×

युद्ध में उजड़े हजारों घर: तबाह हुए गांव के गांव, जान बचाने को मजबूर सभी

भूमि विवाद अजरबैजान और आर्मीनिया के बीच इन दिनों युद्ध में बदल गया है। नागोर्नो-काराबाख में जारी जंग से मौतों का सिलसिला भी लगातार जारी है। अब तक अजरबैजान सेना के 3000 से ज्यादा सैनिक जान गंवा चुके हैं।

Newstrack
Updated on: 3 Oct 2020 8:10 AM GMT
युद्ध में उजड़े हजारों घर: तबाह हुए गांव के गांव, जान बचाने को मजबूर सभी
X
भूमि विवाद अजरबैजान और आर्मीनिया के बीच इन दिनों युद्ध में बदल गया है। नागोर्नो-काराबाख में जारी जंग से मौतों का सिलसिला भी लगातार जारी है।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली। भूमि विवाद अजरबैजान और आर्मीनिया के बीच इन दिनों युद्ध में बदल गया है। नागोर्नो-काराबाख में जारी जंग से मौतों का सिलसिला भी लगातार जारी है। अब तक अजरबैजान सेना के 3000 से ज्यादा सैनिक जान गंवा चुके हैं। सामने आई रिपोर्ट्स के दावा है कि गोलीबारी की चपेट में आम नागरिक भी आए हैं। ऐसे में हालात यहां इतने ज्यादा खराब हो गए हैं कि काराबाख के पास गांवों को खाली कराया जा रहा है। लेकिन युद्ध के बीच अभी तक नाोगोर्नो-काराबाख की राजधानी स्टेपनकर्ट को खाली नहीं कराया गया है।

ये भी पढ़ें... युद्ध में आतंकी हमला: दोनों देशों में अचानक भयानक बमबारी, मारे जा रहे सैनिक

उजड़े चुके घरों में डरे-सहमे लोगों में मौत का साया

राजधानी में लाखों लोगों की जिंदगी खतरे में है। जिन जगहों पर लोग अभी फंसे हैं वे घरों के नीचे बने तहखानों में छिपकर किसी तरह गोलीबारी से अपनी जान बचा रहे हैं। उजड़े चुके घरों में डरे-सहमे लोगों में मौत का साया पतंग की तरह लहरा रहा है।

Fear scared people फोटो-सोशल मीडिया

आर्तसाख के राष्ट्रपति के प्रेस सचिव वगरम पोगोस्यान ने फेसबुक पर जानकारी देते हुए पोस्ट किया कि इंटेलिजेंस डेटा के अनुसार, अजरबैजान के 3000 सैनिकों की जान जा चुकी है और ज्यादातर के शव अभी न्यूट्रल जोन में ही हैं और उन्हें ट्रांसपोर्ट करने के लिए कुछ नहीं किया जा रहा है। वहीं, संयुक्त राष्ट्र ने हालात पर चिंता जताते हुए संघर्ष को खत्म करने की अपील की थी।

ये भी पढ़ें...भाड़े के पाकिस्तानी सैनिक: अजरबैजान-आर्मेनिया युद्ध, इस देश का दे रहे साथ

आर्मीनिया के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता आर्तस्रन होवानिसयन ने कहा कि शुक्रवार तक 24 घंटे में 540 अजरबैजानी सैनिकों की जान जा चुकी है और 700 घायल हो गए हैं। 45 हथियारबंद वाहन, 6 प्लेन, 3 हेलिकॉप्टर और 6 ड्रोन भी उड़ाए जा चुके हैं।

Azerbaijan-Armenia War फोटो-सोशल मीडिया

साथ ही आर्मीनिया ने यह भी दावा किया था क‍ि उसने अजरबैजान के 4 किलर ड्रोन और सैन्‍य विमान को मार ग‍िराया है। इससे पहले आर्मीनिया ने दावा किया था कि उसके एक सुखोई विमान को तुर्की के F-16 ने नष्‍ट कर दिया है।

ये भी पढ़ें...Live: सुलग रहा हाथरस, राहुल के हाथरस कूच से पहले DND पर पुलिस तैयार

सेना ने दुश्मन से क्षेत्र को छुड़ा लिया

शनिवार को अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि देश के सुरक्षाबलों ने और जगहों पर कब्जा कर लिया है। बयान जारी कर कहा गया है कि सेना ने दुश्मन से क्षेत्र को छुड़ा लिया है। दावा किया गया है कि सैनिकों के साथ दुश्मन के हथियार को भी तबाह कर दिया गया है।

रक्षा मंत्रालय के अनुसार, आर्मीनिया और आर्तसाख के 230 टैंक और दूसरे हथियारबंद वाहनों को उड़ा दिया गया है। इनके अलावा लॉन्च रॉकेट सिस्टम, मोर्टार, 38 एयर डिफेंस सिस्टम, 10 कमांड कंट्रोल सेंटरों को फड़ा दिया गया है। यही नही, S-200 एयर डिफेंस सिस्टेम को भी उड़ाने का दावा किया गया है।

ये भी पढ़ें...हाथरस कांड में आया नया मोड़, सोशल मीडिया पर कही जा रही है ये बात…

Newstrack

Newstrack

Next Story