें.  होंठों की लाल लिपिस्टिक! लड़कियों के लिए है इतनी खास

डा0 सहगल ने बताया कि हर मण्डल में एक ट्रेनिंग सेंटर खोलने की कार्यवाही की जा रही है। नौ मण्डलों में ट्रेनिंग सेंटर खोले जा चुके हैं। प्रत्येक केन्द्र पर कम्प्यूटर सेंटर तथा सोलर चर्खें भी स्थापित कराये गये हैं। ट्रेनिंग के दौरान 200 रुपये मानदेय भी कारीगरों को देने की व्यवस्था की गई है।

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि विभाग में काफी समय से रिक्त समूह ‘ख’ के पदों पर भर्ती की कार्यवाही जल्द पूरी हो जायेगी। ग्रामोद्योग नीति के सफल संचालन हेतु समाधान सेल को बनाया किया गया है।