कोरोना ने इस शक्तिशाली देश की खोल कर रख दी पोल, राष्ट्रपति पर उठे सवाल

कोरोना का कहर दुनिया भर में जारी है। दुनिया के शक्तिशाली देश भी इसके खिलाफ जद्दोजहद कर रहे हैं। इस महामारी ने दुनिया में सबसे विकसित देशों की भी पोल खोल कर रख दी है…

Published by Ashiki Patel Published: March 25, 2020 | 8:07 pm
Modified: March 25, 2020 | 8:17 pm

नई दिल्ली: कोरोना का कहर दुनिया भर में जारी है। दुनिया के शक्तिशाली देश भी इसके खिलाफ जद्दोजहद कर रहे हैं। इस महामारी ने दुनिया में सबसे विकसित देशों की भी पोल खोल कर रख दी है। करीब एक महीने पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा था कि अमेरिका में कोरोना वायरस पूरी तरह से कंट्रोल में है। लेकिन अब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि पूरी दुनिया में तबाही मचा देने वाले कोरोना वायरस का अगला केंद्र अमेरिका हो सकता है।

ये भी पढ़ें: क्वारंटाइन में रहकर एक शख्स ने लड़की के साथ की ऐसी हरकत,VIDEO कर देगा हैरान

लंबे समय से कोरोना के खतरे को नकारते आए हैं-

बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप इस भयावह वायरस के खतरे को लंबे समय से नकारते आए हैं। वहीँ जब स्वास्थ्य सलाहकार दुनिया को पूरी तैयारी से रहने की सलाह दे रहे थे तब अमेरिकी सरकार कोरोना को कम कर दिखाने की कोशिश कर रही थी। डोनाल्ड ट्रंप ने अपने एक बयान में ये भी कहा था, ‘ये एक जादू की तरह गायब हो जाएगा’।

ये भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ जंग में बीएचयू IIT का बड़ा कदम, केंद्रीय मंत्री ने भी की तारीफ

वहीँ अमेरिका में कोरोना के बढ़ते मामलों ने सरकार की अधूरी तैयारी और स्वास्थ्य सुविधाओं में लापरवाही की पोल खोल दी है। अमेरिका में अब तक 54,941 लोग इस वायरस से संक्रमित पाए गए हैं जबकि 784 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है। बीते सोमवार को सिर्फ एक दिन में ही अमेरिका में 100 लोगों की मौतें हो गईं। तेजी से बढ़ते कोरोना के मामले हैरान करने वाले हैं क्योंकि दो सप्ताह पहले ही अमेरिका में कोरोना वायरस के 2000 से भी कम मामले थे। कोरोना के तेजी से बढ़ते मामले को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी जारी कर दी है कि अमेरिका कोरोना वायरस के हॉटस्पॉट बने इटली जैसे देशों को भी पीछे छोड़ सकता है।

ये भी पढ़ें: 10 करोड़ गरीबों तक सीधे पहुंचेगा पैसा, बड़े आर्थिक पैकेज पर काम कर रही सरकार

कम जांच होने की वजह बढ़ रहा है संक्रमण-

विशेषज्ञों ने आशंका जताई है कि अमेरिका में कम टेस्टिंग की वजह से कोरोना वायरस संक्रमण के तमाम मामले अभी तक सामने नहीं आ पा रहे हैं। जिसकी वजह से संक्रमण और बढ़ रहा है। साथ ही उनका कहना है कि कुछ वक्त में यह बड़ा संकट बनकर उभरेगा।

ये भी पढ़ें: कनिका की हालत स्थिर, पुलिस के हाथ लगी उनके दोस्त की रिपोर्ट निगेटिव