×

चीन को लगेगा तगड़ा झटका, होगा भारी नुकसान, बड़ा फैसला लेने जा रही TikTok

कोरोना वायरस और भारत से सीमा विवाद के बाद चीनी कंपनियां पूरी दुनिया के निशाने पर हैं। इसका चीनी कंपनी TikTok को सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा है।

Newstrack
Updated on: 18 July 2020 5:00 AM GMT
चीन को लगेगा तगड़ा झटका, होगा भारी नुकसान, बड़ा फैसला लेने जा रही TikTok
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: कोरोना वायरस और भारत से सीमा विवाद के बाद चीनी कंपनियां पूरी दुनिया के निशाने पर हैं। इसका चीनी कंपनी TikTok को सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा है। लद्दाख हिंसा के बाद भारत ने TikTok समेत 59 चीनी ऐप्स को बैन कर दिया था। अब अमेरिका भी इस पर बैन लगाने की तैयारी में है। इसके अलावा, पाकिस्तान में भी TikTok पर बैन की मांग हो रही है।

दुनिया में बने माहौल को देखते हुए चीनी कंपनी Bytedance TokTik को बेचने का निर्णय ले सकती है। अमेरिका के आर्थिक सलाहकार लैरी कुडलो ने कहा है कि Bytedance खुद को बचाने के लिए विवादित TikTok ऐप को बेच सकती है।

कुडलो ने कहा है कि हमने चीनी ऐप को बैन करने का अंतिम फैसला अभी नहीं लिया है, लेकिन जिस तरह से TikTok के खिलाफ माहौल बन रहा है, मुझे लगता है कि Bytedance उससे छुटकारा पा सकती है और इस समय यही उसके लिए सही होगा। TikTok पर बैन से Bytedance के साथ ही चीन की सरकार को भी काफी आर्थिक नुकसान उठाना पडा है।

यह भी पढ़ें...पापड़ बेचने वाले आनंद कुमार और ऑटो रिक्शा वाले आरके श्रीवास्तव की ऐसी है कहानी

कोरोना महामारी के कारण चीन की अर्थव्यवस्था पहले से ही खराब है, ऐसे में उसकी कंपनियों पर लग रहे बैन ने उसकी स्थिति और भी खराब कर दी है। चीन में रोजगार संकट उत्पन्न हो गया है। आठ मिलियन से अधिक चीनी छात्रों का स्नातक पूरा होने वाला है और नौकरियों की तलाश में हैं। अभी चीन के पास पर्याप्त नौकरियां नहीं हैं। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, जून में शहरी बेरोजगारी दर 5.7 प्रतिशत थी। लेकिन माना जा रहा है कि यह सही आंकड़ा नहीं है इससे भी ज्यादा चीन में बेरोजगारी है।

यह भी पढ़ें...संक्रमित कोरोना योद्धाओं को दी जाए सुविधाएं, नहीं हुआ ऐसा तो होगा आंदोलन

एक रिपोर्ट के मुताबिक, 80 मिलियन सेवा क्षेत्र और 20 मिलियन विनिर्माण क्षेत्र के कर्मचारी कोरोना महामरी से प्रभावित हैं। इसके अलावा, विदेशी कंपनियों ने चीन से जाना शुरू कर दिया है। Apple के आपूर्तिकर्ता फॉक्सकॉन ने भारत के लिए अपनी योजनाओं का एलान कर दिया है।

यह भी पढ़ें...प्रियंका ने 18 साल पहले इस फिल्म से की थी शुरुआत, अब इतनी बदल गई जिंदगी

आईफ़ोन और आईपैड के निर्माता अगले तीन वर्षों में एक बिलियन डॉलर का निवेश करेंगे और यह पैसा तमिलनाडु में फॉक्सकॉन के प्लांट में लगाया जाएगा। अभी इस प्लांट में iPhone के लोअर एंड वेरिएंट का उत्पादन किया जाता है, लेकिन निवेश के बाद यहां चीन में उत्पादित होने वाले अन्य iPhone मॉडल का निर्माण किया जाएगा।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story