करोड़ों को जलाने वाले ये अपराधी, कहा कि ऐसा करने में आता है मजा

ऑस्ट्रेलिया के जंगल में जानबूझ कर आग लगाने के मामले में अब तक सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन लोगों को सबसे ज्यादा प्रभावित प्रांतों से गिरफ्तार किया गया है।

करोड़ों को जलाने वाले ये अपराधी, कहा कि ऐसा करने में आता है मजा

करोड़ों को जलाने वाले ये अपराधी, कहा कि ऐसा करने में आता है मजा

कैनबरा: ऑस्ट्रेलिया के जंगल में जानबूझ कर आग लगाने के मामले में अब तक सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन लोगों को सबसे ज्यादा प्रभावित प्रांतों न्यू साउथ वेल्स,  क्वींसलैंड, विक्टोरिया, दक्षिण ऑस्ट्रेलिया और तस्मानिया प्रांतों से गिरफ्तार किया गया है।

स्थानीय मीडिया के मुताबिक, केवल न्यू साउथ वेल्स से ही नवंबर से अब तक 183 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इनमें से 24 लोगों पर जानबूझकर जंगलों में आग लगाने का आरोप है। वहीं विक्टोरिया में 43 लोग अब तक गिरफ्तार हो चुके हैं। इसके अलावा क्वींसलैंड में पकड़े गए 101 लोगों में 70 फीसदी नाबालिग हैं। यहां नवंबर में सबसे भयानक आग लगी थी।

आरोपियों ने कहा कि…

जब गिरफ्तार किए गए लोगों से जंगल में आग लगाने को लेकर पूछताछ की गई तो उन लोगों ने बहुत ही अजीबो-गरीब जवाब दिया। स्विनबर्न यूनिवर्सिटी में फॉरेंसिक बिहेवियरल साइंस के निदेशक जेम्स ओग्लॉफ के मुताबिक, ऑस्ट्रेलिया में करीब 50 प्रतिशत आग जानबूझ कर लगाई गई है। उन्होंने न्यूज कॉर्प को बताया कि, उन्हें आग देखना और लगाना अच्छा लगता है। और वो अक्सर जंगल कैसे जलता है और आग को कैसे भड़काया जाता है, इसकी जानकारी देते हैं।

यह भी पढ़ें: फिर विवादों में दीपिका: होगा करोड़ों का घाटा, अब खतरे में इनकी ये फिल्म

आगजनी में सबसे अधिक युवा लड़के शामिल

यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न की प्रोफेसर के एसोसिएट प्रोफेसर जेनेट स्टेनली ने बताया कि, जानबूझ कर आग लगाने वाले लोगों में आमतौर पर युवा शामिल हैं। आगजनी में 12 से 24 साल के लड़के या फिर 60 साल या फिर इससे भी बुजुर्ग लोग शामिल हैं।

अब ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग की लपटें ब्राजील तक जा पहुंची हैं। इसकी जानकारी नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्पेस रिसर्च ने ट्विटर पर दी है। एजेंसी के रिमोट सेंसिंग विभाग ने सेटेलाइट चित्रों का जिक्र करते हुए कहा है कि, मंगलवार को ब्राजील के सबसे दक्षिणी राज्य रियो ग्रांड डो सुल में धुआं आ गया था।

यह भी पढ़ें: 10 हजार को मारने के आदेश, करोड़ों जानवरों की बलि के बाद हुआ ये ऐलान

सबसे ज्यादा असर बेजुबान जानवरों पर

वहीं ऑस्टेलिया में लगी आग का सबसे बुरा असर बेजुबान जानवरों पर पड़ा है जो भाग कर कहीं जा न सके और जिंदा जल कर खाक हो गए। अनुमान है कि न्यू साउथ वेल्स में 50 करोड़ से ज्यादा पशु आग से प्रभावित हुए हैं। इनमें लाखों की मौत हो जाने की आशंका है। सिडनी विश्वविद्यालय के पर्यावरणविदों का कहना है कि देश भर में आग से 100 करोड़ से ज्यादा पशु जल कर मर गए होंगे।

न्यू साउथ वेल्स में आग की चपेट में आए जिन पशुओं के बारे में अनुमान लगाया जा रहा है उनमें स्तनपाई, पक्षी और सरीसृप यानी रेंगने वाले जीव शामिल हैं। लेकिन कीट, पतंगों, चमगादड़ों और मेढकों की कोई गिनती ही नहीं है। न्यू साउथ वेल्स में कोआला नामक पशु की एक तिहाई आबादी खाक हो जाने की आशंका है।

यह भी पढ़ें: अपर मुख्य सचिव गृह ने कानून व्यवस्था को लेकर कह दी ये बात