×

पाकिस्तान में रमजान में खुलेंगी मस्जिदें, खुद ही कोरोना को बुलावा क्यों दें रहे इमरान

इस्लामिक धार्मिक समूहों के दबाव के चलते पाकिस्तान की इमरान सरकार ने मस्जिद बंद रखने का अपना फैसला वापस ले लिया है। वहीं इसके बाद अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान मस्जिदों को खुली रखने के फैसले का बचाव करते नजर आ रहे हैं।

Shreya
Updated on: 22 April 2020 5:47 AM GMT
पाकिस्तान में रमजान में खुलेंगी मस्जिदें, खुद ही कोरोना को बुलावा क्यों दें रहे इमरान
X
पाकिस्तान में रमजान में खुलेंगी मस्जिदें, खुद ही कोरोना को बुलावा क्यों दे रहे इमरान
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

इस्लामाबाद: कोरोना वायरस से इस वक्त पूरी दुनिया जूझ रही है। इस वायरस से पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान भी अछूता नहीं है। जहां एक तरफ सभी देशों में कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मंदिर और मस्जिद बंद रखे गए हैं। वहीं पाकिस्तान में लगातार बढ़ रहे मामलों के बावजूद भी रमजान के महीने में मस्जिद बंद रखने का फैसला वापस ले लिया गया है।

रमजान के महीने में मस्जिदों खोलने की मिली इजाजत

साथ ही रमजान के महीने में मस्जिदों सामूहिक नमाज भी होगी। इस्लामिक धार्मिक समूहों के दबाव के चलते पाकिस्तान की इमरान सरकार ने मस्जिद बंद रखने का अपना फैसला वापस ले लिया है। वहीं इसके बाद अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान मस्जिदों को खुली रखने के फैसले का बचाव करते नजर आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें: भाजपाइयों में कोरोना संक्रमण का खतरा! यहां सभी मोदी-योगी रसोई बंद

PM ने फैसले का किया बचाव

कल यानि मंगलवार को जब पाक PM इमरान खान से सवाल पूछा गया कि दुनिया भर के सभी इस्लामिक देशों में कोरोना वायरस के चलते मस्जिदों को बंद रखा गया है तो पाकिस्तान में उल्टा फैसला क्यों लिया जा रहा है? इस सवाल के जवाब में इमरान खान ने कहा कि हम एक स्वतंत्र देश हैं। उन्होंने कहा कि मुझे पुलिस को लोगों को पीटते हुए देखकर बहुत बुरा लगता है। रमजान का महीना इबादत का महीना होता है।

यह भी पढ़ें: कोरोना को लेकर केंद्र और पश्चिम बंगाल सरकार में ठनी, कोर्ट ने सुनाया ये सख्त फरमान

एक स्वतंत्र समाज ऐसा नहीं होता- इमरान

इमरान खान ने कहा कि लोग मस्जिद जाना चाहते हैं। क्या हम उन्हें बलपूर्वक रोकें। अगर वे जाते हैं तो पुलिस को इबादत करने वाले लोगों को जेल में डालना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि एक स्वतंत्र समाज ऐसा नहीं होता। स्वतंत्र समाज में लोग साथ आते हैं। लोग खुद अपने दिमाग का इस्तेमाल करते हैं और स्वतंत्र रुप से देश के लिए क्या बेहतर है और क्या नहीं इसका फैसला लेते हैं।

लोगों को करने होंगे 20 दिशानिर्देशों का पालन

हालांकि तमाम दलीलों के बाद इमरान खान ने कहा कि अगर लोग नियमों का पालन नहीं करेंगे तो ऐसी स्थिति में ये फैसला पलटना पड़ सकता है। उन्होंने कहा कि मस्जिद जाकर नमाज पढ़ने वाले लोगों को 20 सूत्रीय गाइडलाइंस का पालन करना होगा। मौलवियों के साथ 20 दिशानिर्देशों पर सहमती बनी है।

यह भी पढ़ें: मुरादाबाद में चार पत्थरबाज निकले कोरोना पॉजिटिव, पुलिस व जेल प्रशासन में हड़कंप

अगर नियमों का पालन नहीं करते तो...

इस दौरान पाक PM ने लोगों से अपील की कि वे घर से इबादत करें, लेकिन अगर आप मस्जिद जाना चाहते हैं तो आपको इन 20 दिशानिर्देशों का पालन करना होगा। अगर इन गाइडलाइन का पालन नहीं किया गया और रमजान महीने में किसी भी मस्जिद से वायरस फैलता है तो फिर कोई अन्य विकल्प नहीं रह जाएगा और मजबूरन हमें मस्जिदें बंद करनी होगी।

इमरान खान का कराया जाएगा कोरोना टेस्ट

वहीं खबरें आ रही हैं कि पड़ोसी मुल्क के प्रधानमंत्री इमरान खान तक कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी है। सूत्रों के मुताबिक, उन्हें जल्ह ही क्वारनटीन किया जा सकता है। पाकिस्तान में कोरोना वायरस महामारी पर ब्रीफिंग करने वाले डॉ. फैसल सुल्तान ने कहा कि इमरान खान का कोरोना वायरस टेस्ट किया जाएगा। बताया जा रहा है कि इमरान खान एक संक्रमित शख्स के संपर्क में आए थे।

यह भी पढ़ें: Covid-19: इस देश में है सिर्फ 4 वेंटीलेटर और हैं 5 उपराष्ट्रपति, इन देशों में एक भी नहीं

अब तक 9500 से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित

आपको बता दें कि पाकिस्तान में कोरोना वायरस तेजी से अपने पैर पसार रहा है। वहां पर अब तक 9500 से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। जबकि 200 लोगों की इस घातक वायरस के चलते जान जा चुकी है। पाकिस्तान सरकार के हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना ह कि अप्रैल के आखिरी तक देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 12 से 15 हजार के पार जा सकती है। इसके बाद भी पाकिस्तान सरकार ने रमजान महीने में मस्जिद खोले रखने का एलान कर दिया है।

पाकिस्तान खुद ही कोरोना को दे रहा बुलावा

आपको बता दें कि पाकिस्तान में पहले से ही भुखमरी और अर्थव्यवस्था गिरने के चलते देश को पूरी तरह से लॉकडाउन नहीं किया गया है। अब सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों से भी खिलवाड़ किया जा रहा है। पाकिस्तान खुद ही कोरोना को बुलावा दे रहा है। बता दें कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WH0) ने भी कोरोना के रोकथाम के लिए लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पुरजोर समर्थन किया है।

यह भी पढ़ें: इसके लिए ट्रंप ने भारत को दी थी धमकी लेकिन अमेरिका में काम नहीं आई

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story