×

चीन के साथ विवाद पर अमेरिका खुलकर भारत के साथ, दुनिया के सभी देशों से कही ये बात

लद्दाख में भारत और चीन के बीच पैदा हुए सीमा विवाद में अमेरिका खुलकर भारत के पक्ष में खड़ा हो गया है। अमेरिका ने इस मुद्दे पर चीन को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि...

Newstrack
Updated on: 9 July 2020 5:39 AM GMT
चीन के साथ विवाद पर अमेरिका खुलकर भारत के साथ, दुनिया के सभी देशों से कही ये बात
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली: लद्दाख में भारत और चीन के बीच पैदा हुए सीमा विवाद में अमेरिका खुलकर भारत के पक्ष में खड़ा हो गया है। अमेरिका ने इस मुद्दे पर चीन को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि चीन ने भूटान से लेकर ताइवान तक हर जगह केवल सीमा विवाद पैदा किया है। दुनिया के सभी देशों को चीन को ऐसा व्यवहार करने की इजाजत नहीं देनी चाहिए। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में हाल में हुई झड़प में चीन ने आक्रामकता दिखाई है जिसका भारत की ओर से बेहतर तरीके से जवाब दिया गया है।

ये भी पढ़ें: योगी-शिवराज बने वजह: विकास को ऐसे धर-दबोचा पुलिस ने, चिल्लाता रहा माफिया

लद्दाख में भारत ने दिया सटीक जवाब

अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में सैन्य तनाव के मुद्दे पर मेरी हाल के दिनों में भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर से कई बार बातचीत हुई है। चीन ने पूर्वी लद्दाख में आक्रामकता दिखाई है जिसका भारत की ओर से सटीक जवाब दिया गया है। पॉम्पियो ने कहा कि चीन ने अपने कई पड़ोसी देशों के साथ सीमा को लेकर विवाद पैदा किया है। दुनिया के सभी देशों को इस पर गौर फरमाना चाहिए और चीन को ऐसी आक्रामकता दिखाने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए।

ये भी पढ़ें: इंडिया ग्लोबल वीक का आगाज आज, प्रधानमंत्री मोदी देंगे उद्घाटन भाषण

हर पड़ोसी देश के साथ चीन का विवाद

अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि चीन का कोई ऐसा पड़ोसी देश नहीं है जो स्पष्ट रूप से कह सके कि उसके देश की संप्रभुता कहां समाप्त होती है और चीनी कम्युनिस्ट पार्टी उस संप्रभुता का सम्मान करेगी। इसका कारण यह है कि चीन अपने हर पड़ोसी देश के साथ सीमा विवाद में उलझा हुआ है। वह दूसरे देश के इलाकों को भी अपना इलाका बताने पर तुला हुआ है। उन्होंने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने चीन के इस रुख को गंभीरता से लिया है। चीन की इस आक्रामकता का जवाब देने के लिए दुनिया के दूसरे देशों को एक साथ आना चाहिए।

ये भी पढ़ें: यहां मिली बड़ी सफलताः मुठभेड़ में 20-20 हजार के दो ईनामी गिरफ्तार

अमेरिका करेगा दूसरे देशों से बातचीत

उन्होंने कहा कि अमेरिका ने इस मुद्दे पर चीनी नेतृत्व से बातचीत करने की कोशिश की थी मगर चीनी नेतृत्व सबको भरमाने में जुटा हुआ है। हम चीन के आक्रामक रुख को लेकर काफी गंभीर हैं। अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि अमेरिका जल्द ही इस मुद्दे पर यूरोपीय संघ के देशों से भी बातचीत करेगा। अमेरिका दूसरे देशों से इस मुद्दे पर चर्चा करेगा कि हम चीनी सरकार की चुनौतियों को किस तरह जवाब दे सकते हैं।

ये भी पढ़ें: गिरफ्तारी के बाद एनकाउंटर, पुलिस कस्टडी में विकास दुबे का साथी प्रभात ढेर

जानबूझकर पैदा किया कोरोना संकट

पॉम्पियो ने कोरोना संकट के मुद्दे पर भी चीन को घेरा। उन्होंने कहा कि चीन के वुहान शहर से कोरोना वायरस का संक्रमण पूरी दुनिया में फैला और दुनिया ने इस मामले में चीनी सरकार का असली रंग देख लिया है। मेरा यह यकीन अब पहले से ज्यादा पक्का हो गया है कि चीन ने जानबूझकर कोरोना का संकट पैदा किया है। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की विश्वसनीयता को लेकर लगातार समस्या बनी हुई है। वह दुनिया को कोरोना वायरस का सच बताने में पूरी तरह नाकाम रही है और इसी कारण दुनिया में काफी संख्या में लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है।

चीन के खिलाफ एकजुट हों सभी देश

चीन ने भूटान से लेकर ताइवान तक हर जगह सीमा विवाद पैदा किए हैं। बीजिंग का रवैया अपनए हर पड़ोसी देश के साथ सीमा विवाद पैदा करने का रहा है। हाल में चीन ने भूटान के साथ भी सीमा विवाद शुरू किया है। ताइवान के साथ भी चीन का ऐसा ही विवाद चल रहा है। इससे समझा जा सकता है कि चीन का रवैया सही नहीं है और दुनिया के सभी देशों को चीन के खिलाफ एकजुट होना चाहिए।

ये भी पढ़ें: बॉलीवुड ने खो दिया ‘सूरमा भोपाली’, एक्टर जगदीप का मुंबई में निधन

Newstrack

Newstrack

Next Story