×

कोरोना का तांडव: ब्राजील में शवों को रखने की जगह नहीं, जानिए अमेरिका का हाल

कोरोना वायरस दुनियाभर में तबाही मचा रहा है। अब दुनिया के कई देशों में हालत ऐसी हो गई है कि वहां लाशों को रखने का जगह नहीं है। ऐसा ही मामला ब्राजील से सामने आया है।

Dharmendra kumar
Published on: 25 April 2020 5:26 AM GMT
कोरोना का तांडव: ब्राजील में शवों को रखने की जगह नहीं, जानिए अमेरिका का हाल
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: कोरोना वायरस दुनियाभर में तबाही मचा रहा है। अब दुनिया के कई देशों में हालत ऐसी हो गई है कि वहां लाशों को रखने का जगह नहीं है। ऐसा ही मामला ब्राजील से सामने आया है। ब्राजील के मनौस में एक अस्पताल के रेफ्रिजरेटर ट्रक में शवों के ऊपर शव रखे गए हैं, तो वहीं बुलडोजरसामूहिक कब्र बना रहे हैं।

बता दें कि ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो ने कभी कोरोना वायरस को हल्की सर्दी-खांसी बताया था और इस जानलेवा वायरस के खतरे को कम आंका था। अब हालत यह है कि ब्राजील में 2,900 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है तो वहीं 45,000 लोग संक्रमित हैं। अब इस बीच आपको बता दें कि ब्राजील में लॉकडाउन हटाने को लेकर प्रदर्शन चल रहे हैं जिसको राष्ट्रपति भी समर्थन दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें...जेल में ही सड़ जाएगा मौलाना साद, किया इतना बड़ा गुनाह, पुलिस को मिले अहम सुराग

तो वहीं अमेरिका में 24 घंटों में 3,176 लोगों की मौत हुई है और मृकों का आंकड़ा 50 हजार के पार पहुंच गया है। अमेरिका में प्रतिदिन 2000 लोगों की औसतन मौत हो रही है। दुनिया में कोरोना से जान गंवा चुके 1.95+ लाख से अधिक लोगों में यह सर्वाधिक संख्या है। माना जा रहा है कि अमेरिका में मौत का असली आंकड़ा 50 हजार से भी कहीं ज्यादा है, क्योंकि ज्यादातर राज्य सिर्फ अस्पतालों में मरने वाली की ही रिपोर्ट दे रहे हैं और घरों में मरने वालों का आंकड़ा इसमें शामिल नहीं है।

यह भी पढ़ें...AC से हो सकता है कोरोना! CPWD ने जारी की तापमान को लेकर ये गाइडलाइन

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) का कहना है कि अमेरिका में हर साल फैलने वाले सीजनल फ्लू से पिछले 9 सीजन में से 7 को मिलाकर भी कोरोना वायरस के बराबर मौत नहीं हुई हैं।

यह भी पढ़ें...लॉकडाउन: आज से खुलेंगी दुकानें, लेकिन सरकार ने रखी है ये शर्त, शराब पर…

सीडीसी का कहना है कि फ्लू से 2011-12 में सबसे कम 12 हजार और 2017-18 में सबसे अधिक 61 हजार लोगों ने जान गंवाई थी। लेकिन कोरोना वायरस का आंकड़ा साल 1918 में फैले स्पेनिश फ्लू के तांडव से बहुत पीछे है, जिससे 6.75 लाख लोगों की अमेरिका में मौत हुई थी। तो वहीं जानकारों को मानना है कि कोरोना से अमेरिका में 2 करोड़ लोगों की नौकरी जा सकती है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story