×

चीन का खतरनाक हेलीकॉप्टर: भारत हुआ सावधान, सीमा पर चली जा रही ये चाल

चीन बीते कई दिनों से सीमा पर हलचल करते नजर आ रहा है। कई बार तो चीनी हेलीकॉप्टरों ने सीमा के अंदर घूसने की कोशिश भी की। ऐसे में भारत-चीन सीमा विवाद के चलते चीन ने अपना पहला मानवरहित हेलिकॉप्टर बनाया है।

Vidushi Mishra
Published on: 25 May 2020 7:48 AM GMT
चीन का खतरनाक हेलीकॉप्टर: भारत हुआ सावधान, सीमा पर चली जा रही ये चाल
X
सीमा पर पहरा देते चीन के हेलीकाप्टर की फाइल फोटो
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली। चीन बीते कई दिनों से सीमा पर हलचल करते नजर आ रहा है। कई बार तो चीनी हेलीकॉप्टरों ने सीमा के अंदर घूसने की कोशिश भी की। ऐसे में भारत-चीन सीमा विवाद के चलते चीन ने अपना पहला मानवरहित हेलिकॉप्टर बनाया है। चीन ने ये मानवरहित हेलिकॉप्टर विशेषरूप से पठारी इलाकों में जासूसी करने के लिए बनाया है। इस पर चीनी मीडिया का दावा है कि इस अत्याधुनिक मानवरहित हेलिकॉप्टर की तैनाती भारत से लगी सीमाओं पर हो सकती है। जिससे चीन सीमाओं पर आसमान से ही बिना किसी को पता चले नजर रखी जा सके।

ये भी पढ़ें...मौलना साद पर बड़ी खबर, क्राइम ब्रांच ने 5 करीबियों के पासपोर्ट किए जब्त

निगरानी, जासूसी जैसे मिशन में

चीन के इस मानवरहित हेलिकॉप्टर का नाम AR500C है। इसे चीन की सरकारी कंपनी एविएशन इंडस्ट्री कॉर्पोरेशन ऑफ चाइना (एवीआईसी) ने बनाया है। इस कंपनी ने पूर्वी चीन के जियांसी प्रांत के पोयांग में इसे पहली बार उड़ाया। इसने बहुत अच्छे से काम किया। जैसा कंपनी चाहती थी।

इसी सिलसिले में चीन की वेबसाइट ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, इस मानवरहित हेलिकॉप्टर का उपयोग भारत की सीमाओं के इलाके में निगरानी, जासूसी जैसे मिशन में किया जा सकता है।

आगे बताया कि इसमें हथियार लगा दिए जाएं तो यह हेलिकॉप्टर हमला भी कर सकता है। कार्गों डिलीवरी कर सकता है। दुश्मन के टारगेट की पहचान करने में समर्थ है। परमाणु और रासायनिक लीकेज की जानकारी भी दे सकता है।

ये भी पढ़ें...Airtel Vs Jio: इस पैक में मिल रहा 50GB डेटा, जानिए किसका है बेस्ट प्लान

चीन का पहला ऐसा हेलिकॉप्टर

बता दें कि यह हेलिकॉप्टर अधिकतम 6700 मीटर यानी 21981 फीट की ऊंचाई तक उड़ सकता है। इसकी अधिक तम स्पीड 170 किलोमीटर प्रतिघंटा है। इसका वजन 500 किलोग्राम है।

एविएशन इंडस्ट्री कॉर्पोरेशन ऑफ चाइना के टेक्नोलॉजी डायरेक्टर और हेलिकॉप्टर को बनाने वाले वैज्ञानिक फैंग योंगहोंग ने बताया कि यह मानवरहित हेलिकॉप्टर पूरी तरह से डिजिटल है। यह अपने आप टेकऑफ और लैंडिंग कर सकता है। ये चीन का पहला ऐसा हेलिकॉप्टर है जिसे पठारी इलाकों की निगरानी के लिए बनाया गया है।

ये भी पढ़ें...सेना से कांपे आतंकी: खूंखार आका का हुआ ये हाल, लगातार चल रही मुुठभेड़

वैज्ञानिक फैंग योंगहोंग ने बताया कि हमने इसके उड़ान का सफल परीक्षण कर लिया है। इसमें चीन का सबसे अत्याधुनिक और ताकतवर इंजन लगा है।

इसके साथ ही चीन के रक्षा विशेषज्ञ फू क्विनशाओ ने बताया कि पठारी इलाकों में बेहद नीचे विमान या हेलिकॉप्टर उड़ाना बहुत मुश्किल होता है। ऐसी हालत में ये मानवरहित हेलिकॉप्टर बहुत मदद करेगा।

ये भी पढ़ें...पूर्व सीएम कोरोना पॉजिटिव, राज्य में मचा हड़कंप

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story