चीन से पलयान करने वाली कंपनियों को UP लाने की तैयारी में योगी सरकार

उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि कोविड-19 के कारण प्रभावित उद्योग जगत को पुनः पटरी पर लाने के लिए सपोर्ट, सस्टेन…

Published by Ashiki Patel Published: May 4, 2020 | 9:56 pm

लखनऊः उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि कोविड-19 के कारण प्रभावित उद्योग जगत को पुनः पटरी पर लाने के लिए सपोर्ट, सस्टेन एवं न्यू इन्वेस्टमेंट पर पूरी तरह फोकस किया जा रहा है। उद्योगपतियों की सुविधा के लिए फैक्ट्री के लाइसेंस रिन्यूवल अवधि को आगे बढ़ाया गया है। इसके अतिरिक्त कई प्रकार के ड्यूज को जमा करने की अवधि में छूट दी गई। राज्य सरकार उद्यमियों के लिए के्रडिट फ्लो बनाये रखने हेतु केन्द्र सरकार से अनुरोध करेगी। साथ ही चीन से पलायन करने वाली विदेशी कम्पनियों को यहां लाने के लिए ठोस कदम उठाये जायेंगे।

ये भी पढ़ें: कोरोना के बाद ऐसी होगी जिंदगी, दुनिया में बदल जाएंगी ये 7 बड़ी चीजें

नये निवेश लाने पर जोर

महाना आज एसोचेम द्वारा आयोजित वेबिनार में उद्यमियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम सहित भारी उद्योगों को हर तरह से सहयोग प्रदान कर रही है। इसके अतिरिक्त ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में शामिल सभी परियोजनाओं को शुरू कराने का प्रयास किया जा रहा है। साथ-साथ नये निवेश लाने पर जोर दिया गया है।

ये भी पढ़ें: अधिकारियों ने गौशालाओं को बेसहारा छोड़ा, नहीं देखी होगी गायों की ऐसी दुर्दशा

लॉकडाउन में 21 तरह की सेवाएं हुईं ऑनलाइन

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्राथमिकता है कि उत्तर प्रदेश में अधिक से अधिक निवेश आये और बड़ी संख्या में रोजगार का सृजन हो। इसके लिए प्रदेश को निवेशकों के लिए देश का पहल गंतव्य बनाने पर विशेष बल दिया जा रहा है। उद्यमियों की सुविधा हेतु लाॅक-डाउन के दौरान 21 प्रकार की सेवाओं को ऑनलाइन किया गया है। प्रदेश के सभी प्राधिकरणों को भूमि आवंटन के कार्य में तेजी लाने को कहा है।

ये भी पढ़ें: अभी-अभी MLA अमनमणि त्रिपाठी 7 समर्थकों के साथ गिरफ्तार, लगा ये गंभीर आरोप

बाहर से लौटे कामगारों को प्रदेश में मिलेगा काम

वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से उद्यमियों के साथ संवाद करते हुए औद्योगिक विकास मंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण बड़ी संख्या में श्रमिक एवं कुशल कारीगर अपने घर वापस आये हैं। इनको यूपी में ही रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए सरकार पूरी तरह प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि एमएसएमई उत्तर प्रदेश के रीढ़ की हड्डी है। सरकार इनके हैण्ड-होल्डिंग के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार इण्डस्ट्री चलाने की अनुमति दी गई है।

ये भी पढ़ें: मोहम्मद बिन-कासिम को बुलौव्वा!

चीन से पलायन कर रहीं कंपनियां

इस अवसर पर एसोचैम के प्रेसिडेंट डा निरंजन हीरननंदानी, सीनियर वाइस प्रेसिडेंट विनीत अग्रवाल सहित डॉ. ललित खेतान और दीपक सूद ने एकमत के साथ अपने विचार व्यक्त करते हुए राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 से बचाव के लिए उठाये गये कदम की प्रशंसा की। उद्यमियों ने कहा कि चीन से 120 कम्पनियां पालयन करना चाहती है, इनको यूपी में लाने के लिए एसोचैम पूरी मदद करेगा।

ये भी पढ़ें: चल रही थीं बोर्ड परीक्षा की कॉपियों के मूल्यांकन की तैयारियां, लेकिन…

उद्यमी इस समय का कर सकते हैं इस्तेमाल

दीपक अग्रवाल ने एमएसएमई को पुनः शुरू करने के लिए जीएसटी को कम करने का अनुरोध किया। वहीं, ललित खेतान ने राज्य सरकार से एमएसएमई को बैंक से लोन दिलाने में मदद करने एवं वेयर हाउस एक्टिविटी को शुरू करने की अनुमति देने का अनुरोध किया। महाना ने कहा कि उनके द्वारा दिये गये सुझावों को प्राथमिकता से लिया जायेगा। उद्यमियों को इस नकारात्मक समय को एक अवसर की तहर लेना चाहिए। सरकार उद्यमियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है।

रिपोर्ट: श्रीधर अग्निहोत्री

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App