चल रही थीं बोर्ड परीक्षा की कॉपियों के मूल्यांकन की तैयारियां, लेकिन…

अब रेड व ऑरेंज जोन के जिलों में यूपी बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियों को जांचने का काम पांच मई से नहीं होगा। उत्तर प्रदेश के केवल ग्रीन जोन में ही…

Published by Ashiki Patel Published: May 4, 2020 | 9:17 pm
Modified: May 4, 2020 | 9:27 pm

कन्नौज: अब रेड व ऑरेंज जोन के जिलों में यूपी बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियों को जांचने का काम पांच मई से नहीं होगा। उत्तर प्रदेश के केवल ग्रीन जोन में ही मूल्यांकन कार्य शुरू होगा। कन्नौज समेत कई जिले ऑरेंज जोन में है, जिस वजह से फैसला दो-तीन दिन में होगा। प्रमुख सचिव ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर यह जानकारी जिलों को दी।

ये भी पढ़ें: अभी-अभी MLA अमनमणि त्रिपाठी 7 समर्थकों के साथ गिरफ्तार, लगा ये गंभीर आरोप

बोर्ड सचिव ने की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग

सोमवार को माध्यमिक शिक्षा परिषद की प्रमख सचिव आराधना शुक्ला ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की। सदर तहसील परिसर में बने एनआईसी में वीसी के जरिए डीआईओएस राजेंद्र बाबू भी रू-ब-रू हुए। डीआईओएस ने बताया कि फिलहाल बोर्ड परीक्षाओं को जांचने का काम टाल दिया गया है। प्रमुख सचिव ने कहा कि मूल्यांकन का कार्य सिर्फ ग्रीन जोन में ही होगा। ऑरेंज व रेड जोन में कॉपियां नहीं जांची जाएंगी।

ये भी पढ़ें: प्रशासन ने मंडी को लेकर जारी की नई गाइडलाइन, अब इन नियमों का करना होगा पालन

डीआईओएस ने ये कहा

डीआईओएस का कहना है कि कन्नौज भी ऑरेंज जोन में है, इसलिए कहा गया है कि मूल्यांकन के लिए दो-तीन दिन में बताया जाएगा। उधर, शहर में केके इंटर कॉलेज में इंटरमीडिएट और एसबीएस इंटर कॉलेज में हाईस्कूल की कॉपियां जांचने को लेकर तैयारियां जोरों से चलती रहीं। नगर पालिका कर्मचारियों की ओर से साफ-सफाई, सेनेटाइजेशन हुआ। डीआईओएस ने बताया कि सीएमओ डॉ. कृष्ण स्वरूप की ओर से दोनों केंद्रों पर थर्मल स्क्रीनिंग के लिए डॉक्टरों की टीम भी नामित कर दी गई है।

ये भी पढ़ें: मजदूरों की मसीहा ये संस्था, परेशान गरीबों के चेहरों पर ऐसे ला रही मुस्कान

दूसरे जिलों में फंसे हैं शिक्षक, कैसे होगा मूल्यांकन

शहर के दो इंटर कॉलेजों में यूपी बोर्ड की कॉपियों का मूल्यांकन केंद्र बने हैं। उपनियंत्रकों का दावा है कि उनकी ओर से तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। लेकिन परीक्षकों के प्रवेश पास प्रशासन की ओर से अब तक जारी नहीं हो पाए हैं। एक केंद्र पर तो स्टाफ के भी पास नहीं बन पाए हैं। लॉकडाउन में आवागमन की सुविधा बेहतर नहीं है, जिस वजह से 50 फीसदी परीक्षकों के न पहुंच पाने की आशंका है। कई शिक्षक दूर जिलों में घर चले गए हैं। ऐसे में मूल्यांकन में उनका शामिल होना मुमकिन नहीं दिख रहा है।

ये भी पढ़ें: अधिकारियों ने गौशालाओं को बेसहारा छोड़ा, नहीं देखी होगी गायों की ऐसी दुर्दशा

केके इंटर कॉलेज में इस तरह होगा मूल्यांकन

केके इंटर कॉलेज उपनियंत्रक बीके श्रीवास्तव ने बताया कि फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए बैच नियुक्त कर दिए गए हैं। हिन्दी, सामान्य हिन्दी, संस्कृत, अंग्रेजी, इतिहास, भूगोल, नागरिक शास्त्र, गणित, शिक्षाशास्त्र, गृह विज्ञान, अर्थशास्त्र व चित्रकला की कॉपियों को जांचने के लिए बैच नंबर एक से 36 तक के डीएचई 2532 से 2567 तक और परीक्षक संख्या 23286 से 23634 तक महीने की विषम तारीखों को आएंगे।

