Top

बड़ी खबर: कमिश्नरी प्रणाली पर लगी यूपी कैबिनेट की मुहर

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Government) की अध्यक्षता में सोमवार को कैबिनेट बैठक हो गयी है। इस बैठक में कई अहम फैसलों पर मुहर लगा है। जिस बड़े मुद्दे पर मुहर का सबको इंतज़ार है, वह प्रदेश में कमिश्नरी व्यवस्था लागू होने से जुड़ा है। इस पर भी योगी कबिनेट ने मुहर लगा दी है।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 13 Jan 2020 5:03 AM GMT

बड़ी खबर: कमिश्नरी प्रणाली पर लगी यूपी कैबिनेट की मुहर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Government) की अध्यक्षता में सोमवार को कैबिनेट बैठक (yogi cabinet meeting) हो गयी है। इस बैठक में कई अहम फैसलों पर मुहर लगा है। जिस बड़े मुद्दे पर मुहर का सबको इंतज़ार है, वह प्रदेश में कमिश्नरी व्यवस्था लागू होने से जुड़ा है। इस पर भी योगी कबिनेट ने मुहर लगा दी है।

बता दें कि न्यूजट्रैक इस खबर को तीन दिन पहले ही प्रसारित कर दिया था कि यूपी में जल्द ही कमिश्नरी प्राणाली लागू की जा सकती है। और आखिरकार आज कैबिनेट ने इस पर मुहर लगा दी है। ऐसे ही न्यूजट्रैक आपको आगे भी सबसे पहले और सबसे तेज खबर दिखाता रहेगा।

यहां मौजूद है खबर का लिंक: योगी सरकार ने प्रशासनिक क्षेत्र में लिया बड़ा फैसला

सरकार का बड़ा फैसला:

यूपी में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू हो गई है। यूपी के इतिहास में इसे बड़ा कदम माना जा रहा है। इस प्रणाली को लेकर कई सरकारें आई पर राजनीतिक दबाव के चलते इसे लागू नही कर सकी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कैबिनेट की बैठक में लिए गए इस निर्णय की जानकारी देते हुए बताया कि पिछले 50 वर्षों से पुलिस आयुक्त प्रणाली की मांग हो रही थी। लखनऊ और नोएडा में पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू की जा रही है। वहीं सुजीत पांडेय लखनऊ के पहले पुलिस कमिश्नर होंगे। इसके अलावा आलोक सिंह को नोयडा का चार्ज दिया गया है।

ये भी पढ़ें: गिरफ्तार DSP के साथ भी होगा आतंकियों जैसा व्यवहार, J&K पुलिस का बड़ा बयान

राजनीति के दबाव में नहीं हो पा रही थी लागू:

न्याय पालिका हमेशा सरकार को कटघरे में खड़ा करती रही है। 10 लाख से अधिक आबादी वाले शहर में इसे लागू करना था पर राजनैतिक इच्छा शक्ति की कमी के कारण इसे लागू नही किया गया। लखनऊ में 40 लाख और नोएडा में 25 लाख की आबादी अनुमानित हैं।

ऐसी होगी कमिश्नर प्रणाली:

उन्होंने बताया कि लखनऊ में कुल 40 थाने है, इसलिए इसे उपयुक्त माना है। इसमें एक एडीजी, 2 आईजी तथा 9 एसपी रैंक के अधिकारी होंगे। एक महिला एसपी भी होगी। जिससे महिला अपराधों को रोका जा सके। इसके अलावा एक एसपी और एक एएसपी ट्रैफिक के लिए तैनाती होगी।

सीएम योगी ने कहा कि नोएडा में एक एडीजी रैंक के अलावा 5 एसपी स्तर के अधिकारी रहेंगे, जबकि एक एसपी ट्रैफिक स्तर का अधिकारी होगा। यहां 2 नए थाने भी बनाये जाएंगे। इस प्रणाली में पुलिस कमिश्नर के पॉवर होते है। उनके पास 15 पावर होंगे जो वह स्वयं तय करेंगे। पुलिस व्यवस्था की इस प्रणाली से आमजन के विश्वास बढ़ेगा।

ये भी पढ़ें: आधी रात मनोज तिवारी समेत भाजपा दिग्गज पहुंचे अमित शाह के घर, ये है वजह…

कई अहम प्रस्तावों को पर मंजूरी

इसके अलावा गोरखपुर से बलिया जाने वाले मार्ग के चौड़ीकरण और सुंदरीकरण पर मुहर लगी है। इसके तहत गोरखपुर से सोनौली बलिया मार्ग के चैंनेज 98.97 से चैंनेज 105.00 तक मार्ग को 04 लेन में चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण कार्य की पुनरीक्षित प्रशासकीय और वित्तीय स्वीकृति के संबंध में प्रस्ताव कैबिनेट में प्रस्ताव पास हुआ।

ये भी पढ़ें: CAA पर विपक्षी दलों में दरार: बैठक से पहले ममता-माया और AAP ने किया किनारा

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story