टेेंशन फ्री देश: आखिर क्यों खुश रहते हैं यहां के लोग, मजे में जीते हैं जिंदगी

आज हम आपको एक ऐसे देश के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे दुनिया का सबसे खुशहाल देश माना जाता है। हम बात कर रहे हैं फिनलैंड की। फिनलैंड में लोग समय के काफी पाबंद और मेहनती लोग होते हैं

टेेंशन फ्री देश: आखिर क्यों खुश रहते हैं यहां के लोग, मजे में जीते हैं जिंदगी

टेेंशन फ्री देश: आखिर क्यों खुश रहते हैं यहां के लोग, मजे में जीते हैं जिंदगी

आज हम आपको एक ऐसे देश के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे दुनिया का सबसे खुशहाल देश माना जाता है। हम बात कर रहे हैं फिनलैंड की। फिनलैंड में लोग समय के काफी पाबंद और मेहनती लोग होते हैं, जिसकी वजह से यह देश दुनिया के सबसे खुशहाल देशों की रैंकिंग में पहला स्थान प्राप्त कर चुका है। फिनलैंड अपने कई सारी अनोखी चीजों के लिए जाना जाता है। तो आज हम आपको इसी देश के बारे में कुछ इंटरेस्टिंग फेक्ट्स बताने जा रहे हैं, जिनके बारे में शायद ही आप जानते हों।

जानें फिनलैंड देश की खासियत

1-  बता दें कि फिनलैंड में एजुकेशन यानि शिक्षा बिल्कुल मुफ्त है।

2- फिनलैंड में जब तक बच्चे 17 साल तक के नहीं हो जाते हैं तब तक उनका सारा खर्च सरकार उठाती है।

3- यह देश कचरा रिसाइक्लिंग के मामले में नंबर वन पर बना हुआ है।

यह भी पढ़ें: सहवाग का ‘बाल’ और शोएब अख्तर का ‘माल’, जानेें क्यों मचा है बवाल

4- बहुत से देश ऐसे हैं जहां पर लोग जल्दी पुलिस पर भरोसा नहीं करना चाहते हैं, लेकिन फिनलैंड के लगभग 90 प्रतिशत लोग पुलिस पर भरोसा करते हैं।

5- इसके अलावा ये देश दुनिया का ऐसा दूसरा देश है, जहां पर कॉफी की खपत सबसे अधिक होती है।

6- फिनलैंड के झीलों का पानी काफी साफ-सुथरा है, जिसका घर के नल से भी सेवन किया जा सकता है। साथ ही यहां के लगभग हर रेस्तरां में पानी बिल्कुल फ्री दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: बाल पर बनाया रिकॉर्ड: लंबाई जान यकीन नहीं कर पाएंगे आप

7- वहीं फिनलैंड दुनिया का पहला ऐसा देश है, जहां के हर नागरिक के पास उच्च स्तर (High Level) का इंटरनेट इस्तेमाल करने का अधिकार है।

8- साथ ही दुनिया का सबसे अच्छा पिज्जा फिनलैंड में मिलता है।

9- फिनलैंड दुनिया का पहला ऐसा देश है, जहां पर बच्चों की देखभाल सबसे ज्यादा समय तक पिता करते हैं। यहीं नहीं यहां पर पिता को बच्चे की देखभाल के लिए 9 सप्ताह की छुट्टी भी दी जाती है। छुट्टी के दौरान पिता को उसकी औसत सैलेरी का 70% दिया भी जाता है।

10- फिनलैंड के लैपलैंड क्षेत्र में एक छोटा सा गांव जौलुपुक्की है। जिसे सांता क्लॉज का गांव माना जाता है।

यह भी पढ़ें: उम्मीदवार CTET के लिए हो जाएं तैयार, 24 जनवरी से आवेदन शुरु