धमाके से कांपी दुनिया: 150 लोगों के उड़े चीथड़े, कभी नहीं भूल पाएंगे मंजर

राजधानी बेरूत में हुए भयंकर धमाके ने पूरी दुनिया को हिला के रख दिया। इस धमाके में 150 लोगों की मौत हो गई और 5000 लोग जिंदगी के लिए जंग अभी भी लड़ रहे हैं।

Blast

धमाके से कांपी दुनिया: 150 लोगों के उड़े चीथड़े, कभी नहीं भूल पाएंगे मंजर

बेरूत। राजधानी बेरूत में हुए भयंकर धमाके ने पूरी दुनिया को हिला के रख दिया। इस धमाके में 150 लोगों की मौत हो गई और 5000 लोग जिंदगी के लिए जंग अभी भी लड़ रहे हैं। धमाके के बाद से बेरूत का पूरा का पूरा नक्शा ही मानो बदला सा गया हो। इस भीषण धमाके में जिंदा बचकर आए लोगों ने बताया कि किस तरह से उन्होंने इस जानलेवा विस्फोट से खुद को बचाया और हादसे का खुली आंखों से सामना किया। किन मुश्किल हालातों में उनकी जान बच पाई।

ये भी पढ़ें… तबाही का भयानक मंजर: बादल फटने से उजड़े गांव के गांव, हजारों जिंदगियाँ खराब

धमाके के साथ खिड़कियां टूट गईं

बेरूत धमाके के चश्मदीद तौफीक नासर ने बताया कि वह अपने घर पर पापा के साथ सोफे पर बैठे हुए थे। उन्होंने कुछ आवाजें सुनीं और इसके कुछ ही सेकंड बाद धमाके के साथ खिड़कियां टूट गईं।

उन्होंने कहा कि एक तरीके से धीरे-धीरे सब कुछ टूट रहा था, शराब की बोतलें फर्श पर गिर रहीं थीं। पूरी बिल्डिंग में ऐसा लगा जैसे कोई बड़ा भयानक भूकंप आ गया हो। ये बहुत ही डरावना और भयानक था।

Blast lebnan

बताते हुए उन्होंने कहा कि हम अपने पड़ोसी के घर में कूदे, जहां एक बुजुर्ग महिला रहती हैं, उनकी ऑक्सीजन की टैंक थी, वो फंस गई थी, उसे निकालना पड़ा। वो गैस के चूल्हे पर काम कर रही थीं, उसे बंद करना था। ये एक पुरानी इमारत है, इसलिए बहुत कुछ करने को था। खैर जब सब शांत हो गया तो फिर मैंने अपने परिवार को देखा और सफाई शुरू की।

ये भी पढ़ें…पिता की दूसरी शादी से परेशान थे सुशांत, घरवालों से नहीं थे अच्छे रिश्ते: संजय राउत

इस हादसे का करीब से देखा मरियम नाउन

Lebnan capital blast

दूसरी शख्स जिसने इस हादसे का करीब से देखा मरियम नाउन। उन्होंने भी अपने डरावने अनुभव को कुछ इस तरह बयां किया। उन्होंंने कहा कि वो बेरूत के एक कैफे में अपने दोस्त के साथ थीं। तभी उनके नीचे की जमीन हिलने लगी और फिर तेज हवा चली। हमारे कान सुन्न पड़ गए। हम समझ ही नहीं क्या हो रहा।

इसके बाद उन्होंने बताया कि मुझे लगा इस्राइल ने हम पर हमला बोल दिया है। मैं जहां थी वो जगह समुद्र के पास थी तो लगा कि उसी में समा जाऊंगी। वहां लोग कैफे से बाहर की तरफ भागने लगे और हम भी अपनी कार की तरफ भागे। सभी सड़कों पर ट्रैफिक था और कांच ही कांच बिखरा पड़ा था। भगवान ने लोगों की मदद की। मेरे कान अभी भी सुन्न हैं।

ये भी पढ़ें…15 अगस्त को लाल किले से पीएम मोदी कर सकते हैं ये बड़ा एलान

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App