ये भी पढ़ें: एक्शन में यूपी पुलिस: धर दबोचे तीन तस्कर, करोड़ों का नशीला पदार्थ बरामद

इसी तरह समाजशास्त्र, कम्प्यूटर, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, कृषि वनस्पति विज्ञान, कृषि भैतिकी व जलवायु विज्ञान, कृषि रसायन विज्ञान व व्याकरण हिन्दी टंकण की बैच संख्या 37 से 65 तक परीक्षक, 2568 से 2593 नंबर पर डीएचई और परीक्षक संख्या 23635 से 23871 तक सम तारीखों को आएंगे।

ये भी पढ़ें: कोरोना के बाद ऐसी होगी जिंदगी, दुनिया में बदल जाएंगी ये 7 बड़ी चीजें

इंटरमीडिएट की कॉपियां जांचने वालों के पास नहीं

केके इंटर कॉलेज उप नियंत्रक बीके श्रीवास्तव ने बताया कि कॉपियों को रखने वाले स्थान को सेनेटाइज करा दिया गया है। सभी कक्षों में भी साफ-सफाई करा दी गई है। बताया कि मूल्यांकन के लिए शिक्षक-शिक्षिकाएं दूर-दूर से आएंगे, अब तक सबके पास नहीं बन सके हैं। उन्होंने केंद्र स्टाफ के 20 पास भेजे हैं, लेकिन प्राप्त नहीं हुए। इसमें उनके और डीआईओएस के बाद एडीएम हस्ताक्षर करते हैं। उप नियंत्रक ने बताया कि 586 परीक्षक लगे हैं। इसमें कितने आते हैं, यह आगे मूल्यांकन शुरू होने पर ही पता चलेगा। फिलहाल किसी ने अप्लीकेशन नहीं दी है कि उसे मूल्यांकन कार्य से मुक्त किया जाए। उनके केंद्र पर इंटरमीडिएट की 138876 उत्तर पुस्तिकाएं हैं। सुबह 10 से शाम पांच बजे तक मूल्यांकन कार्य होगा।

ये भी पढ़ें: कोरोना से जंग में मदद करेगा यह ऐप, ऑफिस में काम करना हो जाएगा आसान

हाईस्कूल की कॉपियां यहां जंचेंगी, तैयारियां पूरी

एसबीएस इंटर कॉलेज के उपनियंत्रक एमसी पाल ने बताया कि उनके यहां हाईस्कूल की कॉपियां जांची जाएंगी। पूरी तरह से सेनेटाइजेशन हो गया है। केंद्र पर बिजली, पानी व सफाई का पूरा इंतजाम है। वह पूरी तरह से तैयार हैं लेकिन सुनने में आया है कि शिक्षक संगठनों के प्रांतीय स्तर पर विरोध है। कितने परीक्षक आएंगे, यह आगे पता चलेगा। उन्होंने बताया कि केंद्र पर 182213 कॉपियां हैं। विभाग से एलाट परीक्षक 1206 हैं। लेकिन शुरुआती दौर में 550 के करीब ही उपस्थित हुए हैं। आदेश में 25 मई तक मूल्यांकन पूरा करने की बात कही गई है। सुबह 10 से पांच बजे तक कॉपियां जांची जाएंगी। पहले 25 से मूल्यांकन होना था, इस वजह से उनके पास पहले से ही बन गए हैं। परीक्षकों के पास बनाने की प्रक्रिया मंगलवार को होगी।

ये भी पढ़ें: शराब बिक्री की मिली छूट के बाद शराब की दुकानों पर लगी लंबी कतारें, देखें तस्वीरें

शिक्षक संगठन कर रहे हैं विरोध

माध्यमिक शिक्षक संघ शर्मा गुट के प्रदेशीय मंत्री श्रीकृष्ण यादव का कहना है कि जितने भी परीक्षक हैं, ज्यादातर दूर-दराज के हैं। दूसरी ओर कोरोना वायरस से शिक्षक भयभीत भी हैं तो वे आएंगे कैसे। उनका मानना है कि अधिकांश टीचर नहीं आएंगे। शाहजहांपुर, प्रयागराज, देवरिया, कौशाम्बी आदि जिलों के रहने वाले टीचर हैं। परिषद सचिव ने दो मीटर की दूरी पर बिठाने के निर्देश दिए हैं। ऐसे में कितने कमरों में कैसे मूल्यांकन हो सकेगा। टीचर के लिए मास्क, ग्लव्स व सेनेटाइजर भी नहीं हैं। संगठन ने घर पर जांचने के लिए कॉपियां मांगी थीं, लेकिन शासन सुन नहीं रहा है।

रिपोर्ट: अजय मिश्र

ये भी पढ़ें: नीतू सिंह के अलावा ऋषि कपूर को इनसे भी था प्यार, नाम जानकर दंग हो जाएंगे

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।