×

फेसबुक ने ट्रंप के खिलाफ उठाया ये कठोर कदम, अब क्या करेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति

फेसबुक ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ कड़ा कदम उठाया है। फेसबुक ने राष्ट्रपति ट्रंप के विज्ञापन को हटा दिया है और कहा कि उनका विज्ञापन नफरत फैलाता है।

Dharmendra kumar
Updated on: 19 Jun 2020 6:26 AM GMT
फेसबुक ने ट्रंप के खिलाफ उठाया ये कठोर कदम, अब क्या करेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

वॉशिंगटन: फेसबुक ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ कड़ा कदम उठाया है। फेसबुक ने राष्ट्रपति ट्रंप के विज्ञापन को हटा दिया है और कहा कि उनका विज्ञापन नफरत फैलाता है। फेसबुक ने विज्ञापन हटाने के बाद कहा कि यह फेसबुक की नीतियों का उल्लंघन कर रहा है।

फेसबुक ने अमेरिकी राष्ट्रपति के विज्ञापन हटाने पर साफ किया कि उसकी पॉलिसी ऐसे नफरत वाले पोस्ट शेयर करने के खिलाफ है। फेसबुक ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उप-राष्ट्रपति माइक पेंस के अभियान वाले विज्ञापनों को अपने सोशल साइट्स से हटा दिया है।

यह भी पढ़ें...US के पूर्व सुरक्षा सलाहकार का बड़ा खुलासा, ट्रंप का दोबारा सत्ता में आना हुआ मुश्किल

इस विज्ञापन में लाल रंग का एक त्रिकोण निशान बनाया गया था। इसके साथ ही इस विज्ञापन में लेफ्ट ग्रुप एंटिफा की आलोचना भी की गई थी। ट्रंप प्रशासन ने अमेरिका में हिंसक प्रदर्शनों के लिए एंटीफा को दोषी बताया था।

यह भी पढ़ें...चीनी सेना का खुलासा: इंडियन आर्मी को बनाया बंधक, अब चुुप नहीं बैठेगा भारत

नाथनियल ग्लीचर, सुरक्षा नीति के प्रमुख ने हाउस इंटेलिजेंस कमेटी की सुनवाई में बताया कि विज्ञापनों को हटा दिया गया है। इसके साथ कहा कि फेसबुक घृणित विचारधारा के प्रतीकों की अनुमति नहीं देता है जब तक कि वे संदर्भ या निंदा के साथ नहीं डालते हैं।

यह भी पढ़ें...सेना को बड़ी कामयाबी: ताबड़तोड़ एनकाउंटर, सुरक्षाबलों ने 8 आतंकियों को किया ढेर

बता दें कि इस विज्ञापन में लाल त्रिकोण के अलावा ऐसे निशान थे जिसे जर्मनी के नाजी शासक प्रयोग करते थे। इस विज्ञापन को हटाने से पहले लाखों लोगों ने इसे देख लिया था। विज्ञापन में लाल रंग के त्रिकोण पर आपत्ति थी। एंटी डीफेमेशन लीग का कहना है कि यह नाजी शासन से जुड़ा हुआ है। नाजी कंसेंट्रेशन सेंटर में बंद राजनीतिक कैदियों, कम्युनिस्टों और अन्य के लिए इस प्रतीक का इस्तेमाल किया जाता था।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story