चीन की मिसाइलें तैनात: पूरे भारत में मच सकता है हाहाकार, अलर्ट हुए सभी देश

पूर्वी लद्दाख में भारत के साथ जारी तनाव के बीच चीन अपने कब्जे वाले अक्‍साई च‍िन इलाके में किलर म‍िसाइलें तैनात कर रहा है। वार्ता बेनतीजा रहने के बाद चीनी सेना अब बड़े पैमाने में घातक हथियार तैनात करने में जुट गई है।

china nuclear missiles

चीन की मिसाइलें तैनात: पूरे भारत में मच सकता है हाहाकार, अलर्ट हुए सभी देश (फाइल फोटो)

पेइचिंग: पूर्वी लद्दाख में भारत के साथ जारी तनाव के बीच चीन अपने कब्जे वाले अक्‍साई च‍िन इलाके में किलर म‍िसाइलें तैनात कर रहा है। सीमा पर तनाव कम करने के लिए भारत के साथ हुई वार्ता बेनतीजा रहने के बाद चीनी सेना अब बड़े पैमाने में घातक हथियार तैनात करने में जुट गई है। चीन की PLA अक्‍साई च‍िन में मध्‍यम दूरी तक मार करने वाली किलर म‍िसाइलें तैनात कर रही है। बता दें कि इन किलर मिसाइलों की संख्या और रेंज इतनी ज्यादा है कि ड्रैगन इसके जरिए पूरे भारत को अपना निशाना बना सकता है।

भारतीय सेना ने भी तैनात कीं घातक हथियारें

वहीं चीन को कड़ी टक्कर देने के लिए भारतीय सेना की तरफ से भी बड़ी संख्या में घातक हथियारों की तैनाती की गई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, चीन भारत को धमकाने के लिए अक्‍साई चिन में इन खतरनाक मिसाइलों की तैनाती कर रहा है। सैटेलाइट तस्वीरों में खुलासा हुआ है कि चीन ने पूरे अक्‍साई चिन इलाके में स्थित चीनी एयर बेस में मिसाइलों, तोपों और लंबी दूरी तक मार करने में सक्षम रॉकेट की तैनाती कर दी है।

यह भी पढ़ें: कहां भागोगे मुख्‍तार: नहीं छोड़ेने वाली यूपी पुलिस, अब रद्द हुए शस्त्र लाइसेंस

मिसाइलों को छिपाने के लिए कर रहा ऐसा

इसके अलावा चीन मिसाइलों को छिपाने के लिए जमीन के अंदर ठिकाने बनाने में भी जुटा हुआ है। ताकि वे सैटेलाइट में कैद ना हो सकें और किसी हमले में नष्ट भी ना हों। इसके साथ ही चीन सैन्य ठिकानों पर सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलें भी देखी गई हैं। कहा जा रहा है कि अगर भारत और चीन में सहमति बन भी जाती है तो इन मिसाइलों को अक्साई चिन इलाके से हटाने में बहुत वक्त लगेगा। विश्लेषकों का कहना है कि चीन भारत के साथ मनोवैज्ञानिक युद्ध लड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: बदहाल पटरी दुकानदार: झेल रहे आर्थिक तंगी, नगर निगम के खिलाफ प्रदर्शन

Indian Army
मनोवैज्ञानिक युद्ध से परेशान नहीं भारतीय सेना (फोटो- सोशल मीडिया)

मनोवैज्ञानिक युद्ध से परेशान नहीं भारतीय सेना

वहीं दूसरी ओर भारतीय सेना चीन की PLA के मनोवैज्ञानिक युद्ध से बिल्कुल भी परेशान नहीं है। सूत्रों के मुताबिक, भारतीय सेना चीन के किसी भी चाल का जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार है। भले ही चीन के पास बड़ी संख्या में पूरे भारत को निशाना बनाने वाली मिसाइलें हों, लेकिन भारत इसका जवाब देने के लिए बिल्कुल तैयार है। रक्षा मामलों के विशेषज्ञों का कहना है कि चीन की मध्‍यम दूरी की मिसाइलें परमाणु हथियारों से लैस है, लेकिन उसने वॉरहेड भी तैयार किए हैं। गैर परमाणु हमले में ये चीनी मिसाइलें बहुत ज्‍यादा क्षति पहुंचा सकती हैं।

यह भी पढ़ें: एक्ट्रेस से हिला बॉलीवुड: ड्रग केस में सामने आया नाम, NCB के हाथ लगे सबूत

भारत ने चीन के सामने कड़ी रखीं शर्ते

बता दें कि पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव कम करने के लिए भारत और चीन के बीच सोमवार को लंबी बातचीत हुई। करीब 12 घंटे तक चली कोर कमांडर स्तर की बैठक के दौरान भारत ने चीन के सामने कड़ी शर्ते रखीं। भारत ने जोर देकर कहा कि चीन की सेना ने भारतीय जमीन पर घुसपैठ का प्रयास किया है और इसलिए उसे पीछे हटकर सीमा विवाद को सुसझाने की दिशा में ठोस कदम उठाने होंगे। वहीं चीनी पक्ष का कहना था कि भारतीय सेना को इन इलाकों से पहले हटना चाहिए।

यह भी पढ़ें: NASA की बड़ी भविष्यवाणी: 2024 में होगा ऐसा, दुनिया सिर उठाकर देखती रह जाएगी

मंगलवार को हो सकती है वार्ता

दोनों पक्ष इस बात पर रजामंद दिखे कि बातचीत जारी रखते हुए दोनों देशों के बीच आपसी विश्वास बढ़ाया जा सकता है और अप्रैल से पहले की यथास्थिति कायम रखने में कामयाबी पाई जा सकती है। जानकार सूत्रों का कहना है कि दोनों पक्षों के बीच मंगलवार को फिर बातचीत हो सकती है। विदेश मंत्री एस जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच 10 सितंबर को हुई मुलाकात के बाद इस बातचीत की पृष्ठभूमि तैयार हुई थी।

यह भी पढ़ें: बलात्कारी पर ताबड़तोड़ गोलियां: मासूम बच्ची को बनाया था शिकार, मिली ऐसी सजा   

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App