चीन हुआ अब खत्म: दुनियाभर के देश हुए एक, जल्द होगा ड्रैगन का विनाश

चीन की चालबाजी से पूरी दुनिया अच्छी तरह से परिचित है। पहले ही चीन ने कोरोना वायरस फैलाकर दुनियाभर में तबाही मचा दी है। दुनियाभर के देशों ने चीन की चौतरफा घेर लिया है। अमेरिका, ब्रिटेन और दुनिया के 27 देश चीन को करारा जवाब देने के लिए तैयार है।

नई दिल्ली : चीन की चालबाजी से पूरी दुनिया अच्छी तरह से परिचित है। पहले ही चीन ने कोरोना वायरस फैलाकर दुनियाभर में तबाही मचा दी है। लेकिन उसके अलावा भी चीन द्वारा बॉर्डर पर जोर-जबरदस्ती, मानवाधिकार का उल्लंघन और हांगकांग में अत्याचार करने जैसे तमाम गंदे काम का चिठ्ठा है। देखते ही देखते अब दुनियाभर के देश चीन की करतूतों से अजीज आ चुके हैं। चीन के इन तौर-तरीको और नापाक हरकतों को देखते हुए अब 27 देशों ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग (UNHRC) में जाने का फैसला किया है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में अमेरिका, ब्रिटेन की अपील पर इस मुद्दे पर अनौपचारिक चर्चा की भी गई है। साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निशाने पर चीन बहुत पहले से बना हुआ है।

ये भी पढ़ें…LAC पर तनाव: भारत-चीन में इस बात पर सहमति, अब ऐसे रखेंगे एक दूसरे पर नजर

ऑस्ट्रेलिया का चीन पर वार

इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया हो चाहे जापान, अमेरिका और दक्षिण-पूर्वी एशियाई देश (आसियान देश) दुनिया के ज्यादातर देश चीन को घेरने की तैयारी में जुटे हुए हैं। यूरोप के कई देशों की तिलमिलाहट भी चीन के खिलाफ साफ दिखाई दे रही है।

इसी सिलसिले में ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि इंडो-पैसिफ़िक क्षेत्र में अमरीका और चीन में बढ़ते तनाव के बीच वो अपने सैन्य खर्चों का बजट बढ़ाएंगे। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने कहा है कि वो अगले 10 साल में सेना का बजट 270 अरब ऑस्ट्रेलियन डॉलर करेंगे। ये 40 प्रतिशत की बढोत्तरी है।

ये भी पढ़ें…शिवराज कैबिनेट का विस्तार: इन 28 विधायकों को मिली जगह, आज लेंगे शपथ

हांगकांग का चीन पर वार

हांगकांग की बात करें तो चीन ने हांगकांग के लिए नया राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून पास किया है। इससे हांगकांग के लोगों के सारे स्पेशल अधिकार खत्म हो जाएंगे।

इस कानून का मतलब ये भी होगा कि हांगकांग में ना तो चीन का कोई विरोध कर सकेगा ना ही उसके खिलाफ कोई प्रदर्शन कर सकेगा। ऐसे में अमेरिका और ब्रिटेन ने इस कानून बढ़-चढ़कर कड़ा विरोध किया है।

जापान का चीन पर वार

इसके अलावा जापान को देखें तो जापान और चीन के बीच सेनकाकू द्वीप को लेकर भी बहुत तनातनी का माहौल बना हुआ है। चीन इस द्वीप पर अपना दावा-पेंच ठोक रहा है।

लेकिन चीन से भारत और जापान की चल रही तनातनी के बीच अब भारत और जापान एक दूसरे के बेहद करीब आ गए हैं। बीते महीने भारत और जापान ने समुद्र में युद्धाभ्यास किया है। इसमें कई युद्धपोत शामिल थे।

ये भी पढ़ें…कांवड़ियों पर प्रशासन का सख्त पहरा, अगर यहां पहुंचे तो खैर नहीं, और…

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App