श्रीलंका में बस स्टैंड पर मिले 87 डेटोनेटर, राष्ट्रपति ने देश में इमरजेंसी का किया ऐलान

श्रीलंका में हुए अब तक के सबसे विध्वंसक सीरियल ब्लास्ट में मरने वालों की संख्या 290 पहुंच गई है।ईस्टर के मौके पर सीरियल बम धमाकों से दहले श्रीलंका से एक बार फिर बुरी खबर आई है।

कोलंबो: श्रीलंका में हुए अब तक के सबसे विध्वंसक सीरियल ब्लास्ट में मरने वालों की संख्या 290 पहुंच गई है।ईस्टर के मौके पर सीरियल बम धमाकों से दहले श्रीलंका से एक बार फिर बुरी खबर आई है। कोलंबो में पुलिस को 87 जिंदा बम मिले हैं। यह सभी बम कोलंबो बस स्टैंड के पास मिले हैं।

श्रीलंका में सबसे भीषण विस्फोट में कोलंबो में सेंट एंथनी चर्च, नेगोंबो में सेंट सेबेस्टियन चर्च और बट्टीकालोआ में जिओन चर्च को निशाना बनाया गया। कोलंबो में तीन फाइव स्टार होटल- शांगरी ला, कीनामोन ग्रैंड और किंग्सबरी में भी विस्फोट हुआ।

यह भी पढ़ें…..श्रीलंकाई विस्फोटों को सात आत्मघाती हमलावरों ने दिया था अंजाम: सरकारी विश्लेषक विभाग

बम स्क्वाड को मौके पर बुलाया गया है और आसपास मौजूद लोगों को इलाके से दूर किया जा रहा है।इससे पहले श्रीलंका के राष्‍ट्रपति मैथरीपाला सिरिसेना ने सोमवार की रात 12 बजे से देश में इमरजेंसी लागू करने का आदेश दिया है। इन हमलों के बाद से श्रीलंका के आंतरिक हालात बेकाबू होने के डर से यह फैसला किया गया है।

यह भी पढ़ें…..श्रीलंका: बम धमाकों में मरने वालों की संख्या 290 हुई, जेडीएस के 2 नेताओं समेत 6 भारतीयों की मौत

उधर, भारत-श्रीलंका की समुद्री सीमा पर भी पहरा बढ़ा दिया गया है। इंडिया कोस्टगार्ड को हाई अलर्ट पर कर दिया गया है। अंदेशा जताया गया है कि श्रीलंका से आत्मघाती हमलावर भारत भी आ सकते हैं। उनके लिए समुद्री रास्ता सबसे मुफीद रहेगा, इसलिए जलसीमा पर सख्‍त नजर बनाए रखनी होगी।

रविवार को ईस्टर के मौके पर चर्च और होटलों समेत कुल 8 सीरियल ब्लास्ट हुए थे. हमले में 450 से अधिक लोग घायल हुए हैं. इसमें कई की हालत गंभीर है। इस बीच, श्रीलंका पुलिस को कोलंबो के मुख्य बस स्टैंड पर 87 बम डेटोनेटर्स मिले हैं।

यह भी पढ़ें…..तौहीद जमात: जानिए उस कट्टरपंथी संगठन के बारें में, जिस पर है श्रीलंका धमाकों का शक

सीरियल ब्लास्ट की जांच कर रही श्रीलंकाई पुलिस अब तक 24 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। इधर सोमवार सुबह कोलंबो एयरपोर्ट के पास एक और बम बरामद हुआ है। इसे सुरक्षाबलों ने समय रहते डिफ्यूज कर दिया। हमले में 4 भारतीयों की भी मौत हुई है। रविवार रात तक मृतकों की संख्या 215 थी।

हमले के बाद अफवाहों से बचने के लिए एहतियातन पूरे देश में सोशल मीडिया पर रोक लगा दी गई है। वहीं शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक पूरे देश में कर्फ्यू लगाया गया था। सुबह 6 बजे कर्फ्यू हटा लिया गया। अधिकांश धमाके राजधानी कोलंबो में हुए हैं।

यह भी पढ़ें…..न्यूजीलैंड: मस्जिदों पर हुए आतंकी हमले में 6 भारतीयों की मौत, मरने वालों में गुजरात के 4 लोग

इस हमले पर भारत भी नजर बनाए हुए है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना और प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे से फोन पर बात की और आतंकवादी हमले को क्रूर और सुनियोजित बर्बर आतंकी हमला बताया।

पीएम मोदी ने श्रीलंका की सरकार को हरसंभव मदद करने का भरोसा भी दिया। इस आतंकी हमले को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि इसे पूरी तरह योजना बनाकर और बर्बरता के साथ अंजाम दिया गया, जिसने एक बार फिर समूची मानवता को हिलाकर रख दिया है। पीएम नरेंद्र मोदी ने श्रीलंका में सीरियल धमाकों की चर्चा चित्तौड़गढ़ की एक रैली में भी की।

यह भी पढ़ें…..तिरूचिरापल्ली के मंदिर में भगदड़ में सात श्रद्धालुओं की मौत, पीएम मोदी ने प्रकट की संवेदना

उन्होंने कहा कि भारत इस संकट की घड़ी में मजबूती के साथ श्रीलंका के साथ खड़ा है। पीएम मोदी ने जनसभा में कहा, ‘हमारे पड़ोस में, श्रीलंका में आतंकियों ने अनेक बम धमाके किए। बम धमाके चर्च में हुए, होटलों में हुए। आज पूरे विश्व में ईस्टर का पवित्र पर्व मनाया जा रहा है।