बिछ गईं लाशें ही लाशें: 18 मजदूरों की दर्दनाक मौत, ये बनी वजह

चीन के एक कोयला खदान (China Coalmine) में 18 मजदूरों की मौत हो गई। इसकी वजह कार्बन मोनोक्साइड (Carbon Monoxide) के स्तर को बढ़ना बताया जा रहा है।

coalmine

बिछ गईं लाशें ही लाशें: 18 मजदूरों की दर्दनाक मौत, ये बनी वजह (सांकेतिक फोटो- सोशल मीडिया)

बीजिंग: चीन के लोग उस वक्त दहल उठे, जब एक कोयला खदान (China Coalmine) में 18 मजदूरों की मौत हो गई। इसके पीछे की वजह कार्बन मोनोक्साइड (Carbon Monoxide) के स्तर को बढ़ना बताया जा रहा है। इस घटना की जानकारी स्थानीय अधिकारी की ओर से दी गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह घटना शुक्रवार शाम पांच बजे के आसपास की है। कार्बन मोनोक्साइड का स्तर बढ़ने से 18 मजदूरों की मौत हो गई है। वहीं अभी पांच लापता बताए जा रहे हैं, जिनकी तलाश की जा रही है।

इस घटना में 18 मजदूरों की मौत की पुष्टि

ये पूरी घटना चोंगकिंग नगर निगम के योगचुआन जिले में स्थित दियाओशुइदोंग कोयला खदान से सामने आई है। जानकारी के मुताबिक, एक मजदूर को बचा लिया गया है। बताया जा रहा है कि खदान (Coalmine) में कुछ कम उम्र के लड़के भी मौजूद थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबित, कार्बन मोनोक्साइड का स्तर बढ़ने से 18 मजदूरों की मौत की पुष्टि हुई है। घटना की जानकारी मिलते हुए मौके पर पुलिस और दमकल विभाग के अधिकारी सहित बचाव कर्मी उन मजदूरों की तलाश कर रहे हैं, जो खदान में फंसे हुए हैं।

यह भी पढ़ें: UN में किसान आंदोलन की धमक: प्रदर्शन पर दी प्रतिक्रिया, कही ये बड़ी बात

कोयला खदान में साल 1975 से शुरू हुआ था खनन

फिलहाल अभी पुलिस हादसे की वजहों का पता लगाने में जुटी हुई है। स्थानीय आपात प्रबंधन विभाग के मुताबिक, योगचुआन जिले में स्थित दियाओशुइदोंग कोयला खदान में साल 1975 से खनन शुरू हुआ था और साल 1998 में इस खदान को प्राइवेट सेक्टर को सौंप दिया गया। इसकी वार्षिक उत्पादन क्षमता एक लाख बीस हजार टन कोयला है।

यह भी पढ़ें: कनाडा के PM ट्रूडो की टिप्पणी के बाद भारत ने उठाया बड़ा कदम, हर तरफ हो रही चर्चा

हर साल करीब पांच हजार होती हैं मौतें

बता दें कि चीन की कोयला खाने दुनिया में सबसे खतरनाक मानी जाती हैं। यहां पर मजदूरों की सुरक्षा के लिए ना के बराबर उपकरण मौजूद हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो यहां पर हर साल इस तरह की घटनाओं में करीब पांच हजार के आसपास से ज्यादा मौतें हो जाती हैं।

यह भी पढ़ें: कोरोना का कहर: सरकार ने अमीरों पर लिया बड़ा फैसला, इतने लोग होंगे प्रभावित

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